• Home
  • Haryana News
  • Barwala
  • जिला प्रशासन व सरकार या किसी अन्य ने उनका पक्ष नहीं जाना और एकतरफा कार्रवाई की
--Advertisement--

जिला प्रशासन व सरकार या किसी अन्य ने उनका पक्ष नहीं जाना और एकतरफा कार्रवाई की

खेदड़ थर्मल पॉवर प्लांट में हुए हादसे के बाद अपनी विभिन्न मांगों को लेकर जहां सरकारी कर्मचारियों व कंपनियों में...

Danik Bhaskar | May 12, 2018, 02:15 AM IST
खेदड़ थर्मल पॉवर प्लांट में हुए हादसे के बाद अपनी विभिन्न मांगों को लेकर जहां सरकारी कर्मचारियों व कंपनियों में कार्यरत कच्चे कर्मचारियों ने पिछले दो दिन हड़ताल रखी। वहीं अब अपनी मांगों को लेकर थर्मल प्लांट के अधिकारियों ने भी आंदोलन की राह पकड़ ली है। शुक्रवार सुबह प्लांट के एसई, एक्सईएन व एसडीओ सहित सभी इंजीनियर्स ने बैठक की। बैठक की अध्यक्षता हरियाणा पॉवर जेनरेशन इंजीनियर एसोसिएशन के महासचिव विकास राठौड़ ने की। इस दौरान मीटिंग में अधिकारियों ने हादसे को लेकर काफी चिंता प्रकट की। प्लांट के इंजीनियर्स ने कहा कि जिला प्रशासन, पॉवर जेनरेशन व सरकार ने बिना जांच किए ही प्लांट के अधिकारियों पर कार्रवाई कर दी। उन्होंने कहा कि एसआईटी का गठन भी न्यायसंगत नहीं है।

उन्होंने कहा कि जिस समय बॉयलर में हादसा हुआ उससे ठीक 10 मिनट पहले मौके पर मौजूद जिन अधिकारियों की ड्यूटी थी वे सब सभी हालातों की जांच करके आए थे। कहीं भी कर्मचारी को काम करना होता है उससे पहले अधिकारी ही वहां के हालात जानते हैं और सभी तरह की जांच कर ही कर्मचारियों को काम करने की कहते हैं। इंजीनियरों ने कहा कि जब तक जांच होने के बाद किसी को दोषी नहीं ठहराया जाता ऐसे में उसके खिलाफ कार्रवाई कैसे की जा सकती है। मीटिंग में निर्णय लिया गया कि प्लांट में हुए सारे घटनाक्रम को लेकर एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल विभाग के एमडी से मिलेगा व मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपेगा। इंजीनियरों ने कहा कि जिला प्रशासन व सरकार या किसी अन्य ने उनका पक्ष नहीं जाना और एकतरफा कार्रवाई अमल में ला दी गई। इंजीनियर्स इस तरह से लिए गए मनमाने फैसले का विरोध करता है। उन्होंने कहा कि बिना तथ्यों की जांच किए बिना किसी भी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की गई तो वे चुप नहीं बैठेंगे। वहीं इंजीनियरों ने अपनी मांगों को लेकर प्लांट के चीफ इंजीनियर विनोद सेठी से भी मुलाकात की।

प्लांट के इंजीनियर भी आंदोलन की राह पर, एसई, एक्सईएन व एसडीओ ने मीटिंग की

बिना जांच किए अफसरों को दोषी नहीं ठहराया जा सकता

खेदड़ थर्मल पॉवर प्लांट में कार्यरत अधिकारी मीटिंग करते हुए।