Hindi News »Haryana »Ambala» अभिभावक: सीबीएसई नियम का हवाला देकर नहीं दे रहे एडमिशन, डीईओ बाेलीं-स्कूल पर होगी कार्रवाई

अभिभावक: सीबीएसई नियम का हवाला देकर नहीं दे रहे एडमिशन, डीईओ बाेलीं-स्कूल पर होगी कार्रवाई

भास्कर न्यूज | अम्बाला सिटी 20 अप्रैल को शिक्षा नियमावली रूल 134-ए के तहत प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट आया था। करीब 12 दिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:00 AM IST

अभिभावक: सीबीएसई नियम का हवाला देकर नहीं दे रहे एडमिशन, डीईओ बाेलीं-स्कूल पर होगी कार्रवाई
भास्कर न्यूज | अम्बाला सिटी

20 अप्रैल को शिक्षा नियमावली रूल 134-ए के तहत प्रवेश परीक्षा का रिजल्ट आया था। करीब 12 दिन बीतने के बाद भी ज्यादातर अभिभावक प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन लेने के लिए विधायक असीम गोयल और ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर के ऑफिस में धक्के खाने पर मजबूर हैं। शिक्षा अधिकारी सभी बच्चों को एडमिशन दिलाने की बात कहकर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं, जबकि प्राइवेट स्कूल नियमों के जाल में उलझाकर अभिभावकों को लगातार परेशान कर रहे हैं। पिछले कई दिनों से यह सिलसिला जारी है, जबकि शिक्षा विभाग अधिकारी अभी तक नोटिस देने के सिवाए कोई भी एक्शन प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ नहीं ले पाया है। ऐसे में अभिभावक कहां जाए, यह काफी गंभीर मामला है। हैरानी की बात यह भी है कि अम्बाला ब्लॉक वन में यह केस सामने आ रहे हैं। डीईओ उमा शर्मा ने कहा कि बीईओ वन की रिपोर्ट है कि कोई पेंडिंग केस नहीं है, जबकि यह मामले अम्बाला वन में सामने आ रहे हैं, दूसरी तरफ बीईओ टू में एडमिशन नहीं देने के भी कई केस सामने आए।

प्राइवेट स्कूलों ने कहा, जहां से नौंवी की वहीं से दसवीं करो : प्राइवेट स्कूल कहते हैं कि अगर बच्चे ने नौंवी किसी दूसरे प्राइवेट स्कूल से तो दसवीं कक्षा भी वहीं से करनी पड़ेगी। इसी तरह 134-ए में नौंवी के बच्चों को दूसरा अन्य स्कूल अलॉट हो गया तो प्राइवेट स्कूल सीबीएसई नियमों का हवाला देकर एडमिशन नहीं दे रहे। स्कूलों का कहना है कि जहां से नौंवी कक्षा की है, वहीं उसी स्कूल से दसवीं भी करनी पड़ेगी नहीं तो बच्चे का अपने एग्जाम नहीं दे पाएगा।

डीईओ ने कहा, सिर्फ लोकल एडमिशन के लिए जरुरी, 134-ए में नहीं : डीईओ उमा शर्मा ने कहा कि अगर बच्चा पहले किसी अन्य स्कूल में 9वीं में पढ़ता था और अब किसी दूसरे प्राइवेट स्कूल में 10वीं में स्टेशन अलॉट हो गया तो वह 134-ए के तहत एडमिशन ले सकता है। प्राइवेट स्कूल मना नहीं कर सकता। यह नियम सिर्फ लोकल एडमिशन में ही मान्य होता है। अगर कोई स्कूल नहीं मानता तो उनके ऊपर कार्रवाई की जाएगी।

कैंट सिसिल कॉन्वेंट स्कूल के आगे परेशान अभिभावक रोष जताते हुए।

अभिभावकों की सुनिए

बुधवार को कई अभिभावक विधायक असीम गोयल के निवास स्थान पर पहुंचे। वहां जिला सचिव रितेश गोयल से उनकी मुलाकात हुई। उन्होंने जल्द अभिभावकों की समस्या के समाधान करवाने की बात कही। अभिभावक राकेश निवासी रणजीत नगर ने कहा कि उनकी बेटी ने नौंवी किसी अन्य स्कूल से की है और 134-ए के तहत उसे दूसरा स्कूल अलॉट हुआ है, मगर वह सीबीएसई के इन नियमों का हवाला देकर एडमिशन नहीं दे रहे। ऐसे करीब 30 से ज्यादा अभिभावक रोजाना परेशान हो रहे हैं। कोई समाधान नहीं हो रहा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×