• Hindi News
  • Haryana News
  • Bahadurgarh
  • 20 लाख लीटर पेयजल हररोज कम मिल रहा वाटर टैंक सूखने पर 2-3 दिनों में आ रही सप्लाई
--Advertisement--

20 लाख लीटर पेयजल हररोज कम मिल रहा वाटर टैंक सूखने पर 2-3 दिनों में आ रही सप्लाई

शहर में वाटर टैंकों में पेयजल के लिए केवल 2 दिनों के पानी का स्टाॅक बचा है। इसे देख जनस्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़...

Dainik Bhaskar

Apr 25, 2018, 02:00 AM IST
20 लाख लीटर पेयजल हररोज कम मिल रहा 
 वाटर टैंक सूखने पर 2-3 दिनों में आ रही सप्लाई
शहर में वाटर टैंकों में पेयजल के लिए केवल 2 दिनों के पानी का स्टाॅक बचा है। इसे देख जनस्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। जरूरत के हिसाब से हररोज 20 लाख लीटर नहरी पानी कम मिल रहा है। इस वजह से शहर में 2 से 3 दिन में पानी सप्लाई छोड़ी जा रही है। स्थिति में सुधार के लिए जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने डीसी को पत्र भेजकर नहरी पानी की सप्लाई को डबल करने की मांग की है। लाइनपार क्षेत्र में तो स्थिति और भी खराब है। वहां पेयजल के लिए लोगों को टैंकों पर निर्भर रहना पड़ता है।

यह स्थिति है पानी सप्लाई की

शहर में छह बूस्टिंग स्टेशन हैं, लेकिन पानी की नहरी सप्लाई कम होने से उनका लाभ नहीं उठाया जा पा रहा। शहर में 56 लाख लीटर पेयजल की हररोज जरूरत है, लेकिन मिल रहा है 36 लाख लीटर। 18 लाख लीटर की सप्लाई पड़ोस के 7 गांवों में और 18 लाख लीटर की सप्लाई शहर में हो रही है, जो पर्याप्त नहीं है।

शहर की इन काॅलोनियों में है नाममात्र की सप्लाई

इन काॅलोनियों में कुछ में तो पानी की लाइन कुछ हिस्से में बिछाई गई है और कुछ में सप्लाई की व्यवस्था करनी है। इसे अमृत योजना में शामिल किया गया है। इसमें मुख्य रूप से छोटूराम नगर एक्सटेंशन-1, छोटूराम नगर एक्सटेशन-2, न्यू नेताजी नगर, रामा कृष्णा नगर, सुभाष नगर न्यू एक्सटेंशन, कृष्णा नगर, मामन विहार एक्सटेशन, हरि नगर, बलजीत नगर एक्सटेंशन, नरसिंह नगर, बहरानिया काॅलोनी एक्सटेंशन, जेई काॅलोनी, सैनिक नगर एक्सटेंशन, सुभाष नगर एक्सटेंशन, छिक्कारा काॅलोनी एक्सटेंशन, विकास नगर एक्सटेंशन-3, डिफेंस काॅलोनी, पटेल नगर पार्ट-3, सूर्या नगर, न्यू बसंत विहार, आजाद नगर, बैंक काॅलोनी एक्सटेंशन-2, शक्ति नगर एक्सटेंशन-2, कुबेर एनक्लेव, विकास नगर एक्सटेंशन-2, एमआइई एक्सटेंशन के साथ-साथ लाइनपार का वह क्षेत्र भी हैं जो अभी काॅलोनी क्षेत्र में नहीं आया।

बहादुरगढ़. नहर की सफाई में लगी जेसीबी।

बाहरी क्षेत्रों में 800 रुपए का टैंकर मंगवा रहे

शहर के बाहरी हिस्सों में इस समय 200 से अधिक अवैध टैंकरों से पानी की सप्लाई हो रही है। एक टैंकर 800 रुपए के हिसाब से खरीदा जाता है। शहर में पेयजल की सबसे ज्यादा कमी लगभग 16 हजार की आबादी वाली कॉलोनी छोटूराम क्षेत्र में है। 18 साल पहले जब से ये कॉलोनियां बसी थी तभी से यहां के लोग जल संकट झेल रहे हैं। वार्ड-10 व 9 में बंटा छोटूराम नगर दिल्ली से सटे आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र (एमआईई) से सटा हुआ है।

शहर में चल रहे 20 आरओ प्लांट, खरीदकर पी रहे पानी

छिक्कारा काॅलोनी के शंकर पासवान ने कहा कि वह हररोज 10 रुपए में 20 लीटर पानी खरीदते हैं, जिससे चार लोगों का पीने व रसोई का गुजारा मुश्किल से चलता है। नहाने व कपड़े धोने के लिए हैंडपंप से निकाल कर भू-जल का इस्तेमाल करते हैं। पर उस पानी में साबुन काम नहीं करता। साफ पानी न मिलने पर शहर के अधिकतर लोग पानी का कैंपर खरीदते हैं। इससे शहर में आरओ प्लांट संचालकों की खूब चांदी हो रही है।

अक्सर टूट जाती है

बहादुरगढ़ माइनर

गुड़गांव माइनर से अलग हुई बहादुरगढ़ माइनर से ही शहर में पानी सप्लाई होता है। वह भी जर्जर होने के कारण तीन माह में एक बार टूट जाती है। इस कारण उससे अधिक पानी की सप्लाई करना भी संभव नहीं है। इस माइनर से बहादुरगढ़ जनस्वास्थ्य विभाग के 5 टैंक और हुडा विभाग के 3 टैंकों में इस माइनर से केवल 23 क्यूसेक पानी की सप्लाई हो रही है, जो करीब 56 लाख लीटर बनता है। इसके बाद जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा तैयार 6 जीएमडी की कैपेसिटी वाले वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में इस पानी को साफ करके शहर में स्थित 25 हजार घरों में पहुंचा पाता है। इसी तरह से सेक्टर-2 हुडा विभाग के प्लांट से पानी को शहर के चार सेक्टरों में स्थित करीब पांच हजार मकानों में भेजा जाता है।

पत्र लिखकर पानी की

सप्लाई बढ़ाने को कहा


X
20 लाख लीटर पेयजल हररोज कम मिल रहा 
 वाटर टैंक सूखने पर 2-3 दिनों में आ रही सप्लाई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..