Hindi News »Haryana News »Ambala» आमजन के मुद्दों पर पार्षद -सेना अधिकारियों में नहीं बनी सहमति, 3 घंटे तक नोक-झोंक

आमजन के मुद्दों पर पार्षद -सेना अधिकारियों में नहीं बनी सहमति, 3 घंटे तक नोक-झोंक

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 03:05 AM IST

कैंटोनमेंट बोर्ड के नए प्रेजिडेंट ब्रिगेडियर एसएस सिद्धू की मौजूदगी में मंगलवार लगभग दो महीने बाद बैठक का आयोजन...
कैंटोनमेंट बोर्ड के नए प्रेजिडेंट ब्रिगेडियर एसएस सिद्धू की मौजूदगी में मंगलवार लगभग दो महीने बाद बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान बैठक में सिर्फ 7 पार्षद ही मौजूद रहे, क्योंकि नवनियुक्त वार्ड 7 पार्षद सन्नी कुमार की गजट नोटिफिकेशन रक्षा मंत्रालय की तरफ से प्राप्त नहीं हुई थी। बैठक की शुरुआत बोर्ड प्रेजिडेंट की शपथ से शुरू हुई जो हल्की नोक-झोंक के बाद तीन घंटे तक खिंच गई। बैठक में 34 मुद्दों बारे विस्तार से चर्चा हुई, लेकिन सिर्फ 10 मुद्दों को छोड़कर बाकी कार्रवाई अगली बैठक के लिए पेंडिंग रख दी गई।

कैंटोनमेंट क्षेत्र निवासियों की समस्याओं व प्रगति के लिए बोर्ड कार्यालय में दोपहर लगभग 1 बजे बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता नए बोर्ड प्रेजिडेंट एसएस सिद्धू सहित सीईओ वरुण कालिया ने की। बैठक की शुरुआत ओडीएफ पुरस्कार से की गई। बोर्ड सीईओ वरुण कालिया ने बताया कि बोर्ड क्षेत्र खुले में शौच मुक्त हो चुका है इसलिए सरकार ने बोर्ड को ओडीएफ पुरस्कार देकर सम्मानित किया है। इसी प्रकार क्षेत्र के अधीन आने वाले वार्ड व स्कूलों में भी स्वच्छता अभियान चलाए जाएंगे अौर विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा। इस दैारान पेश किए 34 मुद्दों पर बार-बार सेना अधिकारियों द्वारा सवाल उठाए गए। इस दौरान बोर्ड उपाध्यक्ष अजय बवेजा व सुरेंद्र तिवारी की सेना अधिकारियों के साथ हल्की बहस भी हो गई। इस कारण कुछ ही समय में समाप्त होने वाली बैठक 3 घंटे तक खिंच गई।

विकास व प्रगति पर हुआ गतिरोध| बैठक में लगभग एजेंडे में शामिल 34 बिंदुओं पर चर्चा हुई। इसमें क्षेत्र में हो रहे विकास कार्य, स्वच्छता अभियान, कांट्रेक्ट पर रखे कच्चे कर्मचारियों, सैनिक स्कूल में सिविलियन बच्चों की भर्ती आदि बारे चर्चा की गई। अधिकांश मुद्दों पर सेना अधिकारियों द्वारा विचार-विमर्श की बात कही गई। प्रत्येक साल होंगे टेंडर|बैठक के दौरान बोर्ड क्षेत्र में लगे 14 विज्ञापन पोल को लेकर वार्ड 5 पार्षद सुरेंद्र तिवारी ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि विज्ञापन पोल का ठेका तीन साल के लिए लगभग 25 हजार रुपए प्रति पोल के हिसाब से दिया जाता है, इसे एक साल के लिए देना चाहिए ताकि अधिक पैसों की प्राप्ति हो सके। इस मुद्दे का सेना अधिकारियों ने भी समर्थन किया।

क्षेत्र में लगी वाटर मशीन नहीं कर रही कार्य|कैंटोनमेंट क्षेत्र में लगी वाटर मशीन सही तरीके से कार्य नहीं कर रही और बार-बार शिकायत के बाद भी विभाग द्वारा इसे दुरुस्त नहीं कराया जा रहा। जब पार्षद सुरेंद्र तिवारी ने यह मुद्दा उठाया तो इस दौरान सीईओ वरुण कालिया नाराज हो गए और इस कारण दोनों में तीखी नोक-झोंक हो गई। सीईओ ने पार्षद से कहा कि जब लोगों काे मशीनें ही नहीं चलानी आती तो उसमें विभाग का क्या दोष है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक क्षेत्र में विभाग द्वारा स्थानीय नागरिकों को जानकारी देने के लिए ट्रेनिंग दी जाएगी।

कैंटोनमेंट बोर्ड की मीटिंग में मौजूद वार्ड पार्षद व बोर्ड प्रेजिडेंट।

टरकाऊ रवैए से अटके प्रोजेक्ट

बैठक में पार्षदों द्वारा जब डिफेंस कॉलोनी व डूरंड रोड के पास बनने वाले प्रस्तावित गेट की बात की गई तो सेना अधिकारी खुलकर जवाब नहीं दे पाए। ऐसे ही पंजोखरा व डिफेंस कॉलोनी सड़क पर भी मार्च में कार्य शुरू कराने की बात कही तो वहीं साइकलिंग ट्रैक व फुटपाथ को लेकर भी दोनों धड़ों में मतभेद रहे। कई महत्वपूर्ण मुद्दे अगली बैठक तक लटक गए।

आपसी तालमेल-सहयोग से ही कैंटोनमेंट बोर्ड का विकास किया जाएगा। सभी मुद्दों को आपसी विचार-विमर्श से सुलझाया जाएगा। समस्याओं का निदान किया जाएगा और क्षेत्र वासियों के लिए सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। ब्रिगेडियर एसएस सिद्धू, कैंटोनमेंट बोर्ड प्रेजिडेंट।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: आमजन के मुद्दों पर पार्षद -सेना अधिकारियों में नहीं बनी सहमति, 3 घंटे तक नोक-झोंक
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Ambala

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×