• Hindi News
  • Haryana
  • Ambala
  • जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसे पावे
--Advertisement--

जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसे पावे

Ambala News - जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसा पावे बोल न जाने माया मदमाता मरना चित न आवे शब्द सुनकर संगत ने गुरमत समागम में...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:05 AM IST
जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसे पावे
जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसा पावे बोल न जाने माया मदमाता मरना चित न आवे शब्द सुनकर संगत ने गुरमत समागम में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के आगे शीश नवाकर मन्नतें मांगी। सेवा सिमरन सोसाइटी द्वारा रविवार गांधी मैदान में आयोजित 25 वें कीर्तन दरबार में करीब 50 हजार संगत ने नाम सिमरण किया। संगत की सुविधा के लिए लंगर, वाहन पार्किंग सहित कीर्तन सुनने के लिए एलईडी व प्लाजमा पैनल लगाए गए। दूधिया रोशनी व फूलों से सुसज्जित समागम स्थल सभी के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहा।

कैंट रेजिमेंट बाजार स्थित गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा से शाम लगभग 5 बजे पांच प्यारों की अगुवाई में नगर कीर्तन के रूप में श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी को गांधी मैदान स्थित समागम स्थल तक लाया गया। बीच रास्ते श्रद्घालुओं द्वारा फूलों की वर्षा कर श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का स्वागत किया गया। गोल चक्कर से लेकर गीता-गोपाल चौक तक सड़कें रंग-बिरंगी रोशनी से सरोबार रहीं। गुरुवाणी की गूंज लाउड स्पीकरों से सभी दिशाओं में गूंज रही थी। शाम 6 से लेकर अगले दिन सुबह 5 बजे तक कैंट की सड़कों पर संगत का तांता लगा रहा।

मैदान में कीर्तनी जत्थों द्वारा सच्चे साहिब क्या नहीं घर तेरे घर तां तेरे सबकिछ है जिस देह सो पावे, सबना का मां प्यो आप है आप है, गुरमुख पर उपकारी बिरला आया बिरला आया, दुख भंजन तेरा नाम जी तरो नाम जी के साथ-साथ जो बोले सो निहाल के शब्द सुनने वालों को जोश और श्रद्धा से भर रहे थे।

साध संगत ने गुरमत समागम में गुरु ग्रंथ साहिब के दरबार में हाजिरी लगाई। गुरमत समागम में हर धर्म, हर वर्ग आयु के लोग शामिल हुए। शाम होते-होते मैदान साध संगत और जत्थों से भर गया। आधे मैदान में हजारों वाहनों का जमावड़ा लगा रहा। फानूस और हैलोजन लाइटों की रोशनी में रेड कारपेट पर गुरमत समागम हुआ। हजारों की संख्या में एक साथ बैठ संगत ने गुरु का लंगर चखा। इस मौके पर गुरुद्वारा प्रधान ब्रहम्जीत खालसा, केवी सिंह, भूपिंद्र सिंह, जसमीत सिंह, सतबीर सिंह, अरमीत सिंह, सुखदेव सिंह, सिमरनप्रीत सिंह, चरणजीत सिंह, सुक्खा पतियाल, राजा दुग्गल, जसमिंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह, सुरजीत सिंह गुलयानी, वरयाम सिंह, हाकम सिंह, निशान सिंह आदि सदस्य मौजूद रहे।

सुरक्षा व्यवस्था : कैंट के महेश नगर थाना, पड़ाव थाना, पुलिस लाइन के लगभग 100 पुलिसकर्मी डीएसपी सुरेश कौशिक के नेतृत्व में गुरमत समागम की सुरक्षा व्यवस्था में डटे रहे। तीन फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को दस्ते के साथ किसी अनहोनी की आशंका में पंडाल के सामने फायर ब्रिगेड ऑफिस में लगाया गया।

गांधी मैदान में आयोजित 25 वें कीर्तन दरबार में सजा दरबार।

शबद कीर्तन से संगत को निहाल करते कीर्तनी जत्थे।

क्रेन कैमरा से दिखाई लाइव कवरेज

240 बाई 380 के पंडाल में 50 हजार संगत को रेड कार्पेट पर बैठने की व्यवस्था की गई। गोल चौक से लेकर गीता गोपाल चौक पंडाल के अंदर तक 60 वाट के 35 हॉर्न लाउडस्पीकर 1300 वाट के 20 जेवियर लाइनरे साउंड बॉक्स से संगत ने श्रद्धा पूर्वक गुरुवाणी सुनी। संगत के लिए 125 केवी के 6 जनरेटरों से गोल चौक से लेकर गीता गोपाल चौक तक 1000 वाट की 500 हैलोजन लाइटों के साथ रोशनी की व्यवस्था की गई। 240 बाई 240 के पंडाल में 8 हजार साध संगत ने एक साथ बैठकर गुरु का प्रसाद चखा। संगत की सुविधा क्रेन कैमरे के अलावा 5 एलईडी वॉल और 20 प्लाजमा द्वारा गुरमत समागम का सीधा प्रसारण किया गया।

गांधी मैदान में आयोजित 25वें कीर्तन दरबार में शीश नवाती संगत।

25वें कीर्तन दरबार में नत मस्तक होतीं महिला श्रद्धालु।

समागम में पहुंचे कीर्तनी जत्थे

समागम में भाई गुरइकबाल सिंह जी अमृतसर साहिब, भाई चमनजीत सिंह लाल दिल्ली, अमनदीप सिंह अमृतसर साहिब, गुरदेव सिंह आस्ट्रेलिया, गुरप्रीत सिंह ढाडी जत्था लांडरां, गुरशरण सिंह लुधियाना, सुरेन्द्र सिंह, सतनाम सिंह खालसा, गुरबख्श सिंह पटियाला आदि ने संगत को निहाल किया।

समागम में 25 संस्थाओं ने दी सेवा

लंगर बनाने की सेवा श्री गुरु तेग बहादुर लंगर सेवा सोसाइटी गु. बुड़िया साहिब, लंगर बांटने की सेवा नौजवान सेवक जत्था गांव पिलखनी, श्री गुरू हरकृष्ण साहिब सेवा सोसाइटी तोपखाना बाजार, समूह संगत गांव बोह, संगत गु. पारस नगर, गु. प्रबंधक कमेटी रतागढ़ साहिब नारायणगढ़ और श्री अकाल सहाय सेवा सोसाइटी खिड़रवा, गु. कसरेला साहिब शाहबाद। जलसेवा गुरु सेवक जत्था प्रेम नगर अम्बाला सिटी। जोड़े घर की सेवा सेवक जत्था अम्बाला सिटी और समूह संगत गांव सैदपुर बरवालिया। पैसेज की सेवा श्री गुरु हरगोबिंद साहिब गतका अकेडमी अम्बाला। वाहन पार्किंग सेवा बाबा बंदा सिंह बहादुर सेवक सभा किला सिक्ख शाहबाद, श्री गुरु बाला प्रीतम सेवक जत्था गांव टूंडला और नौजवान खालसा गुरसेवक जत्था, नहाेणी। चाय, पकौड़े व जलेबियां बांटने की सेवा समूह संगत गु. छेवीं पातशाही कुरुक्षेत्र और श्री हेमकुंड साहिब सेवा सोसाइटी, जलजीरे की सेवा गुरसेवक सेवा सोसाइटी पल्लेदार मोहल्ला, गुरु रामदास सेवक जत्था गु. बेगमपुरा साहिब। ट्रैफिक कंट्रोल की सेवा गांव जनेतपुर के सेवादार व श्री गुरु तेग बहादुर साहिब सेवा दल जंडली। वैजिटेबल सूप की सेवा एडवोकेट मान सिंह काकरान व जगजीत सिंह जग्गा । इंटरनेट वेब लाइव टेलिकास्ट अकाल सहाय इंटरनेशनल की तरफ से की गई।

X
जिसके सिर ऊपर तू स्वामी सो दुख कैसे पावे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..