Hindi News »Haryana »Beri» छात्रों को सप्ताह में तीन दिन मिलेगा फ्लेवर्ड मिल्क

छात्रों को सप्ताह में तीन दिन मिलेगा फ्लेवर्ड मिल्क

जिले के 236 सरकारी स्कूलों में प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में अध्ययनरत 40,573 विद्यार्थियों को सप्ताह में तीन दिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 03, 2018, 02:10 AM IST

जिले के 236 सरकारी स्कूलों में प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में अध्ययनरत 40,573 विद्यार्थियों को सप्ताह में तीन दिन स्ट्राबेरी, पाइनएपल, इलायची, चाकलेट व वनिला फ्लेवर का दूध वितरित किया जाएगा। छात्रों की ओर से पसंदीदा फ्लेवर की मांग की जाएगी, इस पर स्कूल मुखिया उस फ्लेवर का मांग पत्र वीटा मिल्क प्लांट को भेजकर मिल्क पाउडर की डिमांड करेगा। प्लांट की ओर से एक माह का स्टाक प्लांट प्रबंधन की ओर से स्कूल में उपलब्ध कराया जाएगा। जिले के कई स्कूलों में वीटा प्लांट की ओर से इसकी सप्लाई पहुंचा दी गई है। बच्चों को दूध वितरण करने के लिए डीईईओ को बच्चों के लिए गिलास की व्यवस्था करानी होगी। योजना के तहत स्कूलों में सोमवार व मंगलवार को छोड़कर सप्ताह में तीन दिन बच्चों को फ्लेवर्ड दूध पिलाने की तैयारी है। इस दौरान प्रत्येक बच्चे को 200 एमएल दूध दिया जाएगा। इसके लिए पहले गर्म पानी किया जाएगा और फिर उसमें मिड डे मिल कर्मियों द्वारा 20 ग्राम पाउडर मिलाया जाएगा और प्रत्येक बच्चे को दिया जाएगा।



स्कूल प्रबंधन की माने तो इस पाउडर को फैट रहित बनाया गया है। जिसमें 64 प्रतिशत स्किम्ड दूध, 33 प्रतिशत शुगर व तीन प्रतिशत फ्लेवर डाल कर तैयार किया जाएगा।

इसमें बच्चों की ग्रोथ के लिए आवश्यक प्रोटीन, मिनरल व विटामिन होंगे। 15 लीटर दूध तैयार करने के लिए साढ़े 14 लीटर पानी को गर्म करने के बाद गुनगुना होने पर उसमें एक किग्रा दूध पाउडर डाला जाएगा। तैयार किए दूध को एक घंटे के अंदर बच्चों को देना होगा। बच्चों के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव न हो, इसके लिए दूध के स्टॉक को तीन माह के अंदर प्रयोग में लाना होगा। जिले के कक्षा एक से पांच तक के 211 स्कूल में 23,077 व कक्षा छह से आठ तक के 36 स्कूलों में 17,496 विद्यार्थी हैं। गत सत्र में इन बच्चों को सप्ताह में दो दिन खीर व दलिया दिया जा रहा था। एमडीएम योजना के तहत अभी तक प्रदेश के कक्षा एक से पांच तक में प्रति बच्चे को 4.18 रुपए व कक्षा छह से आठ तक में प्रति बच्चे को 5.78 रुपए के हिसाब से डाइट का खर्च मिलता है। एक दिन दूध से बना आहार देने पर प्रति बच्चा 10 से 13 रुपए तक खर्च आता है।

स्कूलों में पहुंचे मिल्क पाउडर के पैकेट, जल्द शुरू होगा वितरण

प्रोटीनयुक्त है पाउडर, फैट रहित होने का दावा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Beri

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×