Hindi News »Haryana »Bilaspur» 13 वर्षीय रीना बोली; मां-बाप खाेने के बाद इकलौता भाई था सहारा, वह भी न रहा

13 वर्षीय रीना बोली; मां-बाप खाेने के बाद इकलौता भाई था सहारा, वह भी न रहा

नारायणगढ़ के गधौली गांव के निकट सड़क हादसे में दो ममेरे भाइयों की मौत ने दो घरों के चिराग तो बुझाए ही, साथ ही 13...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 08, 2018, 02:05 AM IST

13 वर्षीय रीना बोली; मां-बाप खाेने के बाद इकलौता भाई था सहारा, वह भी न रहा
नारायणगढ़ के गधौली गांव के निकट सड़क हादसे में दो ममेरे भाइयों की मौत ने दो घरों के चिराग तो बुझाए ही, साथ ही 13 वर्षीय रीना से सिर से भाई लवली का साया भी छीन लिया। रीना के माता-पिता की पांच साल पहले बीमारी से मौत चुकी। अब दोनों भाई बहन अपने मामा के घर बिलासपुर में रहे रहे थे। रीना ने बताया कि माता-पिता की मौत के बाद भाई ही उसका सहारा था। रीना कस्बे के सरकारी स्कूल में छठी कक्षा में पढ़ती है। लवली कुरुक्षेत्र जिले के शाहबाद के मलिकपुर गांव का रहने वाला था। उसके चाचा जयपाल ने बताया कि रीना की मां अंग्रेजो की मृत्यु छह साल पहले बीमारी के कारण हो गई थी। मां की मौत से अभी बच्चे संभले भी नहीं थे कि पिता मदनलाल भी चल बसे। रीना को बस अब बड़े भाई लवली का ही सहारा था। भाई लवली अपनी बहन को लेकर बिलासपुर अपने मामा के घर आ गया था। लेकिन उनकी बदनसीबी ने उनका यहां भी पीछा नहीं छोड़ा।

लवली का फाइल फोटो।

शाहाबाद के गांव मलिकपुर के रहने वाले लवली व रीना अब रह रहे थे मामा के पास

तरसेम तीन बहनों का इकलौता भाई था

17 वर्षीय तरसेम तीन बहनों का इकलौता भाई थी। तरसेम कस्बे के प्राइवेट स्कूल में दसवीं का छात्र था। पिता जंगशेर रिक्शा चलाते हैं। उसकी तीन छोटी बहनें हैं। पिता जंगशेर का कहना है कि उसका परिवार ही उजड़ गया। उन्हें तो यह था कि बेटा पढ़कर लिखकर कुछ काम करेगा और परिवार चलाएगा, लेकिन जिंदगी ने उसे धोखा दे दिया। अपने बेटे तरसेम के साथ-साथ उसे बहन के बेटे लवली की मौत का भी दुख है। क्योंकि उसके बेटे की जिम्मेदारी भी उसी पर थी। वह दोनों ही उसके दो हाथ थे, जो अब नहीं रहे।

तरसेम का फाइल फोटो।

शादी समारोह में गए थे

बता दें लवली और तरसेम दोनों ही शादी समारोह में गए थे। नारायणगढ़ के गधौली गांव के निकट सड़क हादसे में दो ममेरे भाइयों समेत तीन युवकों की मौत हो गई। अलसुबह तीनों भाई रिश्तेदार की कार में सवार होकर बिलासपुर आ रहे थे। मारकंडा मोड पर उनकी कार ट्रक से टकरा गई। हादसे में बिलासपुर निवासी 17 वर्षीय तरसेम, 21 वर्षीय लवली समेत डेराबस्सी निवासी कुलविंद्र की मौत हो गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bilaspur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 13 वर्षीय रीना बोली; मां-बाप खाेने के बाद इकलौता भाई था सहारा, वह भी न रहा
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×