• Home
  • Haryana News
  • Ateli
  • ओवरलोडिंग रोकने को रोड पर डलवाए बड़े बड़े पत्थर, लग गया 6 किलोमीटर लंबा जाम
--Advertisement--

ओवरलोडिंग रोकने को रोड पर डलवाए बड़े बड़े पत्थर, लग गया 6 किलोमीटर लंबा जाम

जिला प्रशासन द्वारा ओवरलोड पर नकेल कसने के लिए लगातार की जा रही कार्रवाई को लेकर गत शुक्रवार रात नारनौल एसडीएम...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:05 AM IST
जिला प्रशासन द्वारा ओवरलोड पर नकेल कसने के लिए लगातार की जा रही कार्रवाई को लेकर गत शुक्रवार रात नारनौल एसडीएम जगदीश शर्मा कनीना नाका पर निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने रिकॉर्ड भी चेक किया। इसके बाद उन्होंने ओवरलोड वाहनों को रुकवाने के लिए एक गाड़ी बड़े-बड़े पत्थरों की भरकर मेन रोड पर डलवा दिए। जिसके चलते रोड वन वे हो गया। करीब 6 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। जाम खुलवाने में पुलिस प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ी। जबकि इससे पहले भी रोड पर पत्थर डाले हुए थे, जिनसे दो वाहन टकराकर उनमें सवार व्यक्ति घायल हो चुके हैं। सांप की आकृति में डाले गए इन पत्थरों में एक बार में एक ही वाहन निकल सका, जिसके चलते जाम की स्थिति पैदा हो गई और आमजन को भारी परेशानियों का सामना उठाना पड़ रहा है।

यात्री नरेंद्र, अशोक, राहुल, पंकज, सचिन, अजय का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा शुक्रवार रात कनीना-महेंद्रगढ़ रोड अटेली टी प्वाइंट पर लगाए गए नाके के पास बड़े-बड़े पत्थर डलवा दिए जाने के कारण जाम की स्थिति पैदा हो गई। जिसके चलते गांव गुढा से कनीना तक वाहनों का चक्का जाम हो गया। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा अगर क्रेशर जोन पर ही ओवरलोड वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता तो ऐसी स्थिति पैदा ही नहीं होती। प्रशासन द्वारा शुक्रवार रात करीब 8 बजे रोड पर पत्थर डलवाने के बाद कनीना-अटेली रोड, कनीना-महेंद्रगढ़ रोड पर वाहनों का 6 किलोमीटर लंबा जाम लग गया, जिसे खुलवाने के लिए कनीना पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। जाम को खुलवाने के लिए कनीना पुलिस थाना प्रभारी मलखान सिंह के नेतृत्व में चौकी प्रभारी बलवंत सिंह, सब इंस्पेक्टर लाल सिंह, एएसआई जयभगवान, एएसआई महाबीर सिंह, एएसआई विकास, एचसी संजय की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद रात 8 बजे लगने शुरू हुए जाम पर सुबह काबू पाया तब जाकर आमजन को राहत मिली। वहीं स्कूली बस व रोडवेज बसे जाम में फंसने के चलते विद्यार्थी बसों से नीचे उतर 6 किलोमीटर तक पैदल यात्रा करते हुए स्कूल व कॉलेज पहुंचे। वहीं रोडवेज में बैठे यात्रियों को भी जाम के चलते भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। एक तरफ गर्मी का आलम दूसरी तरफ पीने के पानी की समस्या से यात्री जूझ रहे थे लेकिन कनीना से गांव गुढा के बस स्टैंड तक लगा जाम खुलने का नाम ही नहीं ले रहा था। स्थानीय लोगों और परेशान मुसाफिरों ने कहा कि अगर जिला प्रशासन को इन पर नकेल कसनी है तो जहां से लोड होकर यह निकल रहे हैं, वहीं पर इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए तभी जाम से निजात मिल सकती है।

कनीना. रोड पर डाले गए पत्थरो से बनी जाम की स्थिति।

नाके पर नहीं होती सख्ती

समाजसेवी सरजीत ठेकेदार, धर्मपाल डीपी रसूलपुर, पवन, यादवेंद्र यादव कनीना सहित अनेक लोगों का कहना है कि जिला प्रशासन ने ओवरलोड वाहनों पर नकेल कसने के लिए कनीना अटेली टी- पॉइंट के नजदीक एक नाका गत दो सप्ताह पहले से लगाया हुआ है, लेकिन मात्र दिखावे के नाम पर कुछ चालान कर बाकी ऐसे ही निकाल दिए जाते रहे इसका कारण जिला प्रशासन की कही न कही चूक है या उनकी मिलीभगत है जिसके चलते ओवरलोड पीछे 7 नाकों को चीरते हुए 70 किलोमीटर दूरी तय कर कनीना नाका तक पहुंच रहे हैं और नाके से मात्र कुछ दूरी पर आकर क्रमबद्ध खड़े हो जाते हैं जिससे कई किलोमीटर तक लंबी कतार लग जाती हैं और जाम लगना शुरू हो जाता है।