• Home
  • Haryana News
  • Bahadurgarh
  • हड़ताली कर्मचारियों ने एस्मा कानून की प्रतियां जलाकर जताया रोष, सड़कों पर कूड़ा फेंकने वाले दुकानदारों के कटेंगे चालान
--Advertisement--

हड़ताली कर्मचारियों ने एस्मा कानून की प्रतियां जलाकर जताया रोष, सड़कों पर कूड़ा फेंकने वाले दुकानदारों के कटेंगे चालान

सरकार की ओर से मांगों को लेकर अनदेखी किए जाने पर आंदोलनरत नगर परिषद सफाई कर्मियों की हड़ताल सोमवार को भी छठवें दिन...

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 02:10 AM IST
सरकार की ओर से मांगों को लेकर अनदेखी किए जाने पर आंदोलनरत नगर परिषद सफाई कर्मियों की हड़ताल सोमवार को भी छठवें दिन जारी रही। रोष स्वरूप कर्मचारियों ने शहर में विरोध प्रदर्शन किया और उसके बाद नगर परिषद कार्यालय गेट पर जमकर नारेबाजी की। हड़ताल को पहले से ही सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा जहां अपना समर्थन दे रहा है वहीं अब कई राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं ने भी अपना समर्थन दिया। कर्मचारियों ने कहा कि सरकार एस्मा कानून का डर दिखा रही है, लेकिन वे इससे घबराने वाले नहीं है। कर्मचारियों ने विरोध स्वरूप एस्मा की प्रतियां भी जलाई। नप के कार्यकारी अधिकारी अपूर्व चौधरी ने कहा कि सड़कों पर कूड़ा फैंक रहे दुकानदारों के कटेंगे चालान।

कर्मचारियों ने निकाला जुलूस

गत 9 मई से सफाई कर्मी हड़ताल पर चल रहे हैं। सोमवार को भी सफाई कर्मियों ने पूर्ण काम बंद कर अपनी आवाज बुलंद की। बहादुरगढ़ इकाई सचिव राजपाल ने कहा कि सरकार द्वारा एस्मा कानून से उन्हें डराना चाहती है पर वे इससे घबराने वाले नहीं है। सोमवार को नगर पालिका संघ ने सर्व कर्मचारी संघ के बेनर तले शांतिपूर्वक ढंग से शहर मे जुलूस निकालकर नगर परिषद के सामने एस्मा की प्रतियां जलाई।

ऐलान किया कि अगर शीर्ष नेतृत्व को बुला कर बातचीत नहीं की जाती तो अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल करने के लिए कर्मचारी बाध्य होंगे। सर्व कर्मचारी संघ के ब्लॉक प्रधान बिजेंद्र सैनी ने कहा कि सरकार का कोई भी नुमाइंदा अभी तक नगरपालिका सफाई कर्मचारियों से बातचीत करने के लिए नहीं आया है। सरकार कर्मचारियों से बात तक नहीं करना चाहती है और ना ही कर्मचारियों कि समस्याा का समाधान करना चाहती। हरियाणा सरकार अपनी हठधर्मिता पर उतारू है। एसकेएस के वरिष्ठ उप प्रधान बंसी लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार नगरपालिका सफाई कर्मचारी संघ के नेतृत्व से बुला कर बातचीत करे और कर्मचारियों कि जायज मांगों का समाधान करें।

सर्कल सचिव रवींद्र दलाल ने कहा कि जब भी कर्मचारी अपनी जायज मांगों को उठाता है तो सरकार एस्मा जैसे कानून से कर्मचारियो को डराने का प्रयास करती है। सरकार ने एस्मा बिजली निगम के कर्मचारियों पर भी लगाई थी, लेकिन सरकार ने बातचीत करनी पड़ी। उन्होंने मांग की है कि फायर ब्रिगेड के 1360 कर्मचारियों को कंडीशन लगाकर ठेकेदार के अधीन कर रही है उन्हें वापस लिया जाए। नगर परिषद की हड़ताल के समर्थन में आईटीआई से अनुबंधित अनुदेशक सर्व कर्मचारी संघ बहादुरगढ़ से प्रदीप, जगजीत, राकेश, मजदूर कल्याण मंच से सतीश,बिजली निगम से ऑल हरियाणा पावर कारपोरेशन वर्कर यूनियन हैड आफिस हिसार झज्जर सर्कल सचिव रवींद्र दलाल, वरिष्ठ उप प्रधान बिजेन्द्र सैनी, वन विभाग मजदूर यूनियन से रेंज प्रधान जितेंद्र कुमार, आम आदमी पार्टी से विजय शर्मा, पार्षद शशि, संदीप, गुरदेव राठी, पार्षद प्रतिनिधि समुंद्र सहवाग, कपूर राठी, सीआईटीयू से मुकेश मोर की, सिंचाई विभाग से नवीन व अनेक सामाजिक संगठनों ने अपना समर्थन दिया।

बहादुरगढ़. अपनी मांगो को लेकर सड़कों पर उतरे सफाई कर्मचारी।

ठेकेदार को नए कर्मचारी भर्ती करने के आदेश

नगर परिषद में डीसी रेट पर काम करने वाले कर्मचारियों को हटाने की प्रक्रिया शुरू करने के आदेश के साथ ही सफाई ठेकेदार को भी नए सफाई कर्मचारी रखने के आदेश दिए गए है। इस बारे में प्रशासन के बुलाने पर सफाई ठेकेदार ने नगर परिषद में पहुंचकर नप अधिकारियों के साथ बैठक की व नए सफाई कर्मचारियों को भर्ती करने का आश्वासन दिया। नप के कार्यकारी अधिकारी अपूर्व चौधरी ने बताया कि आदेश के अनुसार सभी पक्के सफाई कर्मचारियों को रात के समय भी शहर की सफाई करने को कहा है। वहीं सड़कों पर कूड़ा फैंक रहे दुकानदारों के चालान काटने को भी कहा है।

झज्जर. नगर पालिका प्रांगण में अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी करते हुए सफाई कर्मचारी।

सभी कर्मचारी दमकल केंद्र पर एकजुट होगर नगर पालिका कार्यालय पहुंचे

झज्जर | नगर पालिका कर्मचारी संघ की हड़ताल सोमवार को छठे दिन भी जारी रही। संघ के प्रधान आशीष की अध्यक्षता में सफाई कर्मचारी दमकल केंद्र में एकजुट हुए। इसके बाद सभी कर्मचारी नगर पालिका कार्यालय पहुंचे और हरियाणा सरकार द्वारा एस्मा लगाए जाने वाले पत्र की प्रतियां जलाई। प्रधान आशीष बाेहत ने बताया कि सत्ता में आने से पहले भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में नगर पालिका से ठेका प्रथा बंद करने, न्यूनतम वेतन 15 हजार रुपए देने आदि वायदे किए थे। लेकिन सरकार आज तक इन वायदों को पूरा नहीं कर पाई है। इसके उल्ट सरकार ठेकेदारी प्रथा को बढ़ावा दे रही है। छह दिन बीतने के बाद भी सरकार ने हड़ताली कर्मचारियों से कोई संपर्क नहीं किया है। जिससे कर्मचारियों का रोष बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी। वहीं कर्मचारी नेता जयपाल गुढ़ा ने हड़ताली कर्मचारियों का समर्थन किया। इस मौके पर कर्मचारी नेता विष्णु दत्त जांगड़ा, जयभगवान सुहाग, रामकेश, रणबीर खटक, ईश्वर बिरधाना, महाबीर, कुलदीप, सुरस्ती, ओमप्रकाश, कमलेश मौजूद रहे।

सरकार की वादाखिलाफी के विरोध में सफाईकर्मियों ने किया प्रदर्शन

बेरी | पीडब्लूडी मैकेनिकल वर्करज यूनियन और सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा की पब्लिक हेल्थ शाखा बेरी के कर्मचारियों ने नगर पालिका कार्यालय के बाहर हड़ताल कर धरना दे रहे नपा के सफाई कर्मचारियों को समर्थन दिया। प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश सरकार की अनदेखी पर रोष जताया। सोमवार को कर्मचारी नेता शिव चौक पर एकत्रित हुए। यहां जिला प्रधान अफलातून जाखड़, बेरी ब्लाॅक प्रधान जगबीर सोलंकी, सूरजभान शर्मा, सुनील ने संयुक्त रूप से कहा कि सरकार ने वादा किया था कि अस्थायी कर्मचारियों को स्थायी करेंगे, ठेकेदारी प्रथा बंद करेंगे, लेकिन सरकार ने वादे पूरे नहीं किए। सरकार कर्मचारियों के हक को भूल गई।