• Hindi News
  • Haryana
  • Bahadurgarh
  • एक माह बाद खुला स्कूल का ताला, आज से दाखिले, टेंट की जगह कमरों में बैठकर पढ़ेंगी छात्राएं
--Advertisement--

एक माह बाद खुला स्कूल का ताला, आज से दाखिले, टेंट की जगह कमरों में बैठकर पढ़ेंगी छात्राएं

Dainik Bhaskar

May 07, 2018, 02:15 AM IST

Bahadurgarh News - शहर के रेलवे रोड स्थित वैश्य कन्या प्राथमिक पाठशाला पर की गई तालाबंदी पर डीसी के ऐतराज के बाद रविवार को ताला खोल...

एक माह बाद खुला स्कूल का ताला, आज से दाखिले, टेंट की जगह कमरों में बैठकर पढ़ेंगी छात्राएं
शहर के रेलवे रोड स्थित वैश्य कन्या प्राथमिक पाठशाला पर की गई तालाबंदी पर डीसी के ऐतराज के बाद रविवार को ताला खोल दिया गया। अब यहां 100 बच्चियों को शिक्षा देने का मार्ग साफ हो गया, जो तालाबंदी के बाद वैश्य हाई स्कूल परिसर में लगे टेंटों में शिक्षा ग्रहण करने के लिए मजबूर थीं। टेंट देखकर डीसी सोनल गोयल ने नाराजगी जताई थी। इसके बाद महाराजा अग्रसान ट्रस्ट के पदधिकारी स्कूल चलाने पर राजी हुए। अग्रवाल समाज के साथ शहर के लोगों ने भी रविवार को यज्ञ करके पाठशाला शुरू कराई। उन्हाेंने चंदे से इस स्कूल में सुविधाएं जुटाने की योजना भी बनाई। सोमवार से छात्राओं को फिर भर्ती किया जाएगा। इसके लिए एक कमेटी का भी गठन किया गया है।

आज से प्रवेश शुरू, धर्मवीर

हेडमास्टर नियुक्त

ट्रस्ट के पदाधिकारी अशोक गुप्ता ने कहा कि स्कूल में सोमवार को नवनियुक्त अध्यापकों का स्टाफ बैठेगा। इस स्कूल को शहर का सबसे अच्छा स्कूल बनने का प्रयास है। शहर के राजकीय स्कूल के पूर्व प्राचार्य धर्मवीर शर्मा को यहां हेडमास्टर नियुक्त किया है। सोमवार से बच्चों का प्रवेश शुरू हो जाएगा। इस समय स्कूल में 35 कमरे हैं। सभी कमरों को एसी बनाया जाएगा। वाहनों की अच्छी पार्किंग के साथ पार्क भी तैयार किया जाएगा। स्कूल का एक हिस्सा जर्जर है। शिक्षामंत्री से आग्रह करके इसे नए भवन के रूप में तैयार कया जाएगा।

स्टाफ सरकारी नौकरी में मर्ज होने के बाद स्कूल कर दिया था बंद

सरकारी अनुदान से चल रहे इस स्कूल के पूरे स्टाफ को सरकार ने सरकारी नौकरी में मर्ज कर लिया था। इसके बाद स्कूल संचालकों ने बिना किसी की सलाह के स्कूल को बंद कर दिया था। इसका शहर में काफी विरोध हुआ था। स्कूल संचालकों ने बताया कि स्कूल कमेटी का अदालत में केस चल रहा है। इसके चलते स्कूल बंद करना पड़ा। इस स्कूल में शिक्षा ले रही करीब 100 छात्राओं को शिक्षा सभा ने अपने मैदान में टेंट लगाकर पढ़ाई शुरू करवाई।

बहादुरगढ़ . प्राथमिक पाठशाला का ताला खोलने के बाद हवन करते कमेटी के सदस्य।

कुछ लोग प्रॉपर्टी पर कब्जा करना चाहते थे : गुप्ता

महाराजा अग्रसेन ट्रस्ट के पदाधिकारी अशोक गुप्ता ने बताया कि कुछ लोग इस जमीन को अपनी प्रॉपर्टी बनाना चाहते थे। संस्था के चुनाव के दौरान भी इस तरह का लालच दिया गया था। पर बच्चियों के भविष्य को देखते हुए उन्होंने स्कूल पर ताला लगाया था। अब जैसे ही व्यवस्था हुई तो स्कूल को फिर से खोल दिया है। यह स्थान केवल स्कूल के लिए था, वह रहेगा। अब यहां भव्य स्कूल बनाने की तैयारी है। इसे सुचारू रूप से चलाने के लिए फंड एकत्र करने की भी तैयारी की जा रही है।

एसडीएम को ज्ञापन सौंप की थी स्कूल चलाने की मांग

स्कूल बंद होने का विरोध पूरे शहर में जोर-शोर से उठा था। बहादुरगढ़ शिक्षा सभा के पदाधिकारियों ने प्रधान श्रीनिवास गुप्ता के नेतृत्व में मंगलवार को एसडीएम जगनिवास को ज्ञापन देकर स्कूल का ताला खुलवाने की मांग की थी। ज्ञापन के माध्यम से पदाधिकारियों ने बताया कि यहां पर करीब 70 साल से प्राथमिक स्कूल चलाया जा रहा है और इस स्कूल के ताला लगने से करीब 250 बच्चियों का भविष्य खराब हो जाएगा। बहादुरगढ़ शिक्षा सभा के प्रधान श्रीनिवास गुप्ता, महासचिव एसके अग्रवाल, वैश्य काॅलेज के महासचिव प्रेमचंद बंसल, बीएड काॅलेज के प्रधान सतनारायण अग्रवाल ने बताया कि वैश्य कन्या पाठशाला में 5 अप्रैल को जब अध्यापिकाएं व छात्राएं गेट पर पहुंची तो यहां पर ताला लगा मिला। इसके बाद पता लगा कि महाराजा अग्रसेन ट्रस्ट के पूर्व प्रधान अशोक गुप्ता द्वारा ताला लगाया गया है। अशोक गुप्ता फिलहाल ट्रस्ट के किसी भी संवैधानिक पद पर नहीं है।

स्कूल चलाने के लिए बनाई कमेटी

स्कूल चलाने में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो इसके लिए एक कमेटी भी बनाई है। इसमें शिव कुमार गुप्ता, मंगतराम गोयल, संजय गुप्ता, देवेंद्र मित्तल व नितिन गुप्ता को रखा गया है। पहले स्तर पर स्कूल का दस लाख का बजट तैयार किया गया है। धीरे-धीरे लोगों के सहयोग से इस बजट को बढ़ाया जाएगा।

ये रहे मौजूद

इस मौके पर विधायक नरेश कौशिक के साथ अशोक गुप्ता, शिव कुमार गुप्ता, नगर पार्षद अशोक शर्मा, नगर पार्षद पालेराम, विनोद गुप्ता, सुशील गोयल, पवन गुप्ता, नरेश बंसल, विष्णु भगवान, महाबीर मित्तल, राजू आिद मौजूद रहे।

X
एक माह बाद खुला स्कूल का ताला, आज से दाखिले, टेंट की जगह कमरों में बैठकर पढ़ेंगी छात्राएं
Astrology

Recommended

Click to listen..