विज्ञापन

बेटे को ऑस्ट्रिया भेजने के लिए उधार लेकर दिए 13 लाख रुपए, एजेंटाें ने भेज दिया ग्रीस

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2017, 05:57 AM IST

एजेंटों के माध्यम से विदेश गया गांव काकौत का युवक पांच महीने से लापता है।

young man of village Kakaut is missing for five months.
  • comment

कैथल. एजेंटों के माध्यम से विदेश गया गांव काकौत का युवक पांच महीने से लापता है। पूंडरी अनाज मंडी में चाय की दुकान चलाने वाले चमेला ने बेटे को ऑस्ट्रिया भेजने के लिए एजेंटों को 12.9 लाख रुपए दिए थे। एजेंटों ने पैसे लेने के बाद युवक को ऑस्ट्रिया की बजाय ग्रीस भेज दिया। परिजनों का जुलाई के बाद बेटे से संपर्क नहीं हुआ तो पूंडरी थाना में एक महिला सहित तीन एजेंटों के खिलाफ केस दर्ज करवाया है।

अनाज मंडी पूंडरी में चाय की दुकान करने वाले गांव काकौत के चमेला ने बताया कि करनाल में एकेडमी चलाने वाले पवन चौहान और उसकी पत्नी निशा चौहान का पूंडरी अनाज मंडी में आना-जाना था। वे अनाज मंडी में आने पर अक्सर उसकी दुकान पर चाय पीते थे इसलिए जान पहचान बढ़ गई। सितंबर 2016 में आरोपियों ने कहा कि वे युवकों का विदेश का वर्क परमिट लगवाते हैं और करनाल में ऑफिस बनाया है। आरोपियों ने उसके बेटे कुलदीप का भी साढ़े 12 लाख रुपए में ऑस्ट्रिया का वर्क परमिट लगवाने की बात कही। झांसे में आकर उसने अक्टूबर 2016 में एजेंटों को एक लाख रुपए, पासपोर्ट अन्य कागजात दे दिए। एजेंटों ने 20-25 दिन में वीजा लगने की बात कही और चले गए। इसके बाद वीजा, टिकट, मेडिकल आदि के नाम पर एजेंटों ने नौ बार में उससे 11 लाख से ज्यादा रुपए लिए। धोखाधड़ी में अंबाला का व्यक्ति कंवलजीत भी शामिल था। चमेला ने बताया कि 10 जुलाई के बाद परिवार का कुलदीप के साथ संपर्क नहीं हुआ।


एजेंट से बात की तो वे धमकी देते कहते हैं कि बेटे को ऑस्ट्रिया भेजना और जिंदा देखना चाहते हैं तो डेढ़ लाख रुपए देने होंगे। पैसे नहीं देने पर वे कुलदीप से बात नहीं होने देंगे। चमेला ने बताया कि जब वे पंचायत लेकर आरोपियों के गांव करनाल जिला के सुल्तानपुर गए तो वहां उन्हें जान से मारने की धमकी दी। एसएचओ पूंडरी रणबीर सिंह ने बताया कि चमेला की शिकायत पर पवन, निशा कंवलजीत के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच की जा रही है।

पहले भेजा आबूधाबी, कहा-वहां से भेंजेंगे ऑस्ट्रिया
पीड़ितका आरोप है कि पैसे लेने के बाद पवन और निशा इसी साल तीन मई को कुलदीप की आबूधाबी (दुबई) की टिकट लेकर आए और कहा कि चार मई की फ्लाइट है। दिल्ली से आबूधाबी और वहां से कुलदीप को आस्ट्रीया भेज देंगे। अगले दिन परिवार दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचा तो कहा कि टिकट कैंसल हो गई और 14 या 15 मई की टिकट बनेगी। इसके बाद 12 मई को एजेंट का फोन आया और 14 मई की फ्लाइट होने की बात कही। आरोपियों ने बकाया बचे 90 हजार रुपए लेकर कुलदीप को आबूधाबी की टिकट सौंप दी। जब ऑस्ट्रिया की टिकट के बारे में पूछा तो आरोपियों ने कहा कि आबूधाबी में उनके आदमी मिलेंगे जो उसे ऑस्ट्रिया पहुंचा देंगे। एजेंट के आश्वासन पर उन्होंने अपने बेटे को दुबई की फ्लाइट में बैठा दिया। दुबई पहुंचने पर उसके बेटे का फोन आया कि वह ऑस्ट्रिया नहीं पहुंचा और कंवलजीत के एजेंटों के पास है। जो उसे 4-5 दिन में आस्ट्रीया भेजने की बात कह रहे हैं। इसके बाद 16 जून को कुलदीप ने घर फोन करके बताया कि वह ग्रीस में हैं। यहां कंवलजीत के एजेंट उसे ऑस्ट्रिया भेजने के लिए 50 हजार रुपए मांग रहे हैं। परिजनों ने तीन जुलाई को कंवलजीत के खाते में 40 हजार रुपए डलवा दिए।

X
young man of village Kakaut is missing for five months.
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें