Hindi News »Haryana »Barwala» इधर, कच्चे कर्मी बोले- सुरक्षा प्रबंधों और सेलरी संबंधी नहीं हुई कोई बात

इधर, कच्चे कर्मी बोले- सुरक्षा प्रबंधों और सेलरी संबंधी नहीं हुई कोई बात

खेदड़ थर्मल पॉवर प्लांट में मंगलवार को हुए हादसे के बाद से यहां कार्यरत विभिन्न कंपनियों के कच्चे कर्मचारियों...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 12, 2018, 02:15 AM IST

इधर, कच्चे कर्मी बोले- सुरक्षा प्रबंधों और सेलरी संबंधी नहीं हुई कोई बात
खेदड़ थर्मल पॉवर प्लांट में मंगलवार को हुए हादसे के बाद से यहां कार्यरत विभिन्न कंपनियों के कच्चे कर्मचारियों में भय का माहौल है। करीबन एक हजार से अधिक कच्चे कर्मचारियों ने शुक्रवार को हड़ताल पर रह कर अपनी आवाज थर्मल प्लांट मैनेजमेंट तक पहुंचाई। कर्मचारियों ने अपनी सुरक्षा के इंतजामों को लेकर प्लांट के मुख्य अभियंता विनोद सेठी को एक ज्ञापन के माध्यम से समस्याओं का समाधान किए जाने की गुहार लगाई है। शाम करीबन 4 बजे विनोद सेठी के आश्वासन के बाद कर्मचारियों ने शनिवार से काम पर लौटने का ऐलान किया है। कच्चे कर्मचारियों ने कहा कि प्लांट में लापरवाही के चलते जो हादसा हुआ है उससे सबक लेते हुए थर्मल प्लांट प्रबंधन को यहां सुरक्षा के इंतजामों को पूरी तरह से लागू करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि दोबारा इस तरह के हादसे ना हों इसके लिए सुरक्षा से संबंधित सभी जरुरी उपकरण उपलब्ध करवाए जाएं। वेजिज सीट की तरह सुरक्षा सीट भी बनाई जाए व उसे हर माह बिल के साथ लगाया जाए। सभी कर्मचारियों को कैशलेस मेडिकल की सुविधा दी जाए व कर्मचारियों के ईएसआई कार्ड जल्द बनवाए जाएं। दुर्घटना होने पर कच्चे कर्मचारियों को मुआवजा देने के लिए पॉलिसी बनाई जाए। कर्मचारियों से 8 घंटे से अधिक काम न लिया जाए। कर्मचारियों की सेलरी उनके खातों में डलवाई जाए। कर्मचारियों को हर माह सेलरी स्लिप दी जाए। सभी कर्मचारियों के लिए डीसी रेट लागू किया जाए। ठेकेदारों के पास मैन पॉवर का अभाव है। जिन ठेकेदारों के पास मैन पॉवर कम है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। प्लांट के चीफ इंजीनियर विनोद सेठी ने कच्चे कर्मचारियों को आश्वासन दिया है कि उनकी उचित मांगों पर विचार कर समस्याओं का समाधान अगले एक माह के भीतर कर दिया जाएगा। कच्चे कर्मचारियों ने बताया कि जिस कंपनी में वे कार्यरत हैं उस कंपनी के अधिकारी उनसे एक कागज पर हस्ताक्षर करवा रहे हैं। इस कागज पर लिखा हुआ है कि थर्मल प्लांट में यदि भविष्य में कोई हादसा हुआ तो उसके लिए आरजीटीपीपी जिम्मेदार नहीं होगा।

थर्मल प्लांट में बैठक करते कच्चे कर्मचारी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Barwala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×