• Hindi News
  • Haryana
  • Bahadurgarh
  • शहर में बंदरों की संख्या बढ़ने से दहशत, भगाने पर करते हैं हमला
--Advertisement--

शहर में बंदरों की संख्या बढ़ने से दहशत, भगाने पर करते हैं हमला

Dainik Bhaskar

Apr 07, 2018, 02:05 AM IST

Bahadurgarh News - कुछ महीने की शांति के बाद शहर में बंदरों का आंतक फिर से बढ़ गया है। इस कारण लोगों में दहशत का माहौल है। उनका कहना है...

शहर में बंदरों की संख्या बढ़ने से दहशत, भगाने पर करते हैं हमला
कुछ महीने की शांति के बाद शहर में बंदरों का आंतक फिर से बढ़ गया है। इस कारण लोगों में दहशत का माहौल है। उनका कहना है कि बंदर घर में परिवार के सदस्य रहने के बावजूद फ्रिज खोल लेते हैं। भगाने पर हमला करते हैं। यही नहीं, महिला और बच्चों की तरफ काटने के लिए दौड़ते हैं। लोगों की शिकायत है कि इस बारे में कई बार नगर पालिका प्रशासन से शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं है।

भट्ठी गेट निवासी सूरज सिंह, रमेश, नंदलाल, संतलाल ने बताया कि कुछ समय से क्षेत्र में बंदर कम थे, लेकिन अब करीब 20-25 दिन से इनकी संख्या बढ़ गई है। घर में घुसने पर इन्हें भगाया जाता तो काटने के लिए दौड़ते हैं। इनकी दहशत से महिलाओं और बच्चों ने छतों पर जाना बंद कर दिया है। गर्मी के मौसम में बिजली जाने के बाद रात छत ही एक सहारा रहता है। इनके डर से कोई छत पर नहीं सोता। लोगों ने अब खुले में सामान रखना बंद कर दिया है। छत पर कपड़े सूखने के दौरान शर्ट, टी शर्ट आदि के बटन तोड़ देते हैं। साथ ही में कपड़े को भी खराब कर दिया जाता है। जब बंदरों को बाहर कुछ नहीं मिलता है तो ये घर में लगाए पौधों और गमलों गिराकर तोड़ देते हैं। लघु सचिवालय में भी लंबे समय तक और कोर्ट कॉम्प्लैक्स में बंदरों का जमावड़ा रहा, लेकिन वर्ष 2017 के अंत में चलाए गए विशेष अभियान के बाद से काफी राहत रही, लेकिन अब फिर से क्षेत्र में बंदरों का आतंक बढ़ गया है। ये गर्मी के कारण भवन के अंदर पहुंच जाते हैं और सीढ़ियों पर लोगों का रास्ता रोक लेते हैं।

दिसंबर में काम बीच में छोड़ भागा ठेकेदार

नगर पालिका के जानकारों का कहना है कि गत दिसंबर माह में 700 बंदरों को पकड़ने का ठेका छोड़ा गया था। एक बंदर पकड़ने के लिए 680 रुपए का रेट भी दिया था, लेकिन ठेकेदार 381 बंदर पकड़ने के बाद काम के पैसे कम बताकर काम बीच में ही छोड़कर चला गया। तीन महीने से अधिक हो गए, अभी तक ठेकेदार वापस नहीं आया। अब जिस तरह बंदरों की संख्या बढ़ी है। उससे यह भी संभावना है कि ग्रामीण क्षेत्र से बंदर पकड़कर शहर में छोड़े गए हैं।

नए टेंडर लगाए जाएंगे


X
शहर में बंदरों की संख्या बढ़ने से दहशत, भगाने पर करते हैं हमला
Astrology

Recommended

Click to listen..