--Advertisement--

मोबाइल लाने पर लेडी टीचर ने स्टूडेंट को किया था रेस्टीकेट, दोस्त ने बताई ये बातें

सात दिन पहले प्रिंसिपल रितू छाबड़ा ने 12वीं क्लास के स्टूडेंट शिवांश स्कूल से निकाल दिया था।

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 02:57 AM IST
प्रिंसिपल रितू छाबड़ा ने 12वीं क प्रिंसिपल रितू छाबड़ा ने 12वीं क

यमुनानगर (हरियाणा). सात दिन पहले प्रिंसिपल रितू छाबड़ा ने 12वीं क्लास के स्टूडेंट शिवांश स्कूल से निकाल दिया था। वह स्कूल में मोबाइल फोन लेकर आया था। जिस पर क्लास इंचार्ज की नजर पड़ गई। तब इंचार्ज उसे प्रिंसिपल के पास ले गई। जिसके बाद उसे स्कूल से निकाल दिया गया। उसे यह कहा था कि जिस दिन वह अपने पैरेंट्स को लेकर आएगा तभी उसे एंट्री मिलेगी। पुलिस पूछताछ में शिवांश ने ये खुलासा किया है। उसके एक दोस्त ने भी इसकी पुष्टि की है।आरोपी के साथी छात्र ने बताया- तीन बार स्कूल से निकाला जा चुका था शिवांश

- नाम न बताने की शर्त पर शिवांश के दोस्त ने बताया कि आरोपी को एक बार 11वीं क्लास में व दो बार 12वीं में स्कूल से निकाला गया।

- उसने बताया कि यह कार्रवाई लिखित में नहीं होती। सिर्फ प्रिंसिपल ही अनुशासन तोड़ने वाले स्टूडेंट के खिलाफ ऐसी कार्रवाई कर सकती है।

- अक्सर यह बात कहकर किसी भी स्टूडेंट को स्कूल से निकाला जा सकता है कि वह पहले अपने परेंट्स को बुलाकर लाए, तभी स्कूल आना।

- शिवांश के साथ भी ऐसा ही हुआ था। पता चला है कि शिवांश के पैरेंट्स रूटीन में पीटीएम में नहीं आते थे।

- इस बार मीटिंग में आने के लिए उसके पेरेंट्स को मैसेज भी भेजा गया था। इसी बात से शिवांश डरा हुआ था।


फरवरी में होने हैं प्रैक्टिकल
स्कूली स्टूडेंट्स ने बताया कि अभी कोई प्रैक्टिकल नहीं है। फरवरी में प्रैक्टिकल होने हैं। पुलिस का कहना है कि शिवांश ने उस दिन प्रिंसिपल के रूम में जाकर प्रैक्टिकल लेने की बात जरूर कही थी, लेकिन उसके पास कोई फाइल नहीं थी। वह हत्या के इरादे से ही प्रिंसिपल के रूम में गया था।


मामले में कुछ भी बताने को तैयार नहीं टीचर
- इस बारे में जानकारी लेने के लिए 12वीं कॉमर्स बी की क्लास इंचार्ज गुरप्रीत कौर से पूरे घटनाक्रम पर बात करने की कोशिश की गई। उसके घर पर परिवार ने इस बारे में बात करने से साफ मना कर दिया।

- फैमिलीवालों ने बताया कि उनकी बेटी कुछ नहीं जानती। क्यों ऐसी घटना हुई? इसका जवाब या तो मैनेजमेंट के पास है या फिर वाइस प्रिंसिपल के पास।


विदाई पार्टी कैंसिल
- वारदात के बाद स्वामी विवेकानंद एजुकेशनल इंस्टीट्यूट की मैनेजमेंट ने 23 जनवरी तक स्कूल बंद रखने का फैसला लिया था। अब संस्था से जुड़े सभी स्कूल खुलेंगे, लेकिन यह साफ नहीं है कि जिस स्कूल में घटना हुई, वह खुलेगा या नहीं।

- स्कूल में 12वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए 25 जनवरी को विदाई पार्टी रखी गई थी, जिसे घटना के बाद रद्द कर दिया गया।