Hindi News »Haryana »Bawal» बावल मंडी में खरीद में किसानों ने लगाया अव्यवस्था का आरोप, बोले-शेड्यूल के अनुसार नहीं खरीदी जा रही सरसों

बावल मंडी में खरीद में किसानों ने लगाया अव्यवस्था का आरोप, बोले-शेड्यूल के अनुसार नहीं खरीदी जा रही सरसों

बावल की अनाज मंडी में अपनी सरसों की फसल को बिक्री करने के लिए आए आधा दर्जन से ज्यादा गांवों के लोगों ने खरीद में...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 08, 2018, 03:15 AM IST

बावल मंडी में खरीद में किसानों ने लगाया अव्यवस्था का 
आरोप, बोले-शेड्यूल के अनुसार नहीं खरीदी जा रही सरसों
बावल की अनाज मंडी में अपनी सरसों की फसल को बिक्री करने के लिए आए आधा दर्जन से ज्यादा गांवों के लोगों ने खरीद में अव्यवस्था का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि जिन गांवों की आज सरसों बिक्री होनी थी, उनको बिना बिक्री किए ही घर वापस लौटना पड़ रहा है। किसानों का कहना है कि टीनशेड में जगह का अभाव बताकर खरीद नहीं की जा रही है। हालांकि हैफेड के डीएम नीरज त्यागी का कहना है कि सोमवार को 2 हजार क्विंटल से ज्यादा सरसों खरीदी गई है।

मंडी में बिक्री करने के लिए विभिन्न गांवों से पहुंचे राधाकृष्ण, हरीशचंद्र, मनोज, दीपक, सुरेंद्र, प्रमोद, पवन व जिले सिंह सहित अन्य किसानों ने बताया कि सोमवार को टींट, भांडौर, हुसैनपुर, सुबासेड़ी, चित्रपुरी सहित 10 से ज्यादा गांवों का शेड्यूल था। जब वे मंडी में पहुंचे तो वहां एक ही टीन शैड बताकर खरीद करने से इनकार कर दिया गया। ग्रामीणों का कहना था कि एक तो उनकी अनाज मंडी रेवाड़ी पड़ती है, लेकिन फिर भी उनको बावल से जोड़ दिया गया। अब जब वे सरसों बिक्री करने पहुंचे तो उनकी सरसों खरीद नहीं हो पा रही है। किसानों ने बताया कि वे पूरे कागजात लेकर पहुंचे थे, लेकिन खरीद न होने से उनको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इधर, हैफेड के डीएम नीरज त्यागी ने बताया कि जिला की तीनों मंडियों में खरीद जारी है। सोमवार को बावल की मंडी में 2 हजार क्विंटल से ज्यादा सरसों खरीद की गई है। रही बात उठान की तो सरसों वेयर हाउस के गोदाम में लगती है। सुबह नए गोदाम में भंडारण शुरू करा दिया जाएगा।

रेवाड़ी. बावल अनाज मंडी में अनाज की बोरियों पर बैठे किसान।

उठान न होने से टीनशेड में लगी सरसों की बोरियां

किसानों ने बताया कि मंडी में एक ही टीनशेड है, जिसमें पिछले कई दिनों से खरीदी गई सरसों का ही उठान नहीं हो पाया है। उठान न होने से खरीद में भी दिक्कत आ रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bawal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×