• Home
  • Haryana News
  • Barwala
  • डीएसपी कार्यालय पर कई संगठनों ने शुरू किया अनिश्चितकालीन धरना
--Advertisement--

डीएसपी कार्यालय पर कई संगठनों ने शुरू किया अनिश्चितकालीन धरना

पाबड़ा मर्डर मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मंगलवार को विभिन्न संगठनों के लोगों ने शहर में...

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 04:10 AM IST
पाबड़ा मर्डर मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मंगलवार को विभिन्न संगठनों के लोगों ने शहर में प्रदर्शन किया व बाद में डीएसपी कार्यालय के समक्ष अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया। प्रदर्शन में गांव पाबड़ा, फरीदपुर, किनाला, खैरी, कंडूल के लोगों ने भी शिरकत की। इससे पहले सुबह पाबड़ा के डॉ.अंबेडकर भवन में बैठक भी हुई। मामले के संबंध में डीएसपी जयपाल सिंह ने धरने पर बैठे लोगों से कहा कि आरोपितों का लाई डिटेक्टर टेस्ट लेने के लिए आरोपितों को 14 फरवरी को अदालत में पेश होने का नोटिस दिया गया है।

नोटिस उनके घरों पर पुलिस द्वारा भिजवा दिए गए हैं। प्रदर्शनकारी पुराना बस स्टैंड पर एकत्रित होकर नारेबाजी करते हुए एसडीएम कार्यालय पहुंचे यहां उन्होंने एसडीएम पृथ्वी सिंह को मामले से अवगत करवाया व एक ज्ञापन भी सौंपा। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने डीएसपी जयपाल सिंह से मुलाकात की लेकिन डीएसपी द्वारा रखी गई बात पर वे संतुष्ट नहीं हुए। नाराज प्रदर्शनकारी पाबड़ा मर्डर कांड संघर्ष समिति व दलित महापंचायत संघ के बैनर तले डीएसपी कार्यालय के समक्ष अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए। दलित महापंचायत संघ के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप भुक्कल ने कहा कि प्रशासन ढुलमुल रवैया अपना रहा है। इससे यह पता चलता है कि प्रशासन की आरोपितों के साथ मिलीभगत है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वे अमित शाह को काले झंडे दिखाएंगे और बरवाला के सभी रास्तों को जाम किया जाएगा। प्रशासन दोषियों को गिरफ्तार करे व पीडि़त परिवार को आर्थिक मुआवजा व सुरक्षा दे। फरीदपुर के पूर्व सरपंच रवि कुंडू ने कहा कि पुलिस पीड़ित परिवार के साथ अन्याय कर रही है। बता दें कि 22 दिसंबर को आरोपित राजकुमार के घर युवक संदीप का शव मिला था। पुलिस ने इस संबंध में मृतक संदीप के चचेरे भाई प्रवीन की शिकायत पर गांव के सरपंच प्रतिनिधी राजेश ढिल्लो, सुमन प|ी राजकुमार, राजकुमार पुत्र चतर सिंह व लालचंद लुहार के खिलाफ धारा 302, 201, 506 व अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। प्रवीन ने आरोप लगाया था कि राजेश ढिल्लो ने उन पर दबाव बनाकर संदीप के शव का पोस्टमार्टम नहीं करवाने दिया और ना ही पुलिस को मामले की जानकारी देने दी। धरने में पूर्व सरपंच सुंदर पाबड़ा, दलबीर पूर्व जिला पार्षद, कुलदीप पाबड़ा, रमेश भुक्कल, अशोक भुक्कल, महेंद्र फरीदपुर, भरत सिंह पूर्व सरपंच खैरी, जगदीश किनाला, जंग बहादुर, राजू पूर्व पंच, मनदीप कुंडू, कृष्ण पूर्व सरपंच खैरी, सतपाल पाबड़ा, सविता काजल, केला, आशा, ज्योति, सोनम, सोनिया, कपूर सिंह चमारखेड़ा, सुरजीत नंबरदार आदि शामिल हुए।