• Home
  • Haryana News
  • Bawal
  • सीटों के मुकाबले दोगुने अभ्यर्थियों को भेजी थी प्रोविजनल लिस्ट, डॉक्यूमेंट लेकर पहुंचे आधे, पहली सूची 2 जुलाई को
--Advertisement--

सीटों के मुकाबले दोगुने अभ्यर्थियों को भेजी थी प्रोविजनल लिस्ट, डॉक्यूमेंट लेकर पहुंचे आधे, पहली सूची 2 जुलाई को

सरकारी, एडेड व प्राइवेट कॉलेजों में डॉक्यूमेंट वेरिफाई कराने का शुक्रवार को अंतिम दिन था। कॉलेजों में सीटों के...

Danik Bhaskar | Jun 30, 2018, 04:10 AM IST
सरकारी, एडेड व प्राइवेट कॉलेजों में डॉक्यूमेंट वेरिफाई कराने का शुक्रवार को अंतिम दिन था। कॉलेजों में सीटों के मुकाबले दोगुने अभ्यर्थियों के पास मोबाइल पर प्रोविजनल लिस्ट भेजी गई थी। लेकिन डॉक्यूमेंट वेरिफाई सिर्फ 50% ने ही कराया है। अब जिन अभ्यर्थियों ने कागजात वेरिफाई कराए हैं, उनको ही मेरिट लिस्ट में शामिल किया जाएगा। खास बात है कि उच्चतर शिक्षा विभाग ही ऑनलाइन कट ऑफ लिस्ट तैयार करेगा और ऑनलाइन ही कॉलेजों में भेजी जाएगी। इसके बाद कॉलेज के नोटिस बोर्ड पर 2 जुलाई को सूची चस्पा कर दी जाएगी। पहले दिन से ही कॉलेज में दाखिला प्रक्रिया को लेकर फीस जमा करनी शुरू हो जाएगी।

फार्म में नहीं भरा राज्य का नाम, काफी विद्यार्थी रह गए वैटेज से

डॉक्यूमेंट वेरिफाई कराने पहुंच रहे अभ्यर्थियों में से काफी ने राज्य का नाम भी नहीं भरा, जिससे उनको 5 प्रतिशत मिलने वाली वैटेज भी नहीं मिल पाई है। क्योंकि राज्य के सरकारी, प्राइवेट, एडिड व सीबीएसई स्कूलों से 12वीं करने वाले विद्यार्थियों को 5 फीसदी वैटेज मिलती है। लेकिन इस बार ये रहा कि काफी अभ्यर्थियों ने फार्म भरते समय आने वाले ऑप्शन में राज्य के नाम ही नहीं भरे। इनमें बाहर से आवेदन करने वाले विद्यार्थियों की संख्या ज्यादा रही। हालांकि डॉक्यूमेंट जांचते समय उनको ठीक भी किया गया है।

अब ये रहेगा कट ऑफ लिस्ट की प्रक्रिया : प्रथम चरण के तहत 23 जून से 25 जून तक कॉलेज में उपलब्ध सीटों के हिसाब से प्रोविजनल लिस्ट तैयार कर विद्यार्थियों के पास भेजी गई थी। इसके बाद 26 से 29 जून तक लिस्ट के हिसाब से डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन किए गए। अब 30 जून व 1 जुलाई को उच्चतर शिक्षा विभाग की ओर से ऑनलाइन फाइनल मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी। इसके बाद 2 जुलाई को कॉलेजों में लिस्ट भेजी जाएगी। फिर वह कट ऑफ लिस्ट कॉलेजों के नोटिस बोर्ड पर चस्पा की जाएगी। इस मेरिट लिस्ट के आधार पर जिन विद्यार्थियों का नंबर आएगा, वह 2 जुलाई से ही 4 जुलाई तक कॉलेजों में जाकर फीस जमा करा सकते हैं। इसके बाद दूसरे चरण के लिए 5 व 6 जुलाई को प्रोविजनल लिस्ट तैयार होगी। 7 जुलाई से 9 जुलाई तक डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन होंगे। 10 और 11 जुलाई को दूसरी मेरिट लिस्ट तैयार होगी। इस प्रक्रिया के बाद 12 जुलाई को दूसरी मेरिट लिस्ट कॉलेजों में चस्पा की जाएगी और 12 से ही 14 जुलाई तक विद्यार्थी काॅलेजों में फीस जमा करा सकेंगे। इस बार कॉलेजों में केवल दो ही कट ऑफ लिस्ट जारी होगी।

एक से अधिक कॉलेज में आवेदन, लिस्ट में नहीं आया नाम

रेवाड़ी. राजकीय महिला कॉलेज में एडमिशन प्रक्रिया के तहत बीए के फार्म चेक करती प्रोफेसर।

ज्यादातर अभ्यर्थियों ने एक से अधिक कॉलेजों में आवेदन किया है। ऐसे में किसी कॉलेज में अगर प्रोविजनल लिस्ट में मेरिट ज्यादा गई है तो उनका नाम नहीं आ पाया। काफी अभ्यर्थी इस तरह ही रह गए। खरखड़ा कॉलेज में एडमिशन नोडल अधिकारी प्रो. सतेंद्र सिंह ने बताया कि बीए में 360 को लिस्ट भेजी गई थी, जिनमें 130 के आसपास डॉक्यूमेंट वेरिफाई के लिए आए हैं। बीकॉम में 208 में से 97 और बीएससी नॉन-मेडिकल में 155 में से 53 ने ही कागजात वेरिफाई कराए हैं। सेक्टर-18 गर्ल्स कॉलेज के एडमिशन प्रभारी ने बताया कि बीए में 977 में से 433, बीकॉम में 459 में से 178, बीएससी नॉन-मेडिकल में 378 में से 139, मेडिकल में 298 में से 160 और बीसीए में 46 में से 17 अभ्यर्थियों ने ही डॉक्यूमेंट की जांच कराई हैं।

नए कॉलेजों में रजिस्ट्रेशन बंद डॉक्यूमेंट जांच को कम ही पहुंचे

नए खुले राजकीय कॉलेजों में रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुक्रवार को बंद हो गई। साथ ही आवेदनों की जांच का कार्य भी साथ ही चलता रहा। इनमें डॉक्यूमेंट की जांच कराने आधे ही अभ्यर्थी पहुंच पाए। जाटूसाना कॉलेज में बीए की 160 सीटों पर 192 और बीकॉम की 80 सीटों पर 34 ही आवेदन आए। इनमें भी डॉक्यूमेंट की जांच कराने केवल 60 ही अभ्यर्थी कॉलेज पहुंचे। इधर, राजकीय ब्वॉयज कॉलेज रेवाड़ी और बावल में भी डॉक्यूमेंट जांच कराने कम ही अभ्यर्थी आएं।

डॉक्यूमेंट वेरिफाई न कराया तो वेटिंग लिस्ट में ही मिलेगा दाखिला: उच्चतर शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार जिन अभ्यर्थियों काे प्रोविजनल लिस्ट भेजी गई थी और उन्होंने अपने डॉक्यूमेंट वेरिफाई नहीं कराए तो उनको दोनों कट ऑफ लिस्ट में मौका नहीं मिलेगा। उनको कॉलेज की वेटिंग लिस्ट में ही सीट खाली रहने पर ही दाखिला मिल सकता है।