Hindi News »Haryana »Bahadurgarh» 1 अप्रैल से खरीद होने के सरकारी दावे पर किसान गेहूं लेकर पहुंचे, रविवार बताकर नहीं आए अफसर

1 अप्रैल से खरीद होने के सरकारी दावे पर किसान गेहूं लेकर पहुंचे, रविवार बताकर नहीं आए अफसर

मंडी में एक अप्रैल को गेहूं की खरीद शुरू होनी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। लिहाजा किसान अपनी फसल लेकर आते रहे और आढ़ती...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:10 AM IST

1 अप्रैल से खरीद होने के सरकारी दावे पर किसान गेहूं लेकर पहुंचे, रविवार बताकर नहीं आए अफसर
मंडी में एक अप्रैल को गेहूं की खरीद शुरू होनी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। लिहाजा किसान अपनी फसल लेकर आते रहे और आढ़ती खरीद एजेंसी के इंतजार में रहे। हैफेड डीएम ने बताया कि रविवार होने के कारण खरीद का काम शुरू नहीं किया। हैफेड मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को खरीद करेगी, जबकि अन्य दिनों में सरकारी गोदाम से खरीद होगी। वहीं, अभी जो गेहूं आई है, उसमें नमी की मात्रा ज्यादा है।

झज्जर जिले में वर्तमान रबी सीजन के दौरान गेहूं, जौ, चना आदि फसलों की सरकारी खरीद एक अप्रैल को शुरू होने की बात प्रशासन की ओर से कही गई थी। इस सीजन के दौरान गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1735 रुपए, जौ 1410 रुपए और 150 रुपए बोनस के साथ चना 4400 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया है। इसके लिए आसौदा, बहादुरगढ़, बेरी, छारा, झज्जर, दूबलधन माजरा, मातनहेल व ढाकला में खरीद केंद्र बनाया है। सरकारी खरीद के लिए खाद्य विभाग, हैफेड, एफसीआई और एचडब्लूसी एजेंसियों को अधिकृत किया गया है, लेकिन रविवार खरीद का काम शुरू नहीं हुआ। किसान अपनी उपज लेकर मंडी आए, लेकिन खरीद नहीं हुई।

झज्जर. मंडी में लगे गेहूं के ढेर को एकत्र करती जेसीबी।

सेक्टर-9 मंडी में भी नहीं खरीदी गई सरसों

सरसों की खरीद का काम सेक्टर-9 में चल रहा है। रविवार को यहां भी खरीद नहीं हुई। खरीद एजेंसी का कहना था कि जो सरसों खरीदी जा चुकी है, उसे लिफ्ट कराया गया ताकि सोमवार को किसानों के लिए जगह बन सकें।

मंडी में आए गेहूं की शनिवार को जांच की गई थी। नमी की मात्रा 12 प्रतिशत की बजाय 14 प्रतिशत थी। इस कारण आढ़ती को काट देनी होगी। रविवार को अवकाश था। इस वजह से खरीद नहीं हुई। अब आगे यदि गेहूं सूखा मिलता है तो खरीद होगी। -सुरेंद्र चौधरी, डीएम, हैफेड, रोहतक-झज्जर

खरीद नहीं करने की सूचना

पहले देनी चाहिए थी : आढ़ती

आढ़ती श्रीभगवान ने बताया कि प्रशासन ने एक अप्रैल से खरीद करने की बात कही थी, लेकिन नहीं की गई। आढ़ती इंतजार में रहे। वे किसानों को गेहूं न लेकर आने से रोक नहीं सके। किसानों से बात होने पर उन्हें यही बताया गया कि प्रशासन के कहे अनुसार रविवार को खरीद होगी, लेकिन सभी इंतजार में रहे। हालांकि बाद में इस बात पर संतोष करना पड़ा है कि एक अप्रैल को रविवार था। इस कारण काम नहीं हो सका। इसकी सूचना पहले देनी चाहिए थी कि एक अप्रैल को रविवार होने के कारण खरीद का काम दो अप्रैल से होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bahadurgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×