• Home
  • Haryana
  • Ambala
  • अब हर रोज नए प्वाइंट पर ड्यूटी देंगे ट्रैफिक पुलिसकर्मी
--Advertisement--

अब हर रोज नए प्वाइंट पर ड्यूटी देंगे ट्रैफिक पुलिसकर्मी

ट्रैफिक पुलिस कर्मी प्रतिदिन एक ही प्वाइंट पर ड्यूटी करते नजर नहीं आएंगे। अब उन्हें प्रतिदिन नया चौक (प्वाइंट)...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
ट्रैफिक पुलिस कर्मी प्रतिदिन एक ही प्वाइंट पर ड्यूटी करते नजर नहीं आएंगे। अब उन्हें प्रतिदिन नया चौक (प्वाइंट) मिलेगा। जहां वह ट्रैफिक संभालने के साथ वाहनों के चालान काटते हुए नजर आएंगे। यह निर्णय उनके खिलाफ मिल रही शिकायतों को लेकर किया गया है।

ट्रैफिक पुलिस कर्मी अभी तक कई कई दिन तक एक ही चौक पर मोर्चा संभाले रहते थे। वहीं पर वह चालान काटते नजर आते थे। एक ही चौक पर ड्यूटी करने के कारण उन पर वाहन का चालान किए बिना उसे छोड़ने की एवज में रिश्वत लेने के आरोप भी लगते रहे। हालांकि अभी तक किसी भी ट्रैफिक पुलिस कर्मी पर यह आरोप सिद्ध नहीं हुए। फिर भी एसपी ने लोगों की मिल रही शिकायतों के बाद नए सिस्टम को अपनाने का फैसला किया है ताकि ट्रैफिक पुलिस कर्मियों पर किसी प्रकार के आरोप लगें।

ज्यादा स्टाफ नहीं ट्रैफिक पुलिस का|ट्रैफिक पुलिस का स्टाफ चंडीगढ़ की तरह नहीं है। यही वजह है कि पुलिस के सहयोग के लिए होमगार्ड को लगाया गया है। ट्रैफिक पुलिस में महिला एलएसआई दो, एसआई चार, दो एएसआई, एसपीओ नौ, दो ईएसई, एक कांस्टेबल है। जो कि होमगार्ड के 65 जवानों के साथ ट्रैफिक व्यवस्था को संभालते हैं।

लगातार मिल रही भ्रष्टाचार की शिकायतों के बाद लिया गया निर्णय, अभी कोई आरोप नहीं हुआ सिद्ध

होमगार्ड ड्यूटी में कोई बदलाव नहीं

होमगार्ड को तीन माह के लिए ट्रैफिक पुलिस कर्मचारियों के साथ सहयोग लिए रखा जाता है। इसके बाद फिर से उनका कांट्रेक्ट रिन्यू होता है। यही वजह है कि होमगार्ड का प्रतिदिन प्वाइंट बदलने का निर्णय नहीं लिया गया, क्योंकि चालानिंग अफसर सिर्फ चालान काटता है और होमगार्ड के जवान वाहनों को रोककर किनारे पर लगवाते हैं।

कैंट में ट्रैफिक कंट्रोल करते हुए होमगार्ड के जवान।

प्रतिदिन कटते 250 से ज्यादा चालान

ट्रैफिक पुलिस के 39 प्वाइंट हैं और इनमें से 16 चौक हैं। जहां पर ट्रैफिक पुलिस तैनात रहती है। प्रतिदिन पुलिस कर्मी 250 से लेकर 300 के बीच वाहनों के चालान करते हैं। इनमें ज्यादातर चालान दोपहिया वाहनों के होते हैं। सप्ताह में एक दिन प्रेशर हॉर्न के भी चालान किए जाते हैं।