Hindi News »Haryana »Bawal» नौकरी-पेशा से लेकर विद्यार्थियों ने किया मुफ्त सफर, साढ़े Rs.9 लाख जुर्माना वसूला

नौकरी-पेशा से लेकर विद्यार्थियों ने किया मुफ्त सफर, साढ़े Rs.9 लाख जुर्माना वसूला

जिला के विभिन्न रूटों पर रोडवेज की बसों में बिना टिकट मुफ्त सफर करने वाले 11 माह के दौरान 3728 लोग पकड़े गए। इनमें सबसे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 12, 2018, 03:10 AM IST

जिला के विभिन्न रूटों पर रोडवेज की बसों में बिना टिकट मुफ्त सफर करने वाले 11 माह के दौरान 3728 लोग पकड़े गए। इनमें सबसे ज्यादा बेटिकट महेंद्रगढ़ व नारनौल रूट पर मिलें। यहां दोनों रूटों पर 500 से भी ज्यादा लोग पकड़े गए। यह खुलासा रोडवेज फ्लाइंग टीम की ओर से बसों की जांच के दौरान हुआ है। बिना टिकट यात्रियों से रोडवेज द्वारा जुर्माना लगाकर 9 लाख 24 हजार 485 रुपए वसूले गए। इसके बाद भी मुफ्त सफर करने वालों की संख्या बढ़ रही है। पकड़े गए इन यात्रियों में विद्यार्थियों के अलावा कुछ नौकरी-पेशा लोग भी शामिल हैं।

निरीक्षकों के भी कई पद रिक्त: रोडवेज में फ्लाइंग निरीक्षकों के पद भी रिक्त हैं। 20 निरीक्षकों में से यहां 7 ही पद भरे हुए हैं, जबकि 13 पोस्ट रिक्त चल रही हैं। इसके अलावा सब इंस्पेक्टरों के 25 में से 24 पद भरे हैं। हालांकि निरीक्षकों की कमी कारण बसों की चैकिंग में दिक्कत भी आती है।

रोडवेज में 11 माह के दौरान बिना टिकट मुफ्त सफर करने वाले 3728

लोगों को पकड़ा

सबसे ज्यादा बेटिकट यात्री हैं महेंद्रगढ़ और नारनौल रूट पर

बेटिकट मिले तो 500 रुपए तक हो सकता है जुर्माना

रेवाड़ी-महेंद्रगढ़, नारनौल, पटौदी, दिल्ली, बावल, रोहतक व अन्य लोकल रूट पर चलने वाली सभी बसों की चैकिंग की जाती हैं। टिकट जांच के लिए यहां तीन फ्लाइंग की ड्यूटी लगाई हुई हैं। इनकी ओर से इन रूटों पर चलने वाली बसों में बिना टिकट यात्रियों की जांच की जाती है। जो भी यात्री बेटिकट मिलते हैं, उन पर अधिकतम 500 रुपए तक जुर्माना लगाने का प्रावधान है।

लोकल रूटों पर चलते हैं बिना टिकट यात्री

जिले में सबसे ज्यादा जिस रूट पर यात्री बिना टिकट सफर करते हैं, उसमें महेंद्रगढ़ रूट का पहले नंबर पर नाम आता है। इसके बाद नारनौल और धारूहेड़ा व रोहतक आदि हैं। इन सभी रूटों पर अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 तक 3728 लोग मुफ्त सफर करते पकड़े गए। जिन पर 9 लाख 24 हजार 485 रुपए जुर्माना लगाया गया है।

बसों की चेकिंग का नहीं होता टारगेट : जीएम

बसाें के चैकिंग की सामान्य प्रक्रिया है। इसमें कोई टारगेट नहीं होता है और बिना टिकट यात्रा करने वालों पर अधिकतम 500 रुपए जुर्माने का प्रावधान है। कोशिश रहती है कि ज्यादा से ज्यादा बसों का निरीक्षण किया जाए। - बलवंत गोदारा, जीएम, रोडवेज, रेवाड़ी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bawal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×