Hindi News »Haryana »Ambala» Fortification Of 8-Feet High Iron-Fired Delhi-Agra Highway

दिल्ली-आगरा हाईवे की 8 फुट ऊंची लोहे की जाली से किलेबंदी

दिल्लीसे आगरा के बीच 180 किलोमीटर का सफर 2 लाख वाहन चालकाें के लिए जल्द ही सुरक्षित हो जाएगा।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 11, 2017, 08:19 AM IST

  • दिल्ली-आगरा हाईवे की 8 फुट ऊंची लोहे की जाली से किलेबंदी
    +1और स्लाइड देखें
    फरीदाबाद। दिल्लीसे आगरा के बीच 180 किलोमीटर का सफर 2 लाख वाहन चालकाें के लिए जल्द ही सुरक्षित हो जाएगा। क्योंकि एनएचएआई हाईवे पर दुर्घटनाएं कम करने के लिए डिवाइडर पर 8 फुट ऊंची लोहे की जाली लगाएगा। ताकि अवैध कट, आवारा पशु अचानक आने वाले वाहनों से घटनाएं हों। अधिकारियों का दावा है कि यह काम जल्द शुरू हो जाएगा। इसकी शुरूआत बॉर्डर से होगी। क्योंकि फरीदाबाद में सभी 6 फ्लाईओवर कंपलीट हो चुके हैं।
    कोहरे में बढ़ जाती है परेशानी :हाईवे पर सर्दी के समय कोहरे में हादसे बढ़ जाते हैं। पलवल में भी कोहरे के कारण रोज वाहन भिड़ने के मामले सामने रहे हैं। दरअसल अवैध कट और आवारा पशु हादसों का बड़ा कारण हैं। जिन्हें बंद करने के लिए अभी तक कदम नहीं उठाए गए हैं। इस साल सितंबर तक जिले में हुए सड़क हादसों में 170 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें से 67 की मौत हाईवे पर हुई है।

    लोहे की जाली लगने से मिलेगी राहत
    -लोहेकी जाली लगने के बाद हाईवे पर आवारा पशु नहीं अा सकेंगे।
    -अवैध कट का प्रयोग नहीं किया जा सकेगा।
    -आमजन कहीं से भी हाईवे पर प्रवेश नहीं कर सकेंगे।
    -हाईवे को पार करने के लिए केवल फुट ओवरब्रिज का ही प्रयोग हो सकेगा।
    -वाहनों की स्पीड प्रभावित नहीं होगी, अचानक ब्रेक लगाने के बाद होने वाले हादसों में कमी आएगी।

    हाईवे पर मौत
    - इस साल हाईवे पर मौत : 67
    - दो महीने में मौत : 17
    इन अवैध कटों से मिलेगी राहत
    -गुडईयर के नजदीक पेट्रोल पंप के पास। {बल्लभगढ़ नहर पुल के पास। {मुजेसर {वाईएमसीए {मेट्रो स्टेशन एस्कोर्ट्स {अजरौंदा {सेक्टर-16 के पास।
  • दिल्ली-आगरा हाईवे की 8 फुट ऊंची लोहे की जाली से किलेबंदी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×