Hindi News »Haryana »Ambala» Couple Arrest Drug Smuggling Case

प्राइवेट पार्ट में छिपाकर महिला करती रही स्मगलिंग, ऐसे बनाई करोड़ों की प्रॉपर्टी

र करोड़ों की प्रॉपर्टी के दस्तावेज बरामद किए हैं। इसे स्वीटी ने जेल में कैद पति के कहने पर तस्करी करके जुटाया है।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 03, 2018, 07:02 AM IST

प्राइवेट पार्ट में छिपाकर महिला करती रही स्मगलिंग, ऐसे बनाई करोड़ों की प्रॉपर्टी

अंबाला. प्राइवेट पार्ट में मादक पदार्थ छिपाकर तस्करी करने वाली शालीमार काॅलोनी की स्वीटी के एसबीआई मंडी ब्रांच स्थित लॉकर से एसटीएफ ने अफीम, लाखों के जेवर और करोड़ों की प्रॉपर्टी के दस्तावेज बरामद किए हैं। इसे स्वीटी ने जेल में कैद पति के कहने पर तस्करी करके जुटाया है।

खास बात यह है कि एसटीएफ मोहाली ने इसकी जानकारी अम्बाला पुलिस को देना भी जरूरी नहीं समझा। जबकि यह कार्रवाई बैंक की चारदीवारी के बीच पूरे तीन घंटे चलती रही। पुलिस ने चंडीगढ़ के एक्सपर्ट की मदद से स्वीटी का लॉकर तोड़कर 117 ग्राम अफीम, 707.47 ग्राम सोना, 1 लाख, 91 हजार, 331 रुपए और 12 प्रॉपर्टियों की रजिस्ट्रियां व बयाने मिले हैं। मोहाली पुलिस ने स्वीटी को छह दिसंबर को 327 ग्राम हेरोइन सहित पकड़ा था। अब अहम जानकारी मिलने के बाद इसे दोबारा कोर्ट से प्रोडक्शन वारंट लगाकर अम्बाला स्थित एसबीआई लाया गया।

सजायाफ्ता स्वीटी ने पुलिस के सामने फाड़े थे कपड़े: करीब 12 साल से स्वीटी तस्करी के कारोबार से जुड़ी है। अम्बाला पुलिस भी कई बार उसे पकड़ चुकी है। उसे कोर्ट से एक मामले में तीन साल की सजा भी हो चुकी है। यही नहीं, उसका पति बलदेव भी तस्करी के मामले में दस साल की सजा काट रहा है। जब वर्ष 2016 में पुलिस इसे तस्करी के एक मामले में गिरफ्तार करने पहुंची तो इसने अपने कपड़े तक फाड़ लिए थे। बावजूद इसके पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके सलाखों के पीछे धकेल दिया था।

12 साल में पति के साथ मिलकर बनाई ये प्रॉपर्टी
शालीमार काॅलोनी में 5 मरले का प्लॉट जो बलदेव के नाम है। जिसकी रजिस्ट्री 7 अप्रैल, 2015 में हुई।
150 गज का प्लॉट कमल विहार कालोनी रकबा पत्ती रंगड़ा में जिसकी 28 मार्च 2006 में रजिस्ट्री हुई।
सिविल लाइन काॅलोनी में 150 गज का प्लॉट जिसकी रजिस्ट्री 13 अक्टूबर, 2011 को हुई।
इकरारनामा पुरानी मिर्च मंडी सर्कुलर रोड में 9 मरले का प्लॉट जिसकी बयाना 4 अगस्त, 2015 को हुआ।
इकरारनामा हीरा नगर रोड 150 गज का प्लॉट जिसका बयाना 25 फरवरी, 2011 को हुआ।
96 गज का प्लॉट का बयाना स्वीटी के नाम 29 अगस्त, 2016 को हुआ।
2 अगस्त, 2011 में बलदेव के नाम पर एक प्लॉट की रजिस्ट्री है।
13 अक्टूबर, 2011 में बलदेव के नाम 150 गज का प्लॉट।
शिवलिंग कॉलोनी में 150 गज का प्लॉट जिसकी खरीदफरोख्त 28 जनवरी, 2013 को हुई।
ऐसे ही 150-150 गज के दो प्लॉटों की रजिस्ट्रियां भी हुई और इसके अतिरिक्त एक 82 गज का प्लॉट और है।

राजस्थान की कोटा पुलिस की मोस्ट वांटेड है स्वीटी
स्वीटी जीआरपी राजस्थान कोटा पुलिस की वांटेड है। इसके अलावा उस पर अमृतसर, सीआईए संगरूर और चंडीगढ़ सहित अन्य शहरों में एनडीपीएस की तस्करी के मामले दर्ज हैं। खास बात है कि अम्बाला पुलिस भी इसे कई बार काबू कर चुकी है, लेकिन आज तक कभी इसके लॉकर तक नहीं पहुंच पाई। मोहाली पुलिस ने इसके कारोबार का पर्दाफाश कर दिया। पुलिस पौने चार बजे बैंक पहुंची। करीब पौने 8 बजे सारा सामान बरामद करने के बाद वापस लौट गई।

नाइजीरियन से मंगवाते थे हेरोइन दिल्ली से उठाती रही
शादीशुदा स्वीटी के पति बलदेव पर एनडीपीएस के कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। उसे एक मामले में 10 साल की सजा हुई है। जेल में कैद बलदेव ने मनोज कुमार उर्फ मामू के साथ मिलकर एक गैंग तैयार किया और फिर वह तस्करी के कारोबार में पूरी तरह से जुड़ गए। यह नाइजीरियन की मदद से हेरोइन मंगवाते थे। जिसे दिल्ली बाइपास पर स्वीटी हासिल करती थी। इस खरीद-फरोख्त की अदायगी संगरूर धनौर निवासी गुरप्रीत सिंह करता है। जिसे बाद में स्वीटी अन्य शहरों तक पहुंचाती है।

चाबियां गुम होने की कही थी बात
स्वीटी पर अम्बाला में भी एनडीपीएस के केस दर्ज हैं, लेकिन कभी पुलिस इसके बैंक लॉकर तक पहुंची ही नहीं। एसटीएफ ने जब लॉकर खोलने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी तो स्वीटी ने कहा था कि चाबियां गुम हो गई हैं। इस कारण लॉकर को तुड़वाना पड़ा। इसे तोड़ने में तीन घंटे लगे। इसके लिए मुंबई से एक्सपर्ट बुलाया गया था।

3 घंटे तक चली लॉकर तोड़ने की कार्रवाई
मोहाली पुलिस काेर्ट आदेश लेकर आई थी। इसके बाद चंडीगढ़ से एक्सपर्ट को लॉकर तोड़ने के लिए बुलाया गया। पुलिस ने लॉकर से जो सामान बरामद किया, उसे अपने साथ ले गई। यह कार्रवाई तीन घंटे तक चली। तरसेम सिंह, मैनेजर, एसबीआई मंडी ब्रांच अम्बाला।
पुलिस ने लॉकर से अफीम व अन्य सामान बरामद किया है। करोड़ों की प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री भी बरामद की है। केस की जांच चल रही है। राजिंद्र सिंह सोहल, एसपी, एसटीएफ मोहाली।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×