--Advertisement--

किसान फैमिली से है ये आईपीएस ऑफिसर, इस वजह से फिर आए चर्चा में

आनंदपाल एनकाउंटर में शामिल हरियाणा के आईपीएस बिजारणिया सहित कई पुलिसवालों से सीबीआई ने पूछताछ की।

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2018, 01:32 AM IST
आईपीएस बिजारणिया फिलहाल सिरसा में एएसपी पद पर अप्वाइंट हैं।  वे 2015 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं। आईपीएस बिजारणिया फिलहाल सिरसा में एएसपी पद पर अप्वाइंट हैं। वे 2015 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं।

चुरू( राजस्थान). बृहस्पतिवार को आनंदपाल एनकाउंटर में शामिल हरियाणा के आईपीएस बिजारणिया सहित कई पुलिसवालों से सीबीआई ने पूछताछ की। इस केस में हरियाणा पुलिस के 10 से अधिक जवानों से पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किए गए हैं। हरियाणा के पुलिस वालों से सीबीआई की टीम ने सुबह करीब 10 बजे से लेकर दोपहर करीब दो बजे तक पूछताछ की। चार घंटे तक चली पूछताछ

- चार घंटे तक चली पूछताछ के बाद आईपीएस बिजारणिया अपनी टीम के साथ चूरू से रवाना हो गए।

- बताया जा रहा है कि सीबीआई की टीम अब राजपूत समाज के नेताओं से भी पूछताछ करेगी। कुछ को नोटिस भी भिजवाए गए हैं।

कौन हैं आईपीएस बिजारणिया

- बता दें कि आईपीएस बिजारणिया फिलहाल सिरसा में एएसपी पद पर अप्वाइंट हैं। वे 2015 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं। इससे पहले वे 2011 से 2014 तक सेंट्रल एक्साइज एंड कस्टम डिपार्टमेंट में रहे।
- आनंदपाल एनकांउटर के समय वे ट्रेनी आईपीएस के रूप में अप्वाइंट थे।

वे मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के रहने वाले हैं। उनके पिता खेती करते हैं, जबकि उनकी मां हाउसवाइफ हैं।

- आईपीएस नरेंद्र ने मालवीय राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कीऔर फिर पुलिस सर्विसेज को चुना।


ट्रेनिंग के आखिरी दिन इस IPS ने कराया गैंगस्टर का एनकाउंटर
- बतौर ट्रेनी आईपीएस नरेंद्र को फरवरी 2017 में हरियाणा के सिरसा जिला में भेजा गया था। यहां उन्हें थाना डिंग का कार्यभार सौंपा गया था।
- नरेंद्र को एक मुखबिर ने इनफॉर्मेशन दी थी कि गांव शेरपुरा में सुरेंद्र नाम के शख्स के घर कुख्यात आनंदपाल के भाई छिपे हैं।
- आईपीएस नरेंद्र ने इस बात की सूचना एसएसपी को दी। एसएसपी ने राजस्थान पुलिस को सूचना देकर नरेंद्र के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया था।
- पुलिस फोर्स ने घर की घेराबंदी कर आनंदपाल के भाई विक्की और देवेंद्र को हथियारों के साथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में दोनों ने आनंदपाल के चुरू जिले के मालासर में छुपे होने की जानकारी दी थी।

- इसके बाद नरेंद्र अपनी टीम के साथ राजस्थान के स्पेशल ऑपरेशनल ग्रुप के साथ मिले और आनंदपाल की घेराबंदी की।
- पुलिस फोर्स से खुद को घिरा देख गैंगस्टर आनंदपाल ने लगभग 100 राउंड फायर किए, जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल हुए थे।
- पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आनंदपाल को मार गिराया था।

आईपीएस बिजारणिया ने मालवीय राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की आईपीएस बिजारणिया ने मालवीय राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की
नरेंद्र  मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के रहने वाले हैं। नरेंद्र मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के रहने वाले हैं।
चार घंटे तक चली पूछताछ के बाद आईपीएस बिजारणिया अपनी टीम के साथ चूरू से रवाना हो गए। चार घंटे तक चली पूछताछ के बाद आईपीएस बिजारणिया अपनी टीम के साथ चूरू से रवाना हो गए।
नरेंद्र ने अपने ट्रेनिंग के अंतिम दिन गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर कराया था। नरेंद्र ने अपने ट्रेनिंग के अंतिम दिन गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर कराया था।
बतौर ट्रेनी आईपीएस नरेंद्र को फरवरी 2017 में हरियाणा के सिरसा जिला में भेजा गया था। बतौर ट्रेनी आईपीएस नरेंद्र को फरवरी 2017 में हरियाणा के सिरसा जिला में भेजा गया था।
X
आईपीएस बिजारणिया फिलहाल सिरसा में एएसपी पद पर अप्वाइंट हैं।  वे 2015 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं।आईपीएस बिजारणिया फिलहाल सिरसा में एएसपी पद पर अप्वाइंट हैं। वे 2015 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं।
आईपीएस बिजारणिया ने मालवीय राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कीआईपीएस बिजारणिया ने मालवीय राष्‍ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की
नरेंद्र  मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के रहने वाले हैं।नरेंद्र मूल रूप से राजस्थान के सीकर जिले के रहने वाले हैं।
चार घंटे तक चली पूछताछ के बाद आईपीएस बिजारणिया अपनी टीम के साथ चूरू से रवाना हो गए।चार घंटे तक चली पूछताछ के बाद आईपीएस बिजारणिया अपनी टीम के साथ चूरू से रवाना हो गए।
नरेंद्र ने अपने ट्रेनिंग के अंतिम दिन गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर कराया था।नरेंद्र ने अपने ट्रेनिंग के अंतिम दिन गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर कराया था।
बतौर ट्रेनी आईपीएस नरेंद्र को फरवरी 2017 में हरियाणा के सिरसा जिला में भेजा गया था।बतौर ट्रेनी आईपीएस नरेंद्र को फरवरी 2017 में हरियाणा के सिरसा जिला में भेजा गया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..