Hindi News »Haryana »Bawal» सोते जरूरतमंदों को बांटे कंबल रैन बसेरों का किया निरीक्षण

सोते जरूरतमंदों को बांटे कंबल रैन बसेरों का किया निरीक्षण

आज पर्यावरण क्षतिपूर्ति राशि जमा नहीं कराई तो बंद हो सकती हैं भिवाड़ी की 687 इकाइयां भिवाड़ीऔद्योगिक क्षेत्र की 687...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 05, 2018, 04:15 AM IST

आज पर्यावरण क्षतिपूर्ति राशि जमा नहीं कराई तो बंद हो सकती हैं भिवाड़ी की 687 इकाइयां

भिवाड़ीऔद्योगिक क्षेत्र की 687 इकाइयों पर बंद होने की तलवार लटक गई है। यदि इन इकाइयों ने आज एनजीटी के निर्देशों के मुताबिक पर्यावरण क्षतिपूर्ति राशि जमा नहीं कराई तो बिना नोटिस के इन्हें बंद करने की कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार को यानि आज एनजीटी की ओर से राशि जमा कराने के लिए दी गई मियाद खत्म हो जाएगी। गुरूवार को औद्योगिक क्षेत्र की 966 इकाइयों में से महज 279 इकाइयों की राशि ही जमा हो सकी थी। ऐसे में शेष बची 687 इकाइयों के पास आज का दिन आखिरी है।

ज्ञातव्य है कि दूषित पानी के मामले को लेकर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी ) दिल्ली ने पिछले दिनों फैसला सुनाते हुए भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र की रेड, औरेंज, ग्रीन व्हाइट श्रेणी की इकाइयों को अलग-अलग क्षतिपूर्ति राशि जमा कराने के आदेश जारी किए थे। जिसमें औद्योगिक क्षेत्र के फेज एक से पांच तक में स्थित चारों श्रेणियों की 966 इकाइयों को दो सप्ताह के अंदर एनजीटी के आदेशों के मुताबिक क्षतिपूर्ति राशि जमा करानी है। राशि जमा करने की कार्रवाई 25 दिसम्बर से शुरू हो गई थी और आज शुक्रवार को इसकी समय सीमा समाप्त हो जाएगी। जो इकाई नियत अवधि में राशि जमा नहीं कराएगी, उसे एनजीटी के आदेशों के मुताबिक बंद कर दिया जाएगा।

{डीसी के निर्देश पर टीमें गठित, सर्दी में बेसहारों को राहत के लिए कदम

रेवाड़ी. रेलवेस्टेशन के फुटपाथ पर सोए लोगों को कम्बल बांटते अधिकारी।

^एनजीटी के निर्देशों के मुताबिक क्षतिपूर्ति राशि जमा कराने के लिए आज आखिरी दिन है। जो इकाई राशि जमा नहीं कराएगी उनको एनजीटी के आदेशों के हिसाब से बंद करना होगा। केसीगुप्ता, क्षेत्रीय अधिकारी, आरपीसीबी भिवाड़ी।

भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र (फाइल फोटो)

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bawal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×