Home | Haryana | Bahadurgarh | एक सप्ताह में पाठशाला का ताला नहीं खुला तो छात्राओं के साथ करेंगे आंदोलन

एक सप्ताह में पाठशाला का ताला नहीं खुला तो छात्राओं के साथ करेंगे आंदोलन

वैश्य कन्या प्राइमरी पाठशाला पर की गई तालाबंदी को लेकर राजनीति भी गरमाने लगी है। कई संगठनों ने तालाबंदी को लेकर...

Bhaskar News Network| Last Modified - Apr 13, 2018, 02:05 AM IST

एक सप्ताह में पाठशाला का ताला नहीं खुला तो छात्राओं के साथ करेंगे आंदोलन
एक सप्ताह में पाठशाला का ताला नहीं खुला तो छात्राओं के साथ करेंगे आंदोलन
वैश्य कन्या प्राइमरी पाठशाला पर की गई तालाबंदी को लेकर राजनीति भी गरमाने लगी है। कई संगठनों ने तालाबंदी को लेकर जहां अपना कड़ा रोष जताया है तो वहीं बहादुरगढ़ शिक्षा सभा ने इसको लेकर प्रशासन को चेताया है कि यदि एक सप्ताह में तालाबंदी नहीं खोली गई तो सभा से जुड़े सदस्यों, शिक्षण संस्थाओं से जुड़े पदाधिकारियों, छात्राओं व आमजन को लेकर बड़े स्तर पर जन आंदोलन होगा। उधर बच्चों के अभिभावकों ने भी तालाबंदी किए जाने व बच्चों के भविष्य को अंधकारमय बनाए जाने पर अपना कड़ा एतराज जताना भी शुरू कर दिया।

बहादुरगढ़ में 73 वर्ष से चल रही है पाठशाला

गुरुवार को बहादुरगढ़ शिक्षा सभा के पदाधिकारियों ने वैश्य स्कूल में एक विशेष बैठक आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता प्रधान श्रीनिवास गुप्ता ने की। जिसमें सर्वसम्मति से कई प्रस्ताव पारित किए गए। इस मौके पर पास प्रस्ताव में कहा गया कि कन्या पाठशाला पर ताला लगाने वाले सभा के आजीवन सदस्य अशोक गुप्ता, शिव कुमार, विनोद कुमार, मंगतराय गोयल को आजीवन सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया है। दूसरे प्रस्ताव में अशोक गुप्ता व उनके साथियों द्वारा 5 अप्रैल को वैश्य कन्या पाठशाला पर ताला लगाए जाने को लेकर शिक्षा सभा इस मामले को उठाने वाली प्रत्येक संस्था व पंचायत का सहयोग करेगी।

श्रीनिवास गुप्ता ने बताया कि यह पाठशाला पिछले 73 साल से लगातार चल रही है, जबकि महाराजा अग्रसेन ट्रस्ट का गठन 40 वर्ष पहले हुआ है। ट्रस्ट को जमीन परनाला गांव की पंचायत और बहादुरगढ़ नगर परिषद ने बच्चों की पढ़ाई के लिए पाठशाला चलाए जाने के लिए दी थी। इसलिए इस जमीन पर सबसे पहला हक वैश्य कन्या पाठशाला का बनता है। इस पाठशाला में लम्बे समय से छात्राएं नि:शुल्क शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। इस संबंध में प्रबंधन फार्म 4 में विधिवत पंजीकृत सुरक्षा बांड सरकार को प्रस्तुत करेंगे। ऐसे में वर्तमान स्कूलों को प्रबंधन समिति द्वारा चलाना कानूनी रूप से भी जरूरी है। बैठक में रामधन गुप्ता, प्रेमचंद बंसल, सत्यनारायण, जयभगवान, राजपाल शर्मा, इन्द्रकुमार नागपाल, राधेश्याम काबरा, यशपाल गांधी, हरमिलाप, पवन, जयकिशन, मनीष, सुरेन्द्र, मुकेश, शिवनारायण, जगदीश गर्ग समेत दर्जनों शिक्षा सभा से जुड़े पदाधिकारी व सदस्य मौजूद रहे।

वैश्य कन्या प्राइमरी पाठशाला पर तालाबंदी का मामला

शिक्षा सभा कर रही है गलत बयानबाजी : गुप्ता

अशोक गुप्ता ने कहा कि शिक्षा सभा के लोग बच्चों की आड़ में उसके खिलाफ गलत प्रचार कर रहे हैं। वे यहीं इसी स्थान पर भव्य स्कूल बनाने की तैयारी में है जिसे महाराजा अग्रसेन के नाम से ही चलाया जाएगा। शिक्षा सभा के सदस्य केवल जमीन को हड़पने के लिए इस तरह का प्रचार क रहे हैं, लेकिन किसी को भी यह जमीन हड़पने नहीं दी जाएगी। इस जमीन को लेकर पहले भी मामला अदालत में विचाराधीन हैं। ऐसे में शिक्षा सभा गलत बयानबाजी करके सभी को गुमराह करने का प्रयास कर रही है।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now