Hindi News »Haryana »Ambala» Sit Interrogate Gurmeet Ram Rahim Singh

सिरसा डेरे में नामचर्चा शुरू, डेराचीफ से पूछताछ करेगी एसआईटी

पंचकूला में दंगा-फसाद के बाद जिन डेरों को सरकारी आदेशों पर पुलिस ने सील कर दिया था, आखिर अब वह खुलने लगे हैं।

नवनीत शर्मा | Last Modified - Nov 06, 2017, 04:54 AM IST

सिरसा डेरे में नामचर्चा शुरू, डेराचीफ से पूछताछ करेगी एसआईटी
सिरसा ( हरियाणा).साध्वी रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे राम रहीम की मां नसीब कौर और बेटे जसमीत इंसां ने डेरे के कामकाज को लगभग संभालना शुरू कर दिया है। रविवार को लगातार दूसरे दिन डेरा हेडक्वार्टर के कैंपस में संगत बुलाई गई। डेराप्रेमियों ने यहां नामचर्चा की और डेरा कैंपस में हुए लंगर में प्रसाद लिया। उधर, 25 अगस्त को हिंसा के बाद डेरे की कॉलोनियों को छोड़कर गए डेरा प्रेमी भी अपने-अपने घरों में लौटने लगे हैं। 5500 परिवारों में आधे से ज्यादा छोड़ गए थे घर...
- हिंसा के दौरान करीब 5500 परिवारों में आधे कॉलोनियां छोड़कर चले गए थे। ये कॉलोनियों डेरा हेडक्वार्टर के साथ लगते गांव शाह सतनामपुरा में बनी हुई हैं। यहां डेरे व डेरे के आसपास डेरा प्रेमियों की करीब एक दर्जन से ज्यादा कॉलोनियां हैं।

- डेरा हेडक्वार्टर के खुलने के दूसरे दिन रविवार को भी डेरा कैंपस में डेरा प्रेमियों की खूब चहल-पहल रही। पंजाब और हरियाणा के दूरदराज गांवों से भी डेराप्रेमियों का आवाजाही देर शाम तक जारी रही। हालांकि डेरा में नामचर्चा सुबह और शाम दो वक्त हुई। नामचर्चा में शिरकत करने के बाद डेराप्रेमी डेरा परिसर में इधर-उधर घूमते नजर आए। वे यह आकलन भी कर रहे थे कि सर्च ऑपरेशन के बाद डेरा में कैसे हालात हैं।
- करीब दो महीने बाद डेरा हेडक्वार्टर में आकर डेराप्रेमी खुश नजर आए। वे इस बात को लेकर खुश हैं कि डेरा हेडक्वार्टर में नामचर्चा तो होने लगी है। उनकाे यह भी उम्मीद है कि जल्द ही उनके पिता जी यानि गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल से जल्द ही बाहर आएंगे और वे यहां सत्संग कर डेरा में भी पहले की तर्ज पर प्रवचन भी दिया करेंगे।
- एक महिला डेराप्रेमी ने कहा ‘डेरे के अंदर दो महीने बाद आके अच्छा लग रहा है, मन करता है कि यही कई दिनाों तक परिवार के साथ रहे।’
राम रहीम की मां नसीब कौर संभाल रहीं है व्यवस्था
- राम रहीम की जमानत कराने के सिलसिले में जसमीत रविवार को सीनियर वकीलों से सलाह करने के दिल्ली गए।
- सूत्रों के अनुसार जल्द ही बेल पिटिशन फाइल की जा सकती है। जसमीत की दादी नसीब कौर रविवार को डेरे में रही।
- डेरा के कामकाज पर इस समय जसमीत इंसां और दादी नसीब कौर के दिशा निर्देश लागू हो रहे हैं।
एमएसजी प्रोडक्ट्स की डेरा की फैक्ट्रियां अभी बंद
- डेरा हेड क्वार्टर में एमएसजी प्रोडक्ट्स की कई फैक्ट्रियां अभी तक बंद ही हैं।
- बैंक खातों को अटैच किए जाने की वजह से डेरा की बिजनेस एक्टिविटिज पर पूरी तरह से ब्रेक लगा हुआ है क्योंकि उनका बिजली बिल का भुगतान न होने से बिजली कनेक्शन भी कटा हुआ है।
हनीप्रीत की वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी आज
- अंबाला सेंट्रल जेल में कैद हनीप्रीत और सुखदीप की सोमवार को पंचकूला कोर्ट में वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी होगी। उन्हें जेल से बाहर नहीं लाया जाएगा। मगर जेल में लगे सिस्टम से ही उनकी पेशी करवाई जाएगी।
- यह सब सुरक्षा के मद्देनजर किया जा रहा है। इससे पहले भी पंचकूला कोर्ट में वर्क सस्पेंड होने के कारण मामले में आगामी तारीख लग गई थी। खास बात यह है कि जेल में बंद हनीप्रीत से मिलने उसके फैमिली मेंबर आते-जाते रहते हैं। वह उसे उसकी जरूरत से जुड़ा तकरीबन सभी सामान मुहैया करवा रहे हैं।
एसआईटी की टीम डेरे से लौटी खाली हाथ
- 25 अगस्त को पंचकूला में दंगा-फसाद के बाद जिन डेरों को सरकारी आदेशों पर पुलिस ने सील कर दिया था, आखिर अब वह खुलने लगे हैं। इसी बीच शनिवार को एसआईटी की एक टीम डेरे में कुछ आरोपियों की तलाश में पहुंची थी, लेकिन उसे खाली हाथ वापस आना पड़ा।
- सूत्रों के अनुसार आगे वाली कड़ियों से जोड़ने के लिए एसआईटी जल्द ही रोहतक के सुनारिया जेल में बंद डेरा चीफ से पूछताछ कर सकती है। हालांकि देखने में आ रहा है कि एसआईटी की आगे की जांच भी हनीप्रीत की गिरफ्तारी के बाद से धीमी पड़ गई है। जबकि अभी कई अहम आरोपियों की गिरफ्तारी होना बाकी है।
- पवन इंसां और आदित्य इंसां जैसे बड़े आरोपियों को एसआईटी अभी तलाश ही रही है। केस की जांच के लिए एसआईटी को बग्गड़ उर्फ इकबाल को भी गिरफ्तार करना था लेकिन आज तक एसआईटी उसे काबू नहीं कर पाई।
- सूत्रों की मानें तो अब इस मामले में एसआईटी भी दिलचस्पी से काम नहीं कर रही। केस की रफ्तार भी धीमी पड़ती जा रही है। अब इसके कारण क्या हैं यह तो जांच का ही विषय है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×