Hindi News »Haryana »Bawal» दक्षिण हरियाणा में कहीं नहीं है सीपेट राव बिरेंद्र सिंह स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग में खोलने की मांग

दक्षिण हरियाणा में कहीं नहीं है सीपेट राव बिरेंद्र सिंह स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग में खोलने की मांग

रेवाड़ी| दक्षिण हरियाणा विकास लोक मंच की ओर से जैनाबाद में खोले गए राव बिरेंद्र सिंह स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 08, 2018, 03:10 AM IST

रेवाड़ी| दक्षिण हरियाणा विकास लोक मंच की ओर से जैनाबाद में खोले गए राव बिरेंद्र सिंह स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी परिसर में सीपेट खोलने की मांग उठाई है। इसे लेकर योजना(स्वतंत्र प्रभार), रसायन, एवं उर्वरक केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह को पत्र भी भेजा गया है।

केंद्रीय मंत्री को भेजे गए पत्र में मंच के अध्यक्ष बाबू जगजीत सिंह व महासचिव प्रो. रणबीर सिंह यादव ने कहा कि कुछ महीने पहले रसायन एवं उर्वरक मंत्री भारत सरकार ने दीनबंधु छोटुराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय मुरथल के परिसर में सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी(सीपेट) के भवन का उद्घाटन करते समय एक महत्वपूर्ण घोषणा की थी कि हरियाणा राज्य के दक्षिण एवं पश्चिम में सीपेट खोले जाएंगे।

करनाल में खुला सीपेट, मुरथल से दूरी मात्र 50 किमी : उन्होंने बताया कि अब एक सीपेट करनाल में स्वीकृत हो गया है, जो कि मुरथल से केवल 50 किलोमीटर दूरी पर है। इसके अलावा करनाल में पहले ही कम से कम 10 राष्ट्रीय एवं केंद्रीय उच्च संस्थाएं कार्यरत हैं। जबकि जिला रेवाड़ी दिल्ली के समीप होते हुए भी इस जिले में कोई भी राष्ट्रीय, केंद्रीय उच्च शिक्षण संस्थान नहीं है। उन्होंने बताया कि जिला रेवाड़ी मुरथल से 120 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण हरियाणा में स्थित है। उन्होंने बताया कि ऐसे में 53 एकड़ भूमि में फैले रेवाड़ी स्थित इस इंस्टीट्यूट में सीपेट खोलना समय की जरूरत है, क्योंकि इस क्षेत्र में ऐसा कोई संस्थान नहीं है। उन्होंने बताया कि यहां बावल औद्योगिक क्षेत्र में काफी जापानी कंपनियां कार्यरत हैं। युवाओं के भविष्य को लेकर यह जरूरी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bawal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×