Hindi News »Haryana »Ambala» Jj Board Hearingn On Three Petitions

सवा दो घंटे तक जेजे बोर्ड ने की सुनवाई, याचिकाओं पर 13 को आएगा फैसला

प्रद्युम्नहत्याकांड मामले में शुक्रवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने दायर की गई तीन याचिकाओं पर सुनवाई की।

Bhaskar news | Last Modified - Dec 09, 2017, 08:19 AM IST

सवा दो घंटे तक जेजे बोर्ड ने की सुनवाई,  याचिकाओं पर 13 को आएगा फैसला

गुड़गांव. प्रद्युम्नहत्याकांड मामले में शुक्रवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने दायर की गई तीन याचिकाओं पर सुनवाई की। बहस पूरी होने के बाद बोर्ड ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। इस मामले में 13 दिसंबर को बोर्ड फैसला सुनाएगा। दोपहर 2 बजे सीबीआई द्वारा दायर याचिका पर दोनों पक्षों की बहस हुई, जिसमें आरोपी छात्र के फिंगर प्रिंट देने की अनुमति की मांग की। सीबीआई ने कहा कि फिंगर प्रिंट जांच के लिए जरूरी है। इस पर आरोपी के अधिवक्ताओं ने सीबीआई की याचिका का विरोध किया। इस दौरान सीबीआई ने दो बंद लिफाफे बोर्ड को सौंपे। दूसरी ओर आरोपी को जुवेनाइल के जगह वयस्क मानते हुए मामला जिला एवं सत्र न्यायालय में चलाया जाए।


सुशील टेकरीवाल ने कहा आरोपी को एडल्ट मानकर केस चलाया जाना चाहिए। उन्होंने बताया कि आरोपी 11वीं के छात्र की इससे संबंधित दोनों रिपोर्ट चुकी है। ऐसे में एडल्ट मानकर केस चलाया जाए। सुशील ने कहा कि आरोपी के दोनों रिपोर्ट गई है, लेकिन शुक्रवार को उसे खोला नहीं गया है। जुवेनाइल के आरोपी के वकील ने दो याचिका बोर्ड को दी। जिसमें आरोपी को जल्दबाजी में एडल्ट घोषित किया जाए। दूसरा इसे रोका जाए। इस पर भी दोनों पक्षों के वकीलों ने अपनी दलीलें दीं। इस मामले में दोनों वकीलों ने अपने तर्क बोर्ड के सामने रखा। इसके अलावा आरोपी के अधिवक्ता द्वारा दायर की गई उस याचिका पर भी सुनवाई हुई। इसमें सीबीआई पर आरोप लगाया गया था कि सीबीआई अपनी जांच में आरोपी छात्र को परेशान करती रही। जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने तीनों याचिकाओं पर दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं की बहस सुनकर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। एक अन्य मामले में 11वीं के छात्र के पिता ने बेटे को सीबीआई रिकार्ड में हर जगह आरोपी लिखे जाने संबंधी याचिका को वापस ले लिया है।

18 दिसंबर तक रेयान स्कूल रहेगा डीसी के अंडर
भोडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल 18 दिसंबर तक जिला प्रशासन के अंडर रहेगा। इस दौरान जिला शिक्षा विभाग स्कूल पर निगरानी रखेगा। इसके बाद सरकार फैसला लेगी कि स्कूल को रेयान प्रबंधन को दिया जाए या कुछ माह तक जिला प्रशासन के पास रहे। डीसी विनय प्रताप सिंह ने कहा कि निदेशालय के निर्णय के अनुसार 18 दिसंबर तक जिला प्रशासन स्कूल की देखरेख करेगा। उन्होंने कहा कि स्कूल में नियमित पढ़ाई चल रही है।

हत्याकांड के बाद पुलिस को मिले नौ हजार पुलिस वेरिफिकेशन के आवेदन
प्रद्युम्न हत्याकांड के पास जिला प्रशासन ने सभी निजी स्कूलों को टीचरों कर्मचारियों का पुलिस वेरिफिकेशन अनिवार्य कर दिया था। इसके बाद गुड़गांव पुलिस को 9 हजार आवेदन मिले हैं। पुलिस सभी आवेदन पत्रों की जांच कर रही है। रेयान इंटरनेशलन स्कूल में छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की 8 सितंबर को स्कूल टॉयलेट में चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद डीसी विनय प्रताप सिंह ने धारा 144 के तहत सभी निजी स्कूलों को 8 बिंदुओं पर स्वयं सुरक्षा शपथ पत्र देने का आदेश दिया था। इस पर स्कूलों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन गुड़गांव पुलिस को आवेदन जमा कराए थे। अभी तक गुड़गांव पुलिस के वेरिफिकेशन ब्रांच को जनवरी से अभी तक करीब 13 हजार आवेदन मिले हैं। इसमें प्रद्युम्न केस के बाद 9 हजार आवेदन शामिल है। जांच के बाद पुलिस संबंधित स्कूलों को नो पुलिस क्राइम रिकार्ड का प्रमाण पत्र जारी करने में लगी है। वहीं जिसके कागजात सही नहीं है, उन्हें निरस्त कर दिया जा रहा है। ऐसे में काफी संख्या में आवेदन निरस्त हो रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: svaa do Ghante tak jeje bord ne ki sunvaaee, yaachikaon par 13 ko aayegaaa faislaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ambala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×