• Home
  • Haryana News
  • Barwala
  • पूनिया फार्म की सुरक्षा में पुलिस तैनात, लगाए जा रहे सीसीटीवी
--Advertisement--

पूनिया फार्म की सुरक्षा में पुलिस तैनात, लगाए जा रहे सीसीटीवी

बरवाला के पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 सदस्यों का हत्यारा रेलूराम का दामाद संजीव पैरोल से फरार है।...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 03:05 AM IST
बरवाला के पूर्व विधायक रेलूराम पूनिया समेत परिवार के 8 सदस्यों का हत्यारा रेलूराम का दामाद संजीव पैरोल से फरार है। इसके चलते रेलूराम के भाई रामसिंह पूनिया की प|ी, बेटों व अन्य की सुरक्षा के लिए पुलिस ने दो सुरक्षा गार्ड खेत में कोठी पर तैनात किए हैं। सीसीटीवी कैमरे भी लगए जाएंगे। बुधवार को रेलूराम पूनिया हत्याकांड की पैरवी करने वाले अधिवक्ता लाल बहादुर खोवाल के साथ रामसिंह पूनिया के बेटे जितेंद्र एवं अन्य ने एसपी से मुलाकात कर सुरक्षा की गुहार लगाई।

खोवाल ने बताया कि एसपी ने परिवार के दो सदस्यों को असलाहों के लाइसेंस बनाने का भरोसा दिलाया है। आरोपी संजीव की गिरफ्तारी के लिए पुलिस जुटी है। एसपी ने पूनिया परिवार को सुरक्षा का पूरा भरोसा दिया है।

पीएम को चिट्ठी लिखी-कातिल सोनिया को न दी जाए पैरोल

कातिल संजीव के फरार होने से रामसिंह पूनिया का पूरा परिवार अपनी सुरक्षा को लेकर न सिर्फ चिंतित हैं बल्कि दहशत में हैं। पीड़ित परिवार प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, राज्यपाल, डीजीपी एवं अन्य को पत्र लिखकर संजीव की गिरफ्तारी और सोनिया पैरोल न देने तथा परिवार की सुरक्षा की गुहार की है।

पूनिया के फार्म हाउस पर कैमरे लगाने का काम शुरू

रेलू राम की कोठी में बुधवार शाम से सीसीटीवी कैमरों को लगाए जाने का काम शुरू हो गया है। अब पूरी कोठी व आसपास का क्षेत्र सीसीटीवी कैमरों की नजर में होगा। यहां करीब 10 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। परिजनों ने बताया कि संजीव के पैरोल से गायब हो जाने के बाद वर्ष 2001 में हुआ घटनाक्रम दोबारा फिर से आंखों के सामने आ रहा है। पिछले कुछ वर्षों से उनकी दिनचर्या सामान्य थी, लेकिन संजीव के गायब होने की खबर जब समाचार पत्रों के माध्यम से मालूम हुई तो अब उन्हें चिंता सता रही है कि शातिर संजीव उनके साथ कोई वारदात न कर दे।

रेलूराम पूनिया के फार्म हाउस पर तैनात पुलिस कर्मचारी।

जेल अधिकारियों पर

भी कार्रवाई की मांग

रेलू राम पूनिया के भाई राम सिंह के परिजनों का कहना है कि जेल के अंदर रहकर उसने जेल अधिकारियों से सेटिंग कर ली। जेल प्रशासन ने पूरी लापरवाही बरतते हुए उस व्यक्ति को पैरोल दे दी, जिसने 8 लोगों को एकसाथ बेरहमी से मार दिया था। परिजनों ने कहा कि जेल प्रशासन शायद किसी बड़ी घटना का इंतजार कर रहा है। उनकी जिंदगी के साथ खिलवाड़ करने वाले जेल अधिकारियों व जो लोग उसे पैरोल देने में शामिल हैं, उन पर कार्रवाई की जानी चाहिए। रेलू राम मर्डर मामले में सबसे मुख्य गवाह उसके भाई राम सिंह पूनिया थे। उनकी 2 मई 2017 को कोठी के सामने ही बाइक व कार के बीच हुई टक्कर में मौत हो गई थी।