Hindi News »Haryana »Bilaspur» सरकार की नीतियों के कारण बर्बादी की कगार पर पहुंच गया किसान: गुंदियाना

सरकार की नीतियों के कारण बर्बादी की कगार पर पहुंच गया किसान: गुंदियाना

किसानों की मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने 23 फरवरी को दिल्ली घेराव का ऐलान कर दिया है। इस आंदोलन के माध्यम से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 17, 2018, 02:10 AM IST

किसानों की मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने 23 फरवरी को दिल्ली घेराव का ऐलान कर दिया है। इस आंदोलन के माध्यम से भाकियू किसानों की मांगों के प्रति केंद्र व प्रदेश सरकार को चेताने का प्रयास करेगी। केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार ने किसानों को केवल वोट बैंक के लिए इस्तेमाल किया है।

किसानों की दुर्दशा के बारे किसी को चिंता नही। भाकियू के प्रदेश संयोजक बाबू राम गुंदियाना ने रामखेड़ी गांव में आयोजित किसानों की जनसभा के दौरान व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि इस बार आर-पार की लड़ाई के लिए आंदोलन शुरू किया जाएगा। भाकियू वर्षों से किसानों के उत्थान के लिए स्वामी नाथन रिपोर्ट लागू करने, फसल बीमा को सही कंपनी के माध्यम से लागू करवाने, किसानों को पेंशन देने, किसानों के ऋण माफ करने, फसलों के लागत के बराबर मूल्य देने समेत अनेक मांगों को पूरा करवाने के लिए संघर्ष कर रही है। लेकिन हर बार सरकार केवल बातचीत का बहाना बना कर आश्वासन देकर टाल देती है। उन्होंने खंड के संखेड़ा, चंगनौली, रामखेड़ी, चाऊवाला, टेहा ब्राह्मण, टेही, जुड्डा जट्टान, पीरूवाला समेत अनेक गांवों का दौरा कर लोगों को दिल्ली पहुंच कर आंदोलन को सफल् बनाने की अपील की। मौके पर प्रदेश प्रभारी राकेश बैंस, जिला प्रधान संजू गुंदियाना, ब्लाक प्रधान राजिंद्र सिंह, करनैल सिंह, समेत अन्य किसान व नेता उपस्थित रहे।

बिलासपुर| भाकियू के सदस्यों ने रामखेड़ी गांव में बैठक कर बनाई रणनीति।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bilaspur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: srkar ki nitiyon ke karn brbaadi ki kgaaar par phunch gaya kisaan: gaundiyaanaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×