बहादुरगढ़

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Bahadurgarh
  • 7 एमएम बारिश से गेहूं की खड़ी और कटी फसल को नुकसान, मंडी में रखा गेहूं भीगा
--Advertisement--

7 एमएम बारिश से गेहूं की खड़ी और कटी फसल को नुकसान, मंडी में रखा गेहूं भीगा

मौसम विभाग की जानकारी ठीक साबित हुई और सुबह सात बजे तेज आंधी के बाद हुई सात एमएम बरसात से क्षेत्र में गेहूं की खड़ी...

Dainik Bhaskar

Apr 10, 2018, 02:00 AM IST
7 एमएम बारिश से गेहूं की खड़ी और कटी फसल को नुकसान, मंडी में रखा गेहूं भीगा
मौसम विभाग की जानकारी ठीक साबित हुई और सुबह सात बजे तेज आंधी के बाद हुई सात एमएम बरसात से क्षेत्र में गेहूं की खड़ी व कटी फसल को भारी नुकसान हुआ है। वहीं खुले आसमान में मंडी में रखा गेहूं भी भीग गया। मंगलवार को भी आंधी व बरसात की संभावना है। इससे किसानों में फसल खराब होने चिंता हैं। 2 दिन पहले भी आंधी व हलकी बरसात के कारण अनाज मंडियों में रखा गेहूं व सरसों की फसल भीग गई थी। हालांकि इससे खेतों में खड़ी व कटी हुई फसल को नुकसान नहीं हुआ था, लेकिन सोमवार की सुबह अचानक काले बादल घिर आए। पहले तेज आंधी चली और इसके बाद हुई बरसात से खेतों में कटी हुई और खड़ी फसल को नुकसान हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार 10 और 11 अप्रैल को बारिश की संभावना है। 14 अप्रैल तक लोगों को गर्मी ज्यादा परेशान नहीं करेगी। आसपास के गांवों में खड़ी फसल खेतों में बिछ गई, जबकि कटी फसल भीगने से अनाज खराब हो गया है।

अनाज मंडी में 70 सालों में एक भी शेड तैयार नहीं होने के कारण किसानों ने मंडी से दूरी बनानी शुरू कर दी है। सोमवार को हल्की बरसात के बाद मंडी में गेहूं बेचने कोई किसान नहीं पहुंचा। इस कारण दिन भर व्यापारियों को मंडी मे बिखरे गेहूं को ठिकाने में लगाने में खर्च किया जिससे मंडी में आने वाली फसल को रखने का स्थान मिल सके।

किसानों को चिंता तो यह है कि मंगलवार को भी आंधी व बरसात की संभावना है। बता दें कि क्षेत्र में 30 हजार हेक्टेयर में गेहूं की फसल की बिजाई की हुई है। इस बार मौसम मेहरबान रहा है लेकिन अब अचानक कुछ रोज से मौसम का मिजाज बिगड़ गया है। 20 से 30 प्रतिशत रकबे में तो गेहूं की फसल मशीन से कट चुकी है और बाकी में अभी कटाई चल रही है। इसके साथ-साथ खेतों में फसलों का ढेर भी लगाया जा रहा है। लेकिन आंधी व बरसात के कारण कटाई व थ्रेसिंग कार्य रूक गया है। ऊपर से नुकसान भी हो रहा है। किसानों रामकिशन, सुरेंद्र, मुकेश, भूप सिंह, रोहतास व नरेंद्र ने बताया कि आंधी व बरसात के कारण खेतों में गेहूं की फसल बिछ गई है। जहां फसल का ढेर लगाया गया है वहां पर भी नुकसान है। पूरा ढेर भीगने के बाद उसे सुखाने के लिए फिर से अलग-अलग छोटी-छोटी ढेरी बनानी पड़ेगी। किसानों का कहना है कि पहले ही खेती घाटे का सौदा बनकर रह गई है ऊपर से आसमान से पड़ रही आफत ने किसानों की कमर तोड़ने का काम किया है। बरसात से जिन किसानों की फसलों को नुकसान हुआ है उन्होंने सरकार से उचित मुआवजा दिए जाने की मांग भी की है।गेहूं की खरीद तो बहादुरगढ़ की अनाज मंडी में 2 अप्रैल से शुरू हो गई थी। पर गेहूं की लिफ्टिंग का कार्य अब जाकर शुरू हो पाया है। सप्ताह के तीन दिनों में जहां खाद्य आपूर्ति विभाग गेहूं की खरीद कर रहा है तो अन्य तीन दिनों में स्टेट वेयर हाउस द्वारा गेहूं की खरीद की जा रही है।

शहर की अनाज मंडी गेहूं से पूरी तरह अट गई है। अनाज मंडी में न केवल बनी फड़ गेहूं की बोरियों से पूरी तरह अटी हुई है बल्कि सड़क पर भी चारों तरफ गेहूं ही गेहूं नजर आ रहा है। लोगों के आने-जाने के लिए भी जगह नहीं बची है। किसान और व्यापारियों का कहना है कि अनाज मंडी गेहूं के हिसाब से छोटी पड़ गई है।

बहादुरगढ़. अनाज मंडी में शेड न होने पर किसानों का गेहूं भीगा।

नुकसान का आंकलन किया जाएगा

उपमंडल कृषि एवं किसान कल्याण अधिकारी डाॅ. सुनील कौशिक का कहना है कि सोमवार की सुबह 7.2 एमएम बरसात दर्ज की गई है। यह गेहूं की कटी व खड़ी फसल के लिए नुक्सानदायक है। अगले 2 दिन भी मौसम खराब रहने का अनुमान है। ऐसे में किसानों को कटी हुई फसल को ढककर रखना चाहिए। फसलों के नुकसान का आंकलन किया जाएगा। उसके बाद संबंधित बीमा कंपनी से प्रभावित किसानों को मुआवजा दिलाने का कार्य किया जाएगा।

3-3 दिन वेयर हाउस व फूड सप्लाई खरीद रहा है गेहूं

बहादुरगढ़ की अनाज मंडी में सोमवार, बुधवार, शुक्रवार को खाद्य आपूर्ति विभाग की ओर से गेहूं की खरीद की जा रही है। वहीं, मंगलवा, वीरवार व शनिवार को गेहूं की खरीद का कार्य स्टेट वेयर हाउस के जिम्मे है। ऐसे में बीते तीन दिनों में लगभग 9800 क्विंटल गेहूं की खरीद एजेंसियों द्वारा की जा चुकी है।

जिले की मंडियों से 3514मीट्रिक टन गेहूं का हुआ उठान

झज्जर |
अतिरिक्त उपायुक्त सुशील सारवान ने संबंधित अधिकारियों के साथ सोमवार को झज्जर की अनाज मंडी का दौरा किया और गेहूं की सरकारी खरीद में तेजी लाने के निर्देश दिए। एडीसी ने डीएम हैफेड व हरियाणा भंडारण निगम के अधिकारियों को खरीदे हुए अनाज के उठान कार्य में तेजी लाने को कहा। मंडी दौरे के दौरान अतिरिक्त उपायुक्त सुशील सारवान और एसडीएम झज्जर रोहित यादव ने खरीद संस्थाओं/सचिव, मार्केट कमेटी, झज्जर, बहादुरगढ़ के साथ गेहूं की खरीद के प्रबंधों बारे विचार विमर्श किया। जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक अशोक कुमार ने बताया कि जिला में आठ अनाज मंडी/खरीद केंद्र राज्य सरकार द्वारा खोले गए हैं। सभी मंडी/खरीद केंद्रों पर खरीद संस्था के प्रतिनिधि गेहूं खरीद के लिए नियुक्त कर दिए गए हैं।

पूर्व विस अध्यक्ष कादयान ने की गिरदावरी करवाने की मांग

बेरी |क्षेत्र के कई गांव में बरसात और ओलों के कारण भारी नुकसान हुआ है। हालांकि ओलों के नुकसान का तीसरे दिन पता लगता हैैैै, लेकिन तेज बरसात ने किसानों की फसल चौपट कर दी है। पूर्व विधान सभा अध्यक्ष एवं बेरी से विधायक डाॅक्टर रघुवीर कादयान ने दूबलधन किरमान, बिध्यान, माजरा दूबलधन कई गांवों का दौरा कर किसानों से मुलाकात की। बताया कि हजारों एकड़ में बरसात और ओलों के कारण 90 प्रतिशत तक फसल खराब हुई। एसे में राज्य सरकार फसलों की स्पेशल गिरदावरी कराए। जिससे सही स्थिति का पता चल सके। कादयान ने बताया कि बरसात और ओलावृष्टि से सरसों और गेहूं को नुकसान हुआ है। मंगलवार को झज्जर उपायुक्त को ज्ञापन सौंपेंगे। खराब फसलों का मुआवजा दिलवाने की मांग रखेंगे।

सांसद दीपेंद्र ने किया मंडी का दौरा, अफसरों को बुला भीगा गेहूं दिखाया

भास्कर न्यूज | झज्जर

सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने झज्जर की विधायक गीता भुक्कल के साथ अनाज मंडी का दौरा किया। यहां पूर्व घोषित कार्यक्रम के बिना आए सांसद हुड्डा मंडी में बरसात से भीगे गेहूं और मंडी में गेटों के पास हुए जलभराव पर कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के क्षेत्र में अनाज मंडी के हालात पर चिंता जताई। आढ़तियों ने भी कहा कि कांग्रेस सरकार में आढ़तियों के ये हालात नहीं थे।

इसके बाद सांसद ने मौके पर ही डीसी सोनल गोयल से फोन पर बात कर आढ़तियों के हुए नुकसान पर विशेष राहत दिलाने और हालात क्यों हुए इसके जवाब अफसरों को मौके पर बुलाने की बात कही। डीसी से सांसद ने कहा कि ये पूरी तरह सरकार का फैलियर है, जब मौसम विभाग ने पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि तीन दिन तक बरसात होगी इसके बाद भी मंडी में किसानों के गेहूं की सुरक्षा के कोई उपाय नहीं हुए। डीसी से फोन करने के बाद सांसद हुड्डा भी मंडी में रहे और अफसरों का इंतजार किया। कुछ ही देर में सबसे पहले डीएफएससी अशोक शर्मा आए। इसके बाद खरीद एजेंसी हैफेड के अफसर और एसडीएम रोहित यादव सांसद से मिले। यहां मंडी एसोसिएशन के प्रधान नरेंद्र धनखड़ के कार्यालय में सांसद ने अफसरों का सामना पीड़ित आढ़तियों से कराया। तब आढ़ती विजय खुड्डन ने कहा कि सरकार उनसे कमिशन देने के एवज में साफ-सुथरा और बिना नमी वाला गेहूं सरकारी गोदामों में पहुंचाने की उम्मीद रखती हैं, लेकिन सुविधा के नाम पर कुछ नहीं है। विजय ने कहा कि सबसे ज्यादा नुकसान उसका ही हुआ है। उसके द्वारा खरीदा गया 5 हजार क्विंटल गेहूं महज इसलिए भीग गया क्यों कि जलभराव की निकासी का कोई प्रबंध नहीं था। इस पर एसडीएम बोले कि वे सुबह सात बजे मंडी आए थे और यहां पंप के जरिए पानी निकालने के आदेश दिए है, तब आढ़ती बोले कि पंप शाम तक नहीं आ सके हैं। इस पर सांसद बोले कि देखिए एसडीएम साहब ये हाल हैं व्यवस्था के। पूरी चर्चा के दौरान आढ़ती खरीद एजेंसी,उठान ठेकेदार व डीएफएसी पर आरोप लगाते रहे। तब सांसद ने एसडीएम से कहा कि अब जो नुकसान हो चुका है उसकी भरपाई के लिए आढ़तियों को मुआवजा दिलाने की व्यवस्था करके आगे कोई नुकसान न हो इसकी व्यवस्था की जाए। तब एसडीएम यादव ने तर्क दिया कि आढ़तियों से उनके गेहूं के नुकसान का एस्टीमेट मांगा जाएगा जिसे सरकार के पास भिजवा देंगे।

झज्जर. सांसद हुड्डा बरसात में भीगे गेहंू की बोरियों को हाथ लगाकर देखते हुए।

एसडीएम ने माना उठान ठेकेदार का काम ठीक नहीं

एसडीएम ने माना कि उठान ठेकेदार अपना काम जिम्मेदारी से नहीं कर रहा है इसके लिए एक चेक प्वाइंट लगाया जाएगा कि वो किन गाडिय़ों से मंडी में उठान कर रहा है। कितना उठान हो रहा है,किना बच रहा है। इसी प्रकार उसके भेजे गए वाहनों की आरसी चेक की जाएगी।

X
7 एमएम बारिश से गेहूं की खड़ी और कटी फसल को नुकसान, मंडी में रखा गेहूं भीगा
Click to listen..