Hindi News »Haryana »Beri» स्ट्राॅबेरी की खेती से कमा सकते हैं ज्यादा मुनाफा

स्ट्राॅबेरी की खेती से कमा सकते हैं ज्यादा मुनाफा

गांव नाथूसरी कलां के किसान महेंद्र सिंह ने स्ट्रॉबेरी की खेती से कामयाबी हासिल की है, क्योंकि यह किसान परंपरागत...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 08, 2018, 03:05 AM IST

स्ट्राॅबेरी की खेती से कमा सकते हैं ज्यादा मुनाफा
गांव नाथूसरी कलां के किसान महेंद्र सिंह ने स्ट्रॉबेरी की खेती से कामयाबी हासिल की है, क्योंकि यह किसान परंपरागत खेती से सालाना पांच गुना आमदन लेता है। वहीं उत्तम क्वालिटी स्ट्रॉबेरी उत्पादन में किसान ने तीन किसान मेलों में मुख्यातिथि से सम्मान भी पाया है। उसके खेत में उत्पादित स्ट्रॉबेरी दिल्ली व पंजाब के बाजारों में सजती है। जहां ग्राहकों की डिमांड ज्यादा रहती है। वहीं किसानों के प्रेरणास्त्रोत भी बना है।

किसान महेंद्र सिंह ने बताया कि उसके पास सिर्फ तीन एकड़ जमीन है। वह दसवीं कक्षा पास करने के बाद खेती करने लगा था। लेकिन कम जमीन से परिवार का गुजारा काफी मुश्किल था। 17 वर्ष पहले उसने कृषि विशेषज्ञों से खेती से आमदन बढ़ाने का सुझाव लिया। उसको कृषि विज्ञान केंद्र के डॉक्टरों से स्ट्रॉबेरी की खेती अपनाने की राय मिली। जिसके बाद उसने हिम्मत नहीं हारी व मेहनत के बदौलत स्ट्रॉबेरी की खेती कर जीवनधारा बदलने में कामयाब रहा। महेंद्र सिंह बताते हैं कि अब वह सालाना 5 लाख की आमदनी प्रति एकड़ से लेते है।

पंजाब व दिल्ली भेजते हैं

किसान महेंद्र सिंह ने बताया कि शुरूआत में वह स्ट्रॉबेरी की मार्केटिंग लोकल बाजारों में करता था। लेकिन अब एक ट्रे में दो किलोग्राम स्ट्रॉबेरी पैक किया जाता है। उसको दिल्ली व पंजाब के बाजारों में भेजा जाता है। जहां स्ट्रॉबेरी की काफी ज्यादा डिमांड है। वहीं भाव अच्छा मिलता है। फिलहाल स्ट्रॉबेरी का सीजन है, तो वह अपना परिवार व लेबर लगाकर ट्रे तैयार करवाते हैं। तीन एकड़ स्ट्रॉबेरी की खेती से सालाना 15 लाख की आमदन होती है। किसान महेंद्र सिंह को तीन बड़े किसान मेलों में सम्मान मिला है।

खेत की मिट्‌टी व पानी जांच समयानुसार करवाएं

स्ट्रॉबेरी की खेती से छोटे किसान भी अच्छी आमदन ले सकते हैं। गांव नाथूसरी कलां के किसान महेंद्र सिंह ने मिसाल कायम की है। इसके अलावा सभी किसान अपने खेत की मिट्‌टी व पानी जांच समयानुसार करवाएं, तभी उचित मात्रा में खाद इस्तेमाल होने से आमदन में इजाफा संभव है। -डॉ. देवेंद्र जांखड़, मृदा विशेषज्ञ, कृषि विज्ञान केंद्र सिरसा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Beri

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×