--Advertisement--

डायटम टेस्ट : छात्र-छात्रा के शरीर में मिला नरवाना ब्रांच नहर का पानी

झांसा गांव में दसवीं की छात्रा से दरिंदगी और 12वीं के छात्र की मौत मामले में दो हफ्ते बीत चुके हैं।

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 07:16 AM IST

कुरुक्षेत्र. झांसा गांव में दसवीं की छात्रा से दरिंदगी और 12वीं के छात्र की मौत मामले में दो हफ्ते बीत चुके हैं। लेकिन यह गुत्थी पुलिस के लिए उलझन ही बनी हुई है। पुलिस को उम्मीद थी कि केमिकल एग्जामिनेशन से मदद मिलेगी। लेकिन अभी तक पुलिस को सभी जांच रिपोर्ट्स नहीं मिली। पुलिस को शनिवार को डायटम टेस्ट आदि की रिपोर्ट मिली, लेकिन जब तक पूरी रिपोर्ट नहीं आती, तब तक पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकती। सभी रिपोर्ट शुक्रवार तक पुलिस को मिलेंगी।

इधर एडीजीपी मोहम्मद अाकिल ने एसआईटी और जांच टीमों की ली मीटिंग।
अभी नहीं मिली पूरी जांच रिपोर्ट, शुक्रवार तक करना पड़ेगा इंतजार, मौत के असल कारण अभी स्पष्ट नहीं

रिपोर्ट पॉजीटिव : एक्सपर्ट
पुलिस ने इस गुत्थी को सुलझाने के लिए छात्रा और छात्र के शरीर से निकले पानी व नरवाना ब्रांच नहर के पानी नमूने डायटम जांच को भेजे थे। जिससे पता चल सके कि इनकी मौत किस एरिया में हुई है। क्योंकि छात्रा का शव 13 जनवरी को जींद बुढाखेड़ा में रजबाहे की पटरी पर और छात्र का 16 जनवरी को बटेड़ा हेड से मिला था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक डायटम टेस्ट रिपोर्ट एक्सपर्ट ने पॉजीटिव बताई है। यानी दोनों के शरीर में जो पानी है, वह नरवाना ब्रांच नहर का है।

नहर के आसपास ही दोनों की मौत
बेशक दोनों की मौत के असल कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाए, लेकिन डायटम टेस्ट की रिपोर्ट यही इशारा कर रही है कि दोनों की मौत नरवाना ब्रांच नहर किनारे हुई है। अब पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि उनकी मौत पहले हो चुकी थी या बाद में। इसके लिए अभी विसरा व कुछ अन्य केमिकल रिपोर्ट का पुलिस इंतजार कर रही है।

बहकर पहुंच सकता है 100 किमी दूर बुढाखेड़ा
डायटम रिपोर्ट के बाद अब यही संभावना जताई जा रही है कि छात्रा का शव बहते हुए नरवाना से बुढाखेड़ा के रजबाहे तक पहुंचा है। बता दें कि झांसा से बुढाखेड़ा करीब 100 किमी दूर है। नरवाना ब्रांच नहर का पानी बटेड़ा हेड से होते हुए करनाल के मूनक हेड पहुंचता है। यहां से हांसी नहर निकलती है। इससे ही आगे रजबाहे निकलते हैं।
आशंका

ऑनर किलिंग-मर्डर या सुसाइड
पुलिस शुरू से तीन एंगल पर जांच कर रही है। इसमें ऑनरकिलिंग, मर्डर व सुसाइड शामिल हैं, लेकिन ऑनरकिलिंग की संभावना अब पुलिस को भी कम ही दिख रही है। वहीं छात्र के शरीर पर मिले चोट के निशान ऐसे नहीं हैं, जिनसे मौत हो जाए, लेकिन पुलिस सुसाइड को लेकर भी स्पष्ट नहीं है। क्योंकि छात्रा के अंदरूनी अंगों में चोट मिली है।

फाइनल रिपोर्ट का इंतजार : दलीप सिंह
वहीं एसएचओ दलीप सिंह का कहना है कि अभी फाइनल रिपोर्ट्स नहीं आई हैं। मधुबन से रिपोर्ट मिलने के बाद पीजीआई रोहतक व खानपुर मेडिकल कॉलेज के एक्सपर्ट ही उन्हें देख कर अपना ओपीनियन देंगे।