• Home
  • Haryana News
  • Bahadurgarh
  • इनहांसमेंट के खिलाफ कोर्ट जाने की दी चेतावनी
--Advertisement--

इनहांसमेंट के खिलाफ कोर्ट जाने की दी चेतावनी

बहादुरगढ़. इनहांसमेंट के विरोध में सेक्टरवासी धरने पर बैठे हुए। भास्कर न्यूज | बहादुरगढ़ हरियाणा शहरी विकास...

Danik Bhaskar | Apr 18, 2018, 02:00 AM IST
बहादुरगढ़. इनहांसमेंट के विरोध में सेक्टरवासी धरने पर बैठे हुए।

भास्कर न्यूज | बहादुरगढ़

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की ओर से दिए गए नोटिस के विरोध में बहादुरगढ़ के सेक्टर 2, 9 और 9 ए के वासियों का धरना-प्रदर्शन मंगलवार दूसरे दिन भी भी जारी रहा। उन्होंने एसडीएम और संपदा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर इनहांसमेंट से रियायत दिलाने की मांग की। संघर्ष समिति के प्रधान देवेन्द्र सिंह रुहिल की अध्यक्षता में धरने पर बैठे प्लाॅटधारकों ने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। साथ ही सरकार से मांग की कि जैसे औद्योगिक क्षेत्र का इनहांसमेंट सरकार ने स्वयं भरा है उसी तरह रिहायशी सेक्टर का इनहांसमेंट सरकार ही स्वयं भरे। प्लाॅटधारकों का कहना था कि चाहे कुछ भी हो जाए हम इनहांसमेंट किसी भी सूरत में नहीं भरेंगे। अगर जरूरत पड़ी तो कोर्ट की शरण लेंगे। वहीं, संपदा अधिकारी ने मंगलवार को 500 और लोगों को नोटिस जारी किए हैं। इसे लेकर सेक्टरवासियों में आक्रोश है।

131 करोड़ रुपए का इनहांसमेंट

धरनास्थल पर रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन और सेक्टर के मौजिज लोगों ने अपने विचार प्रकट किए। इसके साथ ही आगामी रणनीति तैयार की। उनका कहा है कि जब तक सरकार मांग नहीं मान लेती तब तक प्रांतीय स्तर की संघर्ष समिति के आह्वान पर आंदोलन जारी रहेगा। बहादुरगढ़ व झज्जर के सेक्टरों में एचएसवीपी की ओर से 131 करोड़ रुपए का इनहांसमेंट डाला गया है। इसके लिए काफी संख्या में नोटिस भी भेजे गए हैं। नोटिस मिलते ही सेक्टर के लोगों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। शनिवार को सेक्टर के लोगों ने बैठक कर इसका विरोध किया था, तभी सभी ने इनहांसमेंट नहीं भरने का फैसला किया। बैठक में लिए गए निर्णय अनुसार एचएसवीपी कार्यालय में टेंट लगाकर सेक्टर वासियों ने सेक्टर-2 रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान सूरजमल बधवार के नेतृत्व में धरना शुरू कर दिया। संघर्ष समिति ने यह भी मांग की कि व्यावसायिक प्लाॅट में दी गई 600 रुपए पर स्कवेयर मीटर की रियायत रिहायशी सेक्टरवासियों को भी दी जाए। कोर्ट की ओर से बढ़ाए गए मुआवजा राशि पर पिछले 10 से 15 साल का 1.5 प्रतिशत ब्याज का भार सेक्टरवासियों पर न डाला जाए। उन्होंने कहा कि जो प्लॉट खाली हैं या फिर जहां सरकारी गतिविधियां है, उनका इनहांसमेंट भी रेजिडेंट्स से वसूला जा रहा है, जो सरासर गलत है।

इनहांसमेंट का खर्च सरकार स्वयं वहन करें

धरनास्थल पर बैठे सेक्टर-2 से प्रधान सूरजमल बधवार, संघर्ष समिति के अध्यक्ष देवेंद्र सिंह रुहिल, गुलाब मालिक, नरदेव दहिया, नरेश जून, तारीफ सिंह छिल्लर व सेक्टर-9 के प्रधान राजेश खत्री, रणबीर गुलिया, आरके जून, जयपाल सांगवान, आरके कादियान आदि ने इनहांसमेंट नहीं भरने का फैसला लिया है। साथ ही सरकार से मांग की कि औद्योगिक क्षेत्रों की तरह आवासीय क्षेत्र की इनहांसमेंट का खर्च सरकार स्वयं वहन करे। उन्होंने कहा कि गलत तरीके से जोड़े गए ब्याज को माफ करें। इतना ही नहीं, सभी सेक्टरों में जो गलत तरीके से पैमाइश दिखाई है यह सभी सरकार ठीक करें। जब तक इन सभी मांगों को सरकार नहीं मानेगी, तब तक धरना जारी रहेगा।

इनहांसमेंट के नोटिस पूरे प्रदेश के सेक्टरों में दिए