• Home
  • Haryana News
  • Barwala
  • ई-पंचायत का विरोध जता रहे सरपंचों व ग्राम सचिवों को नारंग-रेनुका का समर्थन
--Advertisement--

ई-पंचायत का विरोध जता रहे सरपंचों व ग्राम सचिवों को नारंग-रेनुका का समर्थन

ई-पंचायत प्रणाली के विरोध में सरपंचों व ग्राम सचिवों का बीडीपीओ कार्यालय पर अनिश्चितकालीन धरना शनिवार को दूसरे...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:05 AM IST
ई-पंचायत प्रणाली के विरोध में सरपंचों व ग्राम सचिवों का बीडीपीओ कार्यालय पर अनिश्चितकालीन धरना शनिवार को दूसरे दिन भी जारी रहा।इस दौरान धरने पर बैठे सरपंचों व ग्राम सचिवों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने का समर्थन करने के लिए विधायक वेद नारंग भी पहुंचे। उनके साथ इनेलो के हलकाध्यक्ष सत्यवान बिचपड़ी थे। इस दौरान नारंग कहा ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा ई-पंचायत के नाम पर ग्रामीण लोकतांत्रिक व्यवस्था को छिन्न भिन्न करने के प्रयास किए जा रहे हैं। विधायक वेद नारंग ने सरकार से मांग की कि बिना किसी ठोस योजना व संसाधनों के पंचायतों पर जबरदस्ती थोपने की प्रक्रिया को तुरंत प्रभाव से वापस लिया जाए। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के चलते गांवों का विकास पहले ही अवरूद्ध पड़ा है लेकिन फिर भी भाजपा बिना संसाधनों के पंचायतों पर ई प्रणाली लागू कर ग्रामीण लोकतांत्रिक व्यवस्था को कुचलना चाहती है। इस व्यवस्था को लागू करने से पहले जन प्रतिनिधियों व सरपंचों को अभी तक कोई प्रशिक्षण ही नहीं दिया गया। वहीं गांवों में ई प्रणाली से जोडऩे के लिए बिजली व इंटरनेट जैसी मूलभूत सुविधाएं ही नहीं है। जिससे योजना को लागू करने पर सवालिया निशान खड़े होना लाजमी है। विधायक नारंग ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार पंचायतों को अधिक अधिकार देने की बजाए, उनके अधिकार छीनने का प्रयास कर रही है। खुद मुख्यमंत्री का इन जन प्रतिनिधियों के प्रति व्यवहार पूर्ण रूप से अशोभनीय है। उनका यह अपमान पूरी जनता का अपमान है। विधायक नारंग ने चेताया कि भाजपा सरकार अपनी तानाशाही से बाज आए, अन्यथा इनेलो सरपंचों के साथ मिलकर जन आंदोलन शुरू करने पर मजबूर हो जाएगी। धरने पर बैठे सरपंच सरपंच रामकुमार पनिहारी, सुनील बिचपड़ी, मनवीर सरहेड़ा, दिलबाग जेवरा, भजनलाल बहबलपुर, ओम प्रकाश राजली, मनजीत नया गांव, पंचायत सचिव नरेश बूरा, सुनील, राजेश वर्मा, दिनेश आदि ने कहा कि जब तक सरकार अपना तुगलकी फरमान वापिस नहीं लेती तब तक सरकारी कार्यों का बहिष्कार जारी रहेगा। सरपंचों ने कहा कि वे अनिश्चितकालीन धरना जारी रखेंगे व आंदोलन को तेज करेंगे।

धरने पर बैठे विधायक वेद नारंग, सरपंच व ग्राम सचिव नारेबाजी करते हुए।

ग्राम सचिवों के समर्थन में सरपंच बीडीपीओ दफ्तर पर दिया धरना

बीडीपीओ कार्यालय के सामने धरना देते ग्राम सचिव व सरपंच।

नारनौंद | प्रदेश सरकार द्वारा नए वित्त वर्ष से प्रदेश की पंचायतों में हो रहे विकास कार्यों में पारदर्शिता लाने के लिए ई प्रणाली योजना प्रारंभ करने का अधिकतर सरपंच व ग्राम सचिव विरोध कर रहे हैं। यह विरोध दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। इसे लेकर पंचकूला में सरकार से बातचीत सिरे न चढ़ने पर सरकार द्वारा 9 ग्राम सचिवों को सस्पेंड किया गया है। सरकार की ई प्रणाली नीति के विरोध में तथा सस्पेंड किए गए ग्राम सचिवों की बहाली की मांग को लेकर आज नारनौंद खंड के सचिव विकास सैणी, अशोक कुमार, हरीश कुमार, मंदीप कुमार, विकास पानू, राकेश कुमार, दीपक, राजू व नरेश तथा राजथल सरपंच डा. दलशेर मान, बुडाना के सरपंच रणधीर, कापड़ो के सरपंच शैलेंद्र, भैणी अमीरपुर के हरीश कुमार, नाड़ा के धूप सिंह आदि ने बीडीपीओ कार्यालय के सामने दिया एकत्रित होकर धरना दिया। उन्होंने कहा कि धरना मांगें न माने जाने तक जारी रहेगा।