--Advertisement--

बुराइयाें का समाधान ब्रह्मज्ञान से संभव: भारती

समाजमेंजितनी भी बुराइयां है उनका समाधान ब्रह्मज्ञान द्वारा हो सकता है। बुराई सबसे पहले मानव मन के अंतर में प्रकट...

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 05:30 AM IST
समाजमेंजितनी भी बुराइयां है उनका समाधान ब्रह्मज्ञान द्वारा हो सकता है। बुराई सबसे पहले मानव मन के अंतर में प्रकट होती है। फिर वही मन की गंदगी बाहर निकल कर समाज को गंदा करती है। आज मानव आंतरिक तौर पर काफी गिर चुका है। उसका मन विकृत हो चुका है। जब तक मन का सुधार या परिवर्तन नही होता तब तक कुछ नही हो सकता। उक्त विचार दिव्य ज्येाति जागृति संस्थान की ओर से वेद व्यास भवन में चल रही शिव कथा के दौरान आशुतोष महाराज की शिष्या कथाव्यास साध्वी भद्रा भारती ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि मन के सुधार का उपाय केवल ब्रह्राज्ञान ही है। भाव ईश्वर का साक्षात्कार घट में कर लेना जब अतंर घट में ईश्वरीय प्रकाश का प्रकटीकरण होता है तब अज्ञानता का अंधकार समाप्त हो जाता है। मानव देवभक्त को प्राप्त कर लेता है। उन्होंने कहा कि ब्रह्मज्ञान केवल पूर्ण संत ही प्राप्त कर सकते है। इसलिए मुनष्य को संत प्रवृत्ति रखते हुए ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति के लिए प्रयासरत रहना चाहिए। यह सब सतगुरू की कृपा से संभव हो सकता है। मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे।

बिलासपुर | कथासुनातीं साध्वी भद्रा भारती श्रवण करते श्रद्धालुगण।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..