Hindi News »Haryana »Bhiwani» नाचकर मनाई मांगें पूरी होने की खुशी 1337 आशा वर्कर्स को मिलेंगे स्मार्टफोन

नाचकर मनाई मांगें पूरी होने की खुशी 1337 आशा वर्कर्स को मिलेंगे स्मार्टफोन

सरकार ने आशा वर्करों की अधिकतर मांगों को गुरुवार हुई बैठक में मान लिया है। अब आशा वर्कर स्मार्टफोन पर काम करती नजर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 03, 2018, 02:05 AM IST

सरकार ने आशा वर्करों की अधिकतर मांगों को गुरुवार हुई बैठक में मान लिया है। अब आशा वर्कर स्मार्टफोन पर काम करती नजर आएगी। आशा वर्कर 17 जनवरी से सिविल अस्पताल में धरने पर बैठी थी। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, स्वास्थ्य विभाग के सचिव व मिशन निदेशक अवनीत पी कुमार के अलावा विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहे। वहीं सरकार से हुई बातचीत में आशा वर्कर्स यूनियन की राज्य अध्यक्ष प्रवेश कुमारी, महासचिव सुरेखा, सीटू राज्य महासचिव जय भगवान, सुनीता, अनिता, कमलेश, सरबजीत, रानी, रोशनी, सुधा, नीलम, मीरा शामिल थे। आशा वर्कर यूनियन जिला प्रधान कमलेश ने बताया कि जिले की 1337 आशा वर्कर्स स्थाई कर्मी का दर्जा और न्यूनतम वेतन 18000 रुपये के लिए संघर्ष जारी रहेगा।

इन 6 मांगों पर बनी सहमति

1. वेतन बढ़ोतरी बारे- आशा को मिलने वाले फिक्स वेतन 1000 रुपये में 3000 रुपये की अतिरिक्त बढ़ोतरी की है। प्रत्येक आशा को अब 4000 रुपये प्रतिमाह फिक्स मिलेंगे। प्रत्येक आशा को कम से कम 5000 रुपये के लगभग अतिरिक्त मिलेंगे।

2. आशा फेसिलिटेटर बारे- आशा फेसिलिटेटर का केस हाई कोर्ट में चल रहा है जिस पर स्टे मिला है। विभाग ने कहा है कि हम लगी हुई सभी फेसिलिटेटर को कार्य पर रखेंगे व केस वापस होगा।

3. स्मार्टफोन/टेबलेट देने बारे- सभी आशा वर्कर्स को एंड्रॉयड फोन दिए जाएंगे इसका प्रस्ताव जल्द तैयार कर बजट अप्रूवल करवाया जाएगा।

4. अलमारी ओर रजिस्टर देने बारे- इसे विभाग ने स्वीकार कर लिया है।

5. दुर्घटना में घायल, मृत्यु व बीमा-दुर्घटना में घायल होने व मृत्यु होने की स्थिति में मुआवजे का जो प्रावधान एनएच एम के अन्य कर्मियों के लिए किया गया है आशा को भी वही लाभ मिलेगा। सभी आशाओं को बीमा योजना के दायरे में लाने की पॉलिसी बनेगी।

6. एएनएम व स्टाफ नर्स की भर्ती में आशाओं को वेटेज दी जाएगी

यूनियन की मांगें माने जाने पर नाच गाकर खुशी मनातीं आशा वर्कर्स।

ये थीं प्रमुख मांगें

न्यूनतम वेतन 24 हजार प्रतिमाह दिया जाए।

सरकारी कर्मचारी की तरह पेंशन व भत्ते दिए जाए।

डिलीवरी केस के इंसेटिव बढ़ाए जाए।

एएनएम की भर्ती में टेज दी जाए।

फेसिलिटेटर की खाली पदों को भरा जाए।

1

2

3

4

5

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhiwani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×