Hindi News »Haryana »Bahadurgarh» रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के शेड पड़े छोटे

रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के शेड पड़े छोटे

रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर बने शेड लंबाई के हिसाब से छोटे हैं। स्टेशन पर यात्रियों की संख्या दिन-प्रतिदिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 20, 2018, 02:05 AM IST

रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर बने शेड लंबाई के हिसाब से छोटे हैं। स्टेशन पर यात्रियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। गर्मियों में यात्रियों को असुविधा हो रही है। यात्री पेड़ या छायादार स्थान देखकर ट्रेन का इंतजार करते हैं। तेज धूप में शेड के बाहर कोच आने से भी यात्रियों को असुविधा होती है। बारिश के दिनों में यह परेशानी ओर बढ़ जाती है। स्टेशन पर ओर शेड बन जाए तो लोगों को काफी हद इस परेशानी से छुटकारा मिलेगा। प्लेटफार्म की लंबाई करीब 700 मीटर है। जबकि शेड 150 मीटर के बने हैं। शेड का विस्तार करना चाहिए, ताकि पूरी ट्रेन शेड वाले हिस्से में खड़ी सके। अभी गर्मियों और बारिश में यात्रियों को असुविधा झेलनी पड़ रही है। रेलवे स्टेशन पर 52 ट्रेनों का स्टापेज है। फिलहाल प्रतिदिन औसतन पांच हजार यात्री यात्रा करते हैं। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक इस मार्ग पर भविष्य में ट्रेनों में यात्रियों की संख्या बढ़ जाएगी। अभी स्कूल लग रहे हैं। स्कूली बच्चों की छुट्टियां मई के बाद शुरू होगी तब यात्रियों की संख्या भी बढ़ेगी ऐसे हालात में यात्रियों को धूप में खड़ा होना पड़ेगा।

रेलवे स्टेशन के सुविधागृह की भी जरूरत है। यहां शेड नहीं हैं। गर्मियों और बारिश के दिनों में यहां भी यात्रियों को परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। स्टेशन पर रात में ठहरने के लिए किराए पर कमरे उपलब्ध होना चाहिए, ताकि देर रात पहुंचने वाले यात्री ठहर सकें। इस बारे में स्टेशन अधीक्षक यशपाल संह ने बताया कि शेड को आगे तक बढ़ाने की मांग रेल यात्रियों की ओर से भी रेल विभाग को भेजी हुई है। उम्मीद है कि बहादुरगढ़ के दोनों प्लेटफार्म पर शेड की संख्या बढ़ेगा।

रेलवे स्टेशन पर नए शेड बनाने की यात्रियों ने की मांग

बहादुरगढ़. तेज धूप होने से स्टेशन पर बना शेड पड़ा छोटा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bahadurgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×