• Home
  • Haryana News
  • Bilaspur
  • थर्मल पॉवर से रामपुर कांबोयान के पॉवर हाउस तक लाइन बिछाने का काम किसानों ने रोका
--Advertisement--

थर्मल पॉवर से रामपुर कांबोयान के पॉवर हाउस तक लाइन बिछाने का काम किसानों ने रोका

दीनबंधु सर छोटूराम थर्मल पॉवर यमुनानगर से घाड़ के रामपुर कांबोयान पॉवर हाउस तक बिछने वाली 220 केवी लाइन के विरोध में...

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 02:10 AM IST
दीनबंधु सर छोटूराम थर्मल पॉवर यमुनानगर से घाड़ के रामपुर कांबोयान पॉवर हाउस तक बिछने वाली 220 केवी लाइन के विरोध में कई गांवों के किसान लामबंद हो गए हैं। किसानों ने भाकियू पदाधिकारियों के साथ मिलकर काम रोक दिया। भाकियू का कहना है कि पहले नुकसान का मुआवजा दो फिर लाइन बिछने दी जाएगी।

किसान नेता कांशी राम पीरूवाला, चरण सिंह जट्टपुरा, जसबीर सिंह चौराही, विश्वास शर्मा ककड़ौनी, कुलवंत सिंह धर्मकोट, गुरमीत सिंह मुजाफत, अजमेर सिंह, तेजिंद्र सिंह, सर्वजीत सिंह, मान सिंह, करनैल सिंह नगली, अवतार सिंह, मंदीप सिंह, मनिंद्र सिंह व कुलवंत सिंह ने इस समस्या को लेकर पीडब्ल्यूडी रेस्ट में आए निगम के एसडीओ नितिन कांबोज से मिलने पहुंच गए। कांशीराम पीरूवाला व चरण सिंह जट्टपुरा ने एसडीओ को बताया कि यह लाइन बिछाने का सही समय नहींं है। लोगों के खेतों में गेहूं व सरसों की अधपकी फसलें खड़ी हैं। जिससे खेतों में लाइन बिछाने का कार्य किया तो किसानों की मेहनत बर्बाद हो जाएगी। उनका कहना था कि अप्रैल में फसल कट जाएगी। इसके बावजूद भी यदि निगम व सरकार लाइन बिछाने का काम शुरू करते हैं तो सरकार पहले किसानों को खेतों में खड़ी फसल का मुआवजा एक सप्ताह के अंदर-अंदर दे। फिर काम शुरू करें। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि निगम अधिकारियों व ठेकेदार ने किसानों के साथ जोर जबरदस्ती की तो भाकियू किसानों के समर्थन में उतरकर बिजली कर्मियों को बंधक बनाएगी। किसी भी हालत में किसी को किसान की मेहनत रौंदने की इजाजत नही दी जाएगी। किसानों ने निगम अधिकारियों को चार दिन का अल्टीमेटम दिया। 68 खंभे लगने है खेतों में : किसान नेता चरण सिंह जट्टपुरा ने बताया कि इस लाइन के लिए 68 खंभों पर तारें लगानी है। उनका कहना है कि एक पोल पर तारें बिछाने से कम से कम आधा एकड़ फसल बर्बाद होती है। तार बिछाने से बीहटा, संधाय, भमनौली, मुजाफत, रामपुर कांबोयान, रामपुर हेडिय़ान व छलौर गांव के किसानों को नुकसान होगा। उनकी मांग है कि सरकार प्रति एकड़ 25 हजार रुपए मुआवजा दे या फिर फसल कटने के बाद लाइन बिछाए। उधर, बिजली वितरण निगम के एसडीओ नितिन कांबोज का कहना है कि किसानों की मांग जायज है। शीघ्र ही निगम के उच्चाधिकारियों को किसानों की समस्या से अवगत करवाया जाएगा। उन्हें जैसे ही उच्चाधिकारियों के आदेश मिलेंगे उसके अनुसार कार्य किया जाएगा।

बिलासपुर | पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में एसडीओ से बात करते भाकियू नेता।