Hindi News »Haryana »Bawal» डीसी व सचिवों की खींचतान : विरोध के आगे प्रशासन झुका, सस्पेंड ग्राम सचिव बहाल होगा

डीसी व सचिवों की खींचतान : विरोध के आगे प्रशासन झुका, सस्पेंड ग्राम सचिव बहाल होगा

ग्राम सचिव के निलंबन और डीसी द्वारा ज्ञापन लेने नहीं आने के चलते शुरू हुआ ग्राम सचिवों व सरपंचों का आंदोलन शनिवार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 25, 2018, 03:05 AM IST

डीसी व सचिवों की खींचतान : विरोध के आगे प्रशासन झुका, सस्पेंड ग्राम सचिव बहाल होगा
ग्राम सचिव के निलंबन और डीसी द्वारा ज्ञापन लेने नहीं आने के चलते शुरू हुआ ग्राम सचिवों व सरपंचों का आंदोलन शनिवार को दूसरी दिशा में घूमना शुरू हो गया। दूसरे जिलों से आए सरपंचों ने धरना रत सचिवों व सरपंचों को उकसाने का काम किया। इस कारण मौके पर भारी संख्या में पुलिसबल बुलाना पड़ा।

वहीं मामले को शांत करने के लिए जिला प्रशासन भी प्रदर्शनकारियों आगे कुछ झुका तथा निलंबित ग्राम सचिव श्रीभगवान के सस्पेंशन आदेश वापस ले लिए गए। इसके साथ ही ग्राम सचिव व सरपंचों का रुख भी नरम होता दिखाई दिया। एसोसिएशन ग्राम सचिव की बहाली के जीत का जश्न मनाते हुए रविवार को अगली रणनीति की चेतावनी देकर अपना धरना समाप्त कर सकती है।

उग्र सरपंचों ने प्रशासन को दिया 15 मिनट का अल्टीमेटम, पुलिस ने संभाला मोर्चा; ग्राम सचिव की बहाली एवं डीसी के तबादले की मांग को लेकर धरने पर बैठे सरपंच-सचिव एसोसिएशन को समर्थन देने आए अन्य जिलों के सरपंच शनिवार को उग्र हो गए। प्रशासन को 15 मिनट का अल्टीमेटम देते हुए सरपंचों ने आरपार की लड़ाई का ऐलान करते हुए रोड़ जाम करने की चेतावनी दे डाली। सरपंचों को उग्र होते देख पुलिस ने भी मोर्चा संभाल लिया और धरना स्थल को चारों ओर से घेर लिया। इसके बाद स्थानीय सरपंचों एवं पुलिस अधिकारियों की सूझबूझ के चलते हंगामा होते-होते रह गया। बता दें कि शनिवार को भिवानी, रोहतक, हथीन, सिरसा सहित करीब 15 जिलों के सरपंच धरने को समर्थन देने पहुंचे थे।

रेवाड़ी. राजीव चौक के पास धरने के तीसरे दिन सरपंच व ग्राम सचिवाें के साथ बैठे कांग्रेसी व इनेलो नेता।

डीसी द्वारा ज्ञापन नहीं लेने से बिगड़ी थी बात

सरपंच एवं ग्राम सचिव एसोसिएशन गुरुवार को ई-सरकार एवं ग्राम सचिव श्रीभगवान के निलंबन को रद्द करने की मांग को लेकर सचिवालय पहुंचे थे। यहां पर सरपंचों ने करीब चार घंटे तक प्रशासन एवं सरकार के खिलाफ हल्ला बोला था। एसोसिएशन डीसी को ज्ञापन देने के लिए सचिवालय में एकत्रित हुए थे। लेकिन डीसी ने सीटीएम को ज्ञापन लेने भेज दिया। इस पर सरपंच एवं ग्राम सचिव बिफर गए थे। इतना ही नहीं सरपंचों ने डीसी के ताबदले तक धरना देने का एलान कर दिया था। रेवाड़ी सरपंच एसोसिएशन के अध्यक्ष चौधरी चरण सिंह के नेतृत्व में चल रहे धरने में शनिवार को पूर्व मंत्री जसवंत बावल, इनेलो जिलाध्यक्ष डाॅ राजपाल यादव एवं अन्य नेता शामिल थे।

सरकार की खुलेआम की खिलाफत; बता दें कि ग्राम सचिव एसोसिएशन के जिला प्रधान श्रीभगवान ने जींद में 18 मार्च को रैली एवं अन्य धरना स्थलों पर सरकार की खुलेआम खिलाफत की। ई-पंचायत का विरोध भी किया। वहीं बीडीपीओ की ओर से भगवानपुर की पंचायत के रिकॉर्ड मांगने के बाद उपलब्ध नहीं कराने के चलते उन्हें निलंबित कर दिया गया। अब सरपंच राज्य एसोसिएशन 28 मार्च को चंडीगढ़ में सीएम के सामने भी प्रशासन के व्यवहार की शिकायत रख सकती है।

एडीस एवं कार्यवाहक डीसी प्रदीप दहिया ने कहा कि ग्राम सचिव के निलंबन आदेश वापस ले लिए गए हैं। ग्राम सचिव जहां कार्यरत थे, वहीं रहेंगे तथा ड्यूटी अनुसार उनसे मांगी गई रिपोर्ट देनी होगी। ग्राम सचिव की बहाली की मांग पूरी होने के बाद धरना जारी रखने का औचित्य नहीं है, क्योंकि बाकी मांगे तो सरकार से हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bawal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×