• Hindi News
  • Haryana News
  • Bahadurgarh
  • आग से 44 एकड़ में गेहूं की फसल जली, किसानों ने मांगा मुआवजा
--Advertisement--

आग से 44 एकड़ में गेहूं की फसल जली, किसानों ने मांगा मुआवजा

भास्कर न्यूज| झज्जर/ बहादुरगढ़/बादली/ बेरी जिले में आग से 41 एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। डीघल व बहराना में 35 एकड़,...

Dainik Bhaskar

Apr 19, 2018, 02:05 AM IST
आग से 44 एकड़ में गेहूं की फसल जली, किसानों ने मांगा मुआवजा
भास्कर न्यूज| झज्जर/ बहादुरगढ़/बादली/ बेरी

जिले में आग से 41 एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। डीघल व बहराना में 35 एकड़, बादली में 4 एकड़, लोवा कलां में 2 एकड़, व बाढ़सा में भी आग से तीन एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। किसानों ने प्रशासन से मुआवजे की मांग की। किसानों ने बेरी, मातनहेल और बादली उपमंडल में एक स्थाई फायर ब्रिगेड स्टेशन बनाने की मांग प्रशासन से की।कस्बे में शाम के समय लगी आग में बादली निवासी अनेक किसानों की गेहूं की फसल व कटे हुए गेहूं की पराली जलकर राख हो गई। गेहूं की फसल व पराली जलने से किसानों को भारी नुकसान हुआ। इनमें कई किसान तो ऐसे थे जिन्होंने उगाही पर जमीन लेकर फसल उगा रखी थी। उन्हें भारी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ा।

किसानों ने अपने स्तर पर आग पर पाया काबू

जानकारी के अनुसार शाम करीब चार बजे बादली निवासी किसान राजेंद्र के खेतों में अज्ञात कारणों के चलते आग लग गई। किसान राजेंद्र की चार एकड़ गेहूं की फसल थी, जिसमें से उसकी साढ़े तीन एकड़ की फसल खेतों में खड़ी थी, जबकि आधा एकड़ की फसल किसान राजेंद्र ने काट रखी थी। एक ओर जहां आग लगने के चलते किसान राजेंद्र को 4 एकड़ गेहूं की फसल का भारी आर्थिक नुकसान हुआ, वहीं दूसरी ओर अनेक किसानों जिनमें मनदीप, जयपाल, धर्मवीर, राजेंद्र, बबलू माले , सोनी व अन्य किसान ऐसे भी थे जिन्होंने गेहूं की फसल अपनी मशीनों द्वारा कटवा रखी थी। पशुओं के लिए चारा बनवाने के उद्देश्य से पराली खेतों में ही छोड़ रखी थी। अज्ञात कारणों के चलते लगी आग में इन उपरोक्त किसानों की 20 एकड़ की पराली जलकर राख हो गई। आग के कारण इन्हें भी अब साल भर तक पशुओं के चारे की भारी किल्लत के साथ-साथ आर्थिक नुकसान का सामना भी करना पड़ा। उपरोक्त सभी किसानों के अनुसार आग किन कारणों के चलते लगी इसका मालूम नहीं चल सका। उन्होंने फायर ब्रिगेड विभाग को भी इसकी सूचना दी, लेकिन जब तक गाड़ी मौके पर पहुंचती तब तक आग 4 एकड़ गेहूं की फसल व पराली को जलकर नष्ट हो चुकी थी। किसानों ने अपने स्तर पर आग पर किसी प्रकार काबू पाया और आग को आगे बढऩे से रोका।

बाढसा के ग्रामीणों में रोष

बाढ़सा गांव में दो किसानों श्रीभगवान व कृष्ण के खेतों में अज्ञात कारणें के चलते तीन एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। पीडितों ने जानकारी देते हुए बताया कि मामले की सूचना फायर ब्रिगेड को भी दी गई। आग लगने की सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाड़ी तब तक मौके पर पहुंची उस समय तक किसानों की फसल जलकर राख हो चुकी थी। किसानों ने जिला प्रशासन से आग के कारण हुए नुकसान की भरपाई की मांग की है। ग्रामीणों में आगजनी की घटना के प्रति रोष बना हुआ है। किसानों ने बादली उपमंडल में एक स्थाई फायर ब्रिगेड स्टेशन बनाने की मांग भी की है।

बेरी. डीघल गांव में जली गेहूं की फसल।

डीघल व बहराना में 24 किसानों की गेहूं की फसल जली

भास्कर न्यूज | बेरी

डीघल और बहराना गांव में बुधवार सुबह 35 एकड़ गेहूं की फसल जलने से 24 किसानों के अरमान टूट गए। किसानाें ने फसल बेचकर बच्चाें के स्कूल के पैसे और घरेलू जरूरत का सामान लेने की सोच रखी थी, लेकिन अनाज मंडी ले जाने से पहले ही यह हादसा हो गया। आग कैसे लगी इस बारे में अभी पता नहीं चला है। दोनों गांवों के किसानों ने जिला प्रशासन से मुआवजे की गुहार लगाई है।

बुधवार काे गांव डीघल और बहराना में कई एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल और फास को जलाकर राख कर दिया। सुबह करीब 11 बजे डीघल में गेहूं की खड़ी फसल ने आग पकड़ ली, जिसमें डीघल के किसानों की 30 एकड़ गेहूं की फसल जल गई। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस और फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियों व ग्रामीणों ने बड़ी मुश्किल से आग पर काबू पाया, लेकिन इससे पहले सभी फसल जलकर राख हो गई। डीघल के जिन किसानों की फसल जली है उनमें वेदपाल पुत्र जागेराम की 4 एकड़, सत्यवान पुत्र जगराम 2 एकड़, अनूप पुत्र नंदराम डेढ़ एकड़, जयमल पुत्र जोगी 2 एकड़, विष्णु पुत्र तेजा 2 एकड़, विष्णु पुत्र तेजा 2 एकड़, अजान पुत्र दयानंद, जगबीर पुत्र शेर सिंह 2 एकड़, महेंद्र पुत्र शेरसिंह 2 एकड़, सुखबीर की 30 एकड़ गेहूं की फसल शामिल है। उधर, बहराना गांव में दोपहर करीब एक बजे किसान काले पुत्र कृष्ण के खेत में आग लग गई। आग में 5 एकड़ गेहूं की फसल जल गई, जबकि 70 एकड़ फास जलकर राख हो गए। इस बीच मौके पर पहुंची थाना पुलिस और दमकल की गाड़ी ने पानी की बौछारकर कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।

बादली. गेहूं की जली पराली की दिखाते ग्रामीण।

लोवा कलां में फायर ब्रिगेड ने

आग पर पाया काबू

बहादुरगढ़ | लोवा कलां गांव में किसान बाले की 2 एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख गई। जहां फसलों में आग लगी उसके साथ ही खेतों में फांस भी जल गया। आग भड़कें नहीं और अन्य किसानों की फसलों को चपेट में न ले लें, इसलिए किसानों ने अपने स्तर पर आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन तेज हवा चलने के कारण आग कम नहीं हुई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने पानी की बौछारकर आग पर काबू पाया। आग बिजली के शार्ट सर्किट से लगी या फिर अन्य किन्ही वजह से अभी कुछ स्पष्ट नहीं हो पाया है। फसल जलने से किसान आहत है। ग्रामीणों ने पीड़ित किसान को सरकार से उचित मुआवजा दिए जाने की मांग की है।

X
आग से 44 एकड़ में गेहूं की फसल जली, किसानों ने मांगा मुआवजा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..