भिवानी

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Bhiwani
  • दो लोगों की जान गई; आपराधिक मामला बनता है मौत के लिए जिम्मेदारों पर होगी कार्रवाई: सिटीएम
--Advertisement--

दो लोगों की जान गई; आपराधिक मामला बनता है मौत के लिए जिम्मेदारों पर होगी कार्रवाई: सिटीएम

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 02:00 AM IST

मुकेश की तीन साल की बच्ची हुई अनाथ

भास्कर न्यूज | भिवानी

नए बस स्टैंड के पीछे सड़क के साथ लगती सीवर लाइन को साफ करते वक्त ठेकेदार के दो कारिंदों की मौत हो गई। दाेनों बिना सुरक्षा किट के ही सीवर में उतरे थे। इस लापरवाही के जिम्मेदार अधिकारी हैं या ठेकेदार यह जांच का विषय है। उधर, सिटीएम ने कहा कि ठेकेदार पर तो आपराधिक मामला बनता ही है। बुधवार को विभाग के अधिकारियोें को भी बुलाया गया है। मामले की सही तरह से जांच के बाद मौत के जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इतना जरूर है कि को भी अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकता।

मंगलवार को हुए हादसे के बाद सीवरमैन मुकेश की मौत से जहां उसकी तीन साल की बच्ची अनाथ हो गई, वहीं राजेश की मौत से उसकी दो लड़कियों व बेटे के सिर से बाप का साया उठ गया। इसके लिए जिम्मेदार कोई नहीं बल्कि विभागीय ठेकेदार व कुछ हद तक विभागीय अधिकारियों की जिम्मेदारी भी बनती है। घटना के समय न तो विभागीय अधिकारी थे व न ही ठेकेदार। अधिकारी होते तो दोनों ही बिना सुरक्षा किट के नही उतरते। घटना के समय दोनों सीवरमैन के मैनहोल में जाने से जब पास की फैक्ट्री में काम कर रहे श्रीभगवान ने बस स्टैंड मेें पहुंचकर रोडवेज कर्मचारियोें को घटना की जानकारी दी। इससे रोडवेज कर्मचारी मैनहोल के पास पहुंचे और उन्होंने इसकी जानकारी एंबुलेंस सेवा व जनस्वास्थ्य विभाग में अधिकारियों को दी। अब सवाल उठता है कि उनके पास ठेकेदार या कोई अधिकारी होता तो दुर्घटना होने से बच जाती।

सूचना पर मृतक के परिजन घटना स्थल पर पहुंचे। मृतक मुकेश के पिता सुरेश व चाचा राकेश ने इसके लिए सीधे ठेकेदार व विभागीय अधिकारियों को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि ठेकेदार व अधिकारी होते तो ऐसी घटना नहीं होती। अन्य मृतक राजेश के परिजनों काे भी यही कहना था। कमेटी मोहल्ला निवासी मुकेश के एक साल की बच्ची है। उसकी प|ी की पहले ही मौत हो चुकी है। मुकेश की मौत से बच्ची अनाथ हो गई। नेहरू कॉलोनी निवासी राजेश के दो लड़कियां व एक लड़का है। उधर इस घटना के बाद न तो जेई का फोन मिला व न ही कार्यकारी अभियंता का। ठेकेदार भी आस पास नहीं था। एसडीओ जिस पर भिवानी का अतिरिक्त कार्यभार है ने कहा कि सुरक्षा किट उपलब्ध है। यह ठेकेदार की जिम्मेदारी होती है कि वह सीवर मैन को सीवर लाइन में बिना सुरक्षा किट के कैसे उतरने देता है।

X
Click to listen..