--Advertisement--

कुरुक्षेत्र से विश्वभर में पहुंचेगा गीता का उपदेश, 50 देशों में होगा गीता गान-चैंट

अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव का आगाज शिल्प व सरस मेले के साथ शुक्रवार देर शाम हुआ।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 05:16 AM IST
international geeta fest start

कुरुक्षेत्र . अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव का आगाज शिल्प व सरस मेले के साथ शुक्रवार देर शाम हुआ। राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने शुभारंभ की परंपरा निभाई। आचार्य नरेश कौशिक व 21 ब्राह्मणों ने मंत्रोच्चारण व शंख ध्वनि के बीच उद्घाटन किया। मेले में 22 राज्यों के 300 से ज्यादा शिल्प स्टॉल दर्शकों को आकर्षित करेंगे। शुभारंभ के दौरान प्रो. सोलंकी ने कहा कि कुरुक्षेत्र से एक बार फिर पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेश पूरे विश्व में पहुंचेंगे। इन संदेशों में ही पूरे विश्व का सार समाहित है।


उधर, 30 नवंबर को 18 हजार बच्चे एक साथ नंदा जी सदाचार स्थल के पास सामूहिक श्लोकोच्चारण करेंगे। इसमें अष्टादश गीता श्लोकों का उच्चारण किया जाएगा। वहीं, उसी दिन विश्व के ग्लोबल चैंट ऑन गीता का आयोजन किया जाएगा। डीसी सुमेधा कटारिया के मुताबिक करीब 50 देशों में एक साथ ग्लोबल चेंट होगी। इसके लिए चिन्मय मिशन, आर्ट आॅफ लिविंग, इस्कान जैसी कई धार्मिक सामाजिक संस्थाएं सहयोग करेंगी। भारत में दिन में 12 बजकर 15 मिनट का समय रहेगा। लंदन में सुबह साढ़े छह से पौने सात बजे गीता चेंट होगी।

मुख्य आयोजन 25 नवंबर से

सरस व शिल्प मेला तीन दिसंबर तक चलेगा। गीता जयंती के मुख्य आयोजन 25 नवंबर से शुरू होंगे। मुख्य सांस्कृतिक आयोजन भी तभी से होंगे, लेकिन सरस व शिल्प मेले में भी विभिन्न प्रदेशों की लोक कला शिल्प के साथ नजर आएगी। इस बार शिल्प मेला ब्रह्मसरोवर के उत्तरी छोर की सदरियों में लगाया है। पहले दिन देर शाम तक शिल्पकारों का पहुंचना जारी था। एनजेडसीसी पटियाला की तरफ से 300 से ज्यादा स्टाल आवंटित किए गए। हालांकि इन शिल्पकारों में 50 राष्ट्रीय स्तर के शिल्पकार, संत कबीर अवॉर्ड और स्टेट अवॉर्डी शामिल है। वहीं सरस में 22 राज्यों के 300 से ज्यादा स्टाल लगेंगे।

7 नवंबर से 3 दिसंबर तक 85 से ज्यादा होंगे प्रोग्राम
17 नवंबर से तीन दिसंबर तक करीब 85 आयोजन होंगे। इनमें अधिकांश धार्मिक कार्यक्रम शामिल हैं। अधिकांश कार्यक्रम 25 नवंबर से ही शुरू होंगे। आयोजन स्थल भी इस बार दो जगह बनाए हैं।

आज से पढ़िए गीता नॉलेज सीरीज

दुनिया को कर्म का संदेश देने वाली कुरुक्षेत्र की धरा पर शुक्रवार से गीता जयंती महोत्सव शुरू हो गया है। धर्म, अध्यात्म की शिक्षा देने वाली गीता का प्रयोग देश-दुनिया के तमाम दार्शनिक, मोटिवेशनल गुरु करते रहे हैं। भास्कर आज से गीता से जुड़े ऐसे गूढ़ सवालों से रू-ब-रू करवाने जा रहा है, जो पाठकों की जानकारी बढ़ाएंगे। पढ़िए भास्कर गीता नॉलेज सीरीज...।

1. गीता में श्रीकृष्ण अर्जुन को किस ऋग्वेद कालीन योग को समझाते हैं जिसके रचयिता मुनि कपिल माने जाते हैं?
1. सांख्य योग।
2. कर्म योग।
3. ज्ञान योग।
4. अक्षरब्रह्म योग।
उत्तर : 1. सांख्य योग।
2. किस तीर्थस्थल पर महाभारत में घायल भीष्म पितामह बाण शैय्या पर लेटे थे, तब उन्होंने अर्जुन से पानी मांगा। अर्जुन ने यहीं भूमि में शक्तिशाली बाण मारा तो भूमि से गंगा का एक स्रोत फूट पड़ा। यह तीर्थस्थल है?
1. मिर्जापुर, कुरुक्षेत्र
2. एकहंस तीर्थ, जींद
3. नरकातारी, कुरुक्षेत्र
4. कौल, कैथल
उत्तर : 3. नरकातारी, कुरुक्षेत्र।
3. रामायण काल के किस पात्र का उदाहरण श्रीकृष्ण ने गीता में दिया है?
1. राम
2. जनक
3. हनुमान
4. रावण
उत्तर : 2. जनक।
4. महाकाव्य महाभारत किसने लिखा?
1. महार्षि वेदव्यास
2. गणेश 3. कृष्ण
4. वाल्मीकि
उत्तर : 1. महार्षि वेदव्यास।
5. किस महान भारतीय नेता ने गीता को आध्यात्मिक शब्दकोश बताया है?
1. महात्मा गांधी
2. मदनमोहन मालवीय
3. बाल गंगाधर तिलक
4. सरदार पटेल
उत्तर : 1. महात्मा गांधी।
international geeta fest start
international geeta fest start
X
international geeta fest start
international geeta fest start
international geeta fest start
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..