Hindi News »Haryana »Barwala» 70 लाख की पुरानी करंसी देकर 20 लाख के नए नोट लेने वाला गिरोह पकड़ा

70 लाख की पुरानी करंसी देकर 20 लाख के नए नोट लेने वाला गिरोह पकड़ा

केंद्र सरकार ने डेढ़ साल पहले जो 500 और हजार के नोट बंद कर दिए थे। उसी ओल्ड करंसी को हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 25, 2018, 03:15 AM IST

केंद्र सरकार ने डेढ़ साल पहले जो 500 और हजार के नोट बंद कर दिए थे। उसी ओल्ड करंसी को हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों से इकट्ठा किया जाता था। उसके बाद उसकी डील की जाती। कई बार इसी करंसी को दिखाकर लोगों से रुपए भी ऐंठ लिए जाते। ये सब पंचकूला के बरवाला की एक कोठी में किया जाता था। हरियाणा पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने ट्रैप लगाकर छापेमारी में पहले पुरानी करंसी बरामद की। इसके बाद ये रैकेट चलाने वाले चार लोग गिरफ्तार किए। चंडी मंदिर पुलिस थाने में इसका केस दर्ज करवाया गया है।

बरवाला की एक कोठी से ओल्ड करंसी की सप्लाई का काम करने वाले पंजाब के लालडू के रहने वाले नरेश कुमार, शाहबाद के रहने वाले संदीप कुमार, कुरुक्षेत्र के रहने वाले अखिलेश सेठी और प्रेम पाल बरवाला से ओल्ड करंसी बदलने का काम करते हैं। पिछले कुछ दिनों से ये लोग करनाल के गांव कैमला में रहने वाले सुनील कुमार से संपर्क कर रहे थे। जिसमें सुनील से बार-बार कॉल कर नए नोटों के बदले में पुराने नोट देने के लिए बात होती थी।

िजससे बदलवाने थे नए नोट, उसी ने पकड़वाए

शिकायतकर्ता सुनील ने बताया कि इन लोगों ने बार-बार कॉन्टैक्ट किया, जिसमें कहा जाता था कि हमें 20 लाख की नई करंसी दो। उसके बदले में तुम्हे लाखों रुपए देंगे। हम 20 लाख रुपए में ये बदल देते हैं। टोकन के तौर पर नई करंसी लेकर पुरानी देते हैं। इस पर सुनील परेशान हुआ, तो उसने एसटीएफ को इस बारे में बताया। इसके बाद इन्हें ट्रैप करने की योजना बनाई गई। सुनील के पास 5 लाख रुपए भी नहीं थे, जिन्हें अरेंज किया गया। उसके बाद उन 5 लाख रुपयों की एक फोटो कर इन लोगों को वाट्सएप के जरिए भेजी गई। सुनील को कहा गया था कि 5 लाख रुपए लेकर आओ। उसके बदले में उसे 70 लाख की पुरानी करंसी दिखा देंगे। जब वह उन्हें 20 लाख रुपए देगा, तो उसे 70 लाख रुपयों की पुरानी करंसी दे दी जाएगी। अगर इस डील के दौरान 5 लाख रुपए देने के बाद बाकी के 15 लाख रुपए नहीं दिए गए, तो उसके ये रुपए वापस नहीं होंगे। इसके बाद सुनील इन लोगों के साथ बरवाला आया।

आंखों पर काली पट्टी बांधकर लाए

इसकी सारी सूचना सुनील ने एसटीएफ को दे दी। आरोपियों की कॉल आने के बाद वो इनकी वरना गाड़ी (एचआर7890038) में बैठा। सुनील की आंखें पर काली पट्टी बांध दी गई। इसके बाद वो सुनील को बरवाला बाजार के साथ लगती एक कोठी में ले आए। जहां कोठी के अंदर रसोई में दो लोग और बिखरे हुए पुराने 500 और 1 हजार के नोट दिखाए गए। उसे बताया गया कि ये 70 लाख रुपए हैं। इसके बाद सुनील को बार-बार कहा गया, कि लाओ 5 लाख रुपए लाओ, जिसके बाद ही टोकन मनी दी जाएगी। इसे बदलवाकर तुम लाखों रुपए कमा सकते हो। एसटीएफ टीम को बलजीत सिंह लीड कर रहे थे। इतने में पीछा कर रही एसटीएफ टीम ने यहां रेड कर चारों आरोपियों को पकड़ लिया।

और भी पुरानी करंसी की आशंका :एसटीएफ की टीम को सारी कहानी पहले ही बताई गई थी। इसके चलते यहां रेड मारी गई। इन लोगों के पास और भी पुरानी करंसी हो सकती है। अब एसटीएफ इसकी जांच कर रही है। बरवाला में कोठी पर रेड के दौरान 7 लाख 90 हजार रुपए की पुरानी प्रतिबंधित करंसी को जब्त किया गया है। यहां एक हजार रुपयों के 666 नोट मिले हैं। वहीं 500 रुपयों की पुरानी करंसी में 248 नोट मिले हैं। इसके बाद इस सामान को जब्त किया गया, वहीं मंगलवार तड़के पंचकूला पुलिस को इस वारदात के बारे में बताया गया और उसके बाद एफआईआर करवाई गई। आरोपी नरेश कुमार, अखिलेश सेठी, प्रेम पाल और संदीप कुमार पर आईपीसी की धारा 420, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

एक्सपर्ट व्यू

यह पैसा ब्लैकमनी हो सकती है। इसमें तार बैंक और आरबीआई तक जुड़े हो सकते हैं। वर्ना इतने दिनों बाद पुराने नोट लेकर कोई क्या करेगा। क्योंकि अब इन पैसों को बैंक या आरबीआई के जरिए ही बदलवा सकता है। या फिर कोई दलाल एनआरआई को मिली छूट का फायदा उठा सकता है। क्योंकि एनआरआई के लिए संभवत: सरकार ने कुछ ढील दी हुई है। लेकिन अब ऐसे लोगों से सख्ती से पूछताछ होनी चाहिए। ताकि इसका पूरा खुलासा हो सके। पड़ताल यहां तक होनी चाहिए कि ये पैसा कहां से आया और कहां जाने वाले था। इसके पीछे कौन है।

-रणबीर शर्मा, रिटायर्ड आईजी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Barwala

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×