• Hindi News
  • Haryana
  • Bahadurgarh
  • इंजीनियरिंग क्लस्टर में फुटवियर इंडस्ट्री के लिए तैयार होंगे कारीगर
--Advertisement--

इंजीनियरिंग क्लस्टर में फुटवियर इंडस्ट्री के लिए तैयार होंगे कारीगर

Dainik Bhaskar

Apr 30, 2018, 02:05 AM IST

Bahadurgarh News - देशभर में विख्यात बहादुरगढ़ की फुटवियर इंडस्ट्री को ट्रेंड कारीगर देने के लिए सेक्टर-17 में 2 एकड़ औद्योगिक...

इंजीनियरिंग क्लस्टर में फुटवियर इंडस्ट्री के लिए तैयार होंगे कारीगर
देशभर में विख्यात बहादुरगढ़ की फुटवियर इंडस्ट्री को ट्रेंड कारीगर देने के लिए सेक्टर-17 में 2 एकड़ औद्योगिक क्षेत्र में इंजीनियरिंग क्लस्टर बनकर तैयार है। इसमें मशीनें लगाने का काम शुरू हो गया है। एक से दो माह तक मशीनों को ट्रायल पर चलाया जाएगा। उसके बाद इसका विधिवत उद्घाटन किया जाएगा। सरकार और उद्योगपतियों के साझे प्रयास से बने इस कलस्टर में तीन शिफ्टों में 1500 कच्चे श्रमिकों को ट्रेनिंग दी जाएगी। उससे पहले कोई भी श्रमिक बहादुरगढ़ फुटवियर पार्क में स्थित 300 छोटी-बड़ी फैक्ट्रियों में काम नहीं कर पाएगा। इससे फैक्ट्री संचालकों को ट्रेंड कारीगर मिलेेंगे और दूसरे राज्यों व विदेशों से प्रतिस्पर्धा करने में आसानी होगी। इससे युवाओं को भी सीधे रोजगार मिल सकेगा।

1500 कर्मियों को 3 शिफ्टों में करेंगे ट्रेंड, 2 माह चलेगी ट्रेनिंग

300 फैक्ट्रियों में 40 हजार से ज्यादा श्रमिक करते हैं काम

बहादुरगढ़. क्लस्टर के बाहर खड़े फुटवेयर पार्क के सदस्य।

साढ़े 10 करोड़ रुपए सरकार ने दिए

25 करोड़ की लागत से तैयार हो रहे इस क्लस्टर में राज्य सरकार ने डेढ़ करोड़ रुपए की सहायता की है। केंद्र सरकार ने 9 करोड़ रुपए की सहायता मशीने खरीदने के लिए की हैं व अन्य रुपया फैक्ट्री मालिकों ने स्वयं एकत्र किया है। इसके तैयार होने से बहादुरगढ़ फुटवियर में बहादुरगढ़, झज्जर, रोहतक व सोनीपत के कारीगरों को रोजगार मिलेगा। इस क्लस्टर में एक समय में 500 युवक एक साथ ट्रेनिंग ले सकेंगे। इस समय करीब 40 से 50 हजार श्रमिक बहादुरगढ़ औद्योगिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं। क्लस्टर बनने के बाद अन्य औद्योगिक क्षेत्र के उद्योगपति भी यहां से मैन पावर ले सकेंगे। रॉ मैटीरियल की टेस्टिंग, मैन पावर आदि कामों के लिए भी उद्योगपतियों को बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस भवन में ट्रेनिंग सेंटर, टूल रूम अन्य व्यवस्थाओं के लिए कमरे तैयार किए गए हैं। बहादुरगढ़ फुटवियर डेवलपमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड का गठन किया गया है। 2 एकड़ में तैयार हो रहे इस क्लस्टर को अब अंतिम रूप दिया जा रहा है। 60 हजार फुट एरिया कवर हो चुका है।

हमारे युवा हैं बनेंगे बेहतरीन कारीगर : छिक्कारा

फुटवियर एसोसिएशन के सदस्य नरेंद्र छिक्कारा, राजकुमार गुप्ता, सुभाष जग्गा, पन्ना लाला वैध, विकास आनंद सोनी, श्री संत लाल मग्गू आदि ने बताया कि फैक्ट्री क्षेत्र की बेसिक ट्रेनिंग नहीं होने के कारण यहां के युवा मैन पावर के रूप में तो काम मांगते हैं, लेकिन अच्छे कारीगर नहीं बन पा रहे थे। इसी कारण फैक्ट्री संचालक स्थानीय युवकों से दूरी बना रहे थे। अब एक साथ इतनी बड़ी संख्या में युवकों को फुटवियर फैक्ट्री की बेसिक ट्रेनिंग देने के साथ यहां जॉब वर्क भी करवाया जाएगा। उत्तर भारत में यह पहला बड़ा क्लस्टर है, जहां इतनी बड़ी संख्या में युवा फैक्ट्रियों में काम करने से पहले ट्रेनिंग ले सकेंगे।

राॅ मैटीरियल की होगी जांच, आईटी सेंटर में बनेंगे डिजाइन

यहां टेस्ट लैब की भी सुविधा होगी। इस लैब के होने से उद्योगपतियों को अपने यहां के प्रोडक्ट मैटीरियल या मशीनों के साथ ही रॉ मैटीरियल को जांच के लिए बाहर भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अभी तक बहादुरगढ़ औद्योगिक क्षेत्र की 1200 यूनिटों के सामने उत्पादों को जांच के लिए दिल्ली, मुंबई या दूसरे बड़े शहरो में भेजना बड़ी समस्या बनी हुई थी। क्लस्टर में नगर निगम, बिजली, पुलिस, एकेवीएन, डीआईसी के कैंप भी रहते हैं, जिससे जरूरत पड़ने पर किसी भी उद्योग को इनकी सेवाएं मुहैया कराई जा सकें। यहां पर उद्योगों के लिए ऑर्डर देने का भी काम लिया जाएगा।

X
इंजीनियरिंग क्लस्टर में फुटवियर इंडस्ट्री के लिए तैयार होंगे कारीगर
Astrology

Recommended

Click to listen..