--Advertisement--

मकान मालिक की दो नाबालिग बेटियों को मामा भांजा ले गए जालंधर, बनाए संबंध

दुष्कर्म की पुष्टि होने पर इसमें चार पोक्सो एक्ट भी जोड़ा गया है।

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 07:54 AM IST

यमुनानगर. किडनैप हुईं दोनों नाबालिग बहनों को पुलिस ने जालंधर से बरामद कर लिया। पुलिस ने इस मामले में मामा-भांजा को गिरफ्तार किया है। आरोपी मामा-भांजा दोनों नाबालिग बहनों को अपने जाल में फंसाकर ले गए थे। आरोप है कि वहां पर एक सप्ताह तक दोनों ने नाबालिगों से दुष्कर्म किया। पुलिस ने दोनों बहनों का मेडिकल कराया, जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई। आरोपियों को पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस ने पहले इस मामले में आईपीसी की धारा 363, 366ए और 34 में केस दर्ज किया था। दुष्कर्म की पुष्टि होने पर इसमें चार पोक्सो एक्ट भी जोड़ा गया है।

शहर यमुनानगर थाना के एएसआई एवं मामले की जांच कर रहे ईश्वर सिंह ने बताया कि 28 दिसंबर को सुबह के समय नाबालिग दो बहने विशाल कॉलोनी से लापता हो गईं थीं। परिजनों ने तलाश की, लेकिन पता नहीं चला। जांच में सामने आया कि मकान में किराए पर रह रहे मूल रूप से असम के रहने वाले अभिजीत (मामा) और सुमन वर्मन (भांजा) उन्हें किडनैप कर ले गए हैं। पुलिस ने अभिजीत और सुमन पर किडनैपिंग का केस दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी थी। पुलिस ने कई जगह छापेमारी भी की।

इसी दौरान उन्हें पता चला कि अभिजीत और सुमन के रिश्तेदार जालंधर में रहते हैं, हो सकता है कि दोनों बहनों को लेकर वे वहीं पर गए होंगे। पुलिस को आरोपियों की मोबाइल लोकेशन भी जालंधर की मिल रही थी। पुलिस ने जालंधर में जाकर रेड की। वहां से दोनों नाबालिग बहनों को पहले मुक्त कराया और दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना है कि अभिजीत और सुमन दोनों यमुनानगर में एक फैक्ट्री में मजदूरी करते थे। लंबे समय से पीड़ित बहनों के घर पर किराए पर रह रहे थे।

बाद में शादी करने की बात कहने लगे
पुलिसने बताया कि दोनों बहनों को आरोपियों ने अपनी बातों में उलझा लिया और लेकर फरार हो गए। बाद में जब दोनों बहनें घर जाने की बात कहने लगीं तो उन्होंने शादी की बात कही और शादी का झांसा देकर वे दोनों से दुष्कर्म करते रहे। पुलिस के अनुसार दोनों आरोपी जालंधर में ही मजदूरी करने लग गए थे।