--Advertisement--

श्रीराम ने सदाचार युक्त शासन किया: श्यामानंद

हम सब भगवान के मंदिर में जाकर उनके अवतार स्वरूप केे समक्ष धूप, दीप जला कर, फल-फूल आदि अर्पित कर पूजा करते हैं। इसके...

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2018, 02:20 AM IST
श्रीराम ने सदाचार युक्त शासन किया: श्यामानंद
हम सब भगवान के मंदिर में जाकर उनके अवतार स्वरूप केे समक्ष धूप, दीप जला कर, फल-फूल आदि अर्पित कर पूजा करते हैं। इसके साथ-साथ चिंतन मन से भी भगवान की पूजा करना अनिवार्य है। श्रीमद भागवत पुराण सामान्य ग्रंथ या साधारण पुस्तक नहीं है। यह भगवान का ही वागमय स्वरूप व मूर्ति है। उक्त विचार खेड़ा मंदिर वेद व्यास सरोवर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के दौरान कथा वाचक स्वामी श्यामानंद महाराज ने व्यक्त किए। श्री कृष्ण कृपा सेवा समिति के तत्वावधान में भागवत कथा सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। कथा के चौथे दिन प्रवीन सिंगला व श्री राधा कृष्ण सेवा मंडल के पदाधिकारी यजमान के रूप में उपस्थित रहे।

स्वामी श्यामानंद ने कहा कि भगवान अपने से बड़ा स्थान अपने भक्त को देते है। मनुष्य को सदैव अहंकार व परनिंदा से बचाना चाहिए। श्रीराम का जीवन प्रसंग सुनाते हुए कहा कि जीवन में मर्यादा होनी चाहिए क्योंकि भगवान श्रीराम भी एक मर्यादा पुरुष थे। भगवान राम को उनके सुख समृद्धि पूर्ण व सदाचार युक्त शासन के लिए याद किया जाता है। उन्हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। भगवान श्री राम जीव मात्र के कल्याण के लिए अवतरित हुए थे। वे हिंदू धर्म के परम पूज्य हैं। श्री राम आदर्श पुत्र, आदर्श भ्राता, आदर्श पति, आदर्श मित्र, आदर्श स्वामी, आदर्श वीर, आदर्श देश सेवक होने के साथ-साथ ही परमात्मा थे। आकर अपनी संस्कृति से विमुख हो रहा है। जो कि मानव जाति के कल्याण के लिए उचित नहीं है। इस मौके पर सतीश चुघ, हरीश मेहंदीरता, सुभाष गौड़, अशोक झाम, महिंद्र गांधी, राजू वर्मा उपस्थित रहे।

बिलासपुर | खेड़ा मंदिर में श्रीमद भागवत कथा में मौजूद श्रद्धालुओं को प्रवचन करते कथा वाचक।

X
श्रीराम ने सदाचार युक्त शासन किया: श्यामानंद
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..