• Home
  • Haryana News
  • Bilaspur
  • मारवा कलां में एससी चौपाल पर ताला, डीएसपी ले गए थे चाबी, लोग बोले-िसयासी दवाब में कार्रवाई
--Advertisement--

मारवा कलां में एससी चौपाल पर ताला, डीएसपी ले गए थे चाबी, लोग बोले-िसयासी दवाब में कार्रवाई

मारवा कलां गांव में एससी चौपाल पर ताला लगाने की वजह से दो समुदाय आमने-सामने हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि अगड़े...

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 04:10 AM IST
मारवा कलां गांव में एससी चौपाल पर ताला लगाने की वजह से दो समुदाय आमने-सामने हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि अगड़े समुदाय के इशारे पर डीएसपी खुद चौपाल पर ताला लगाकर चाबी साथ ले गए हैं। उधर डीएसपी ने चौपाल में निर्माण कार्य पर अदालत से स्टे होने की बात कही है। इस मामले को लेकर अब ग्रामीणों ने नेशनल एससी कमीशन को भी शिकायत भेजी है। साथ ही सुरक्षा को लेकर एसपी से भी गुहार लगाई है।

ताले की वजह से बढ़ा विवाद: गुरु रविदास मंदिर कमेटी के प्रधान अमीचंद ने बताया कि 2014 में तत्कालीन पंचायत ने गांव में एससी चौपाल का निर्माण करवाया था। 28 अप्रैल 2017 को अगड़ी जाति के लोग जबरन चौपाल में घुस आए थे। तब इन लोगों ने निशान साहिब उखाड़कर चौपाल पर ताला लगा दिया था। कुछ लोगों के साथ मारपीट कर उन्हें जातिगत शब्द भी कहे थे। बाद में बड़ी मुश्किल से पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मारपीट व धमकाने की धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। सिर्फ चार लोगों को पकड़कर बाकी सभी को रिहा कर दिया। अमीचंद ने बताया कि इसके बाद कई बार निशान साहिब से छेड़छाड़ की कोशिश हुई। पुलिस को कई बार शिकायत दी पर कार्रवाई नहीं हुई।

यमुनानगर| एससी चौपाल पर लगा ताला।

31 को हाेना है कार्यक्रम

अमीचंद ने बताया कि कुछ समय पहले ही डीएसपी रणधीर सिंह ने एससी चौपाल पर ताला लगवा दिया था। तब वे चाबी साथ ले गए। चौपाल पर स्टे होने की बात कहकर वे चाबी देने से भी इंकार कर रहे हैं। गांव के चंद्रमोहन, बलबीर सिंह, रघुवीर सिंह व संदीप सिंह ने बताया कि 31 जनवरी को गांव में रविदास जयंती समारोह है। ऐसे में चौपाल पर ताला लगे होने से उन्हें दिक्कत हो रही है। इनका आरोप है कि दूसरा पक्ष भी उन्हें धमकियां दे रहा है। एसपी को शिकायत देकर सुरक्षा की गुहार लगाई है।


खोला जाए ताला : कांहड़ी

मामले की पैरवी कर रहे समाजसेवी सुरेश कांहड़ी ने तुरंत ताला खोलने की मांग की है। कांहड़ी ने कहा कि चौपाल में निर्माण करने पर स्टे है। जबकि पुलिस ने दूसरे पक्ष के दबाव में चौपाल पर ताला लगा दिया। डीएसपी को ताला लगवाने की बजाय पहले खुद मामले की जांच करनी चाहिए। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों के साथ वे जल्द ही एसपी से मुलाकात करेंगे। आरोप लगाया कि सियासी दबाव में पुलिस काम कर रही है।