--Advertisement--

तीन दिन की हड़ताल पर सफाई कर्मचारी, लगे कूड़े के ढेर

अपनी मांगों को लेकर नगर परिषद के अधीन डीसी रेट पर काम करने वाले जिले भर के करीब 175 कर्मचारी बुधवार से तीन दिवसीय...

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 02:20 AM IST
तीन दिन की हड़ताल पर सफाई कर्मचारी, लगे कूड़े के ढेर
अपनी मांगों को लेकर नगर परिषद के अधीन डीसी रेट पर काम करने वाले जिले भर के करीब 175 कर्मचारी बुधवार से तीन दिवसीय हड़ताल पर है। जिसमें बहादुरगढ़ में 140 सफाई कर्मी व झज्जर में 35 कर्मचारी विरोध स्वरूप हड़ताल पर है। उनके साथ फायर ब्रिगेड के कच्चे कर्मचारी भी हड़ताल पर हैं। तीन दिनों की हड़ताल के पहले दिन सफाई कर्मचारियों ने गेट पर बैठकर धरना दिया।

कच्चे कर्मचारियों की ये मांगें

कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, समान काम के लिए समान वेतन देने, जोखिम भत्ता लागू करने, ठेका प्रथा बंद करने, एनपीएस स्कीम को रद्द करने की मांग के अलावा कुछ अन्य प्रमुख मांगों को लेकर कर्मचारियों ने अपनी आवाज उठाई। कर्मचारियों ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार उनकी मांगों को लेकर गंभीर नहीं है। ठेकेदार के अधीन काम करने वाले कर्मचारियों को भी पूरा वेतन समय पर नहीं मिलता। साथ में अन्य सुविधाओं से भी उन्हें वंचित रहना पड़ता है। कर्मचारियों ने चेताया कि यदि उनकी जायज मांगों को जल्द पूरा नहीं किया तो यह हड़ताल जारी रहेगी।

इकाई प्रधान जयभगवान, सचिव राजपाल, जिला प्रधान राजेंद्र तुषामड़, लीलाराम, अमित के अलावा सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से ब्लॉक प्रधान बिजेंद्र सैनी, जिला वरिष्ठ उप प्रधान एवं ऑल हरियाणा पॉवर कारपोरेशन वर्कर यूनियन राज्य सचिव बंसी लाल, सर्कल सचिव रविंद्र दलाल, यूनिट प्रधान दलबीर हुड्डा, सचिव प्रदीप छिकारा, अग्निश्मन विभाग प्रधान पवन हुड्डा, नवीन डागर, प्रदीप, सुरेंद्र जांगड़ा, मनीष, पवन, राजेश, धर्मेंद्र, विकास, ऋषि, राकेश सोलंकी, सीनू सिंह, वीरभान राठी, सतीश, अनिल, तारिफ, बंसत ने सफाई कर्मियों की आवाज को प्रमुखता से उठाया।

सफाई कर्मियों ने धरना-प्रदर्शन कर की नारेबाजी

झज्जर. हड़ताल पर बैठी महिला सफाई कर्मचारी नारेबाजी करती हुई।

भास्कर न्यूज | झज्जर

नगर पालिका के 35 कर्मचारी लंबित मांगों को लेकर बुधवार से तीन दिवसीय हड़ताल पर चले गए। उन्होंने नगर पालिका परिषद में धरना-प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। यहां सभा में कर्मचारियों ने कहा कि सरकार ने वादा किया था कि अस्थायी कर्मचारियों को स्थायी करेंगे, ठेकेदारी प्रथा बंद करेंगे, लेकिन सरकार ने समस्याओं का समाधान नहीं किया। वादा कर कर्मचारियों के हकों को भूल गई। इसके कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हड़ताल से शहर की सफाई व्यवस्था प्रभावित रही। जिला प्रधान आशीष ने कहा कि प्रदेश में मांगों को लेकर कर्मचारी हड़ताल पर हैं।

तीन दिन तक कोई भी कर्मचारी काम पर नहीं जाएगा। अगर सरकार फिर भी मांगें पूरी नहीं करती है तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि सफाई कर्मचारियों की मांगों को सरकार हल्के में ले रही है। कर्मचारी अपने हकों के लिए सरकार से कई बार गुहार लगा चुके हैं, लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही। नेताओं ने कहा कि जब तक मांगों का समाधान नहीं किया जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। हड़ताल में महिला कर्मचारी भी मौजूद रहीं।

X
तीन दिन की हड़ताल पर सफाई कर्मचारी, लगे कूड़े के ढेर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..