Hindi News »Haryana »Bilaspur» बिलासपुर, छछरौली-मुस्तफाबाद के खाद्य आपूर्ति विभाग कार्यालय बंद, लोग बोले-उपमंडल स्तर पर बने

बिलासपुर, छछरौली-मुस्तफाबाद के खाद्य आपूर्ति विभाग कार्यालय बंद, लोग बोले-उपमंडल स्तर पर बने

खाद्य आपूर्ति विभाग के नए आदेश बिलासपुर उपमंडल के लोगों को रास नहीं आ रहे हैं। नए आदेशानुसार जिला मुख्यालय के 20...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 14, 2018, 02:10 AM IST

खाद्य आपूर्ति विभाग के नए आदेश बिलासपुर उपमंडल के लोगों को रास नहीं आ रहे हैं। नए आदेशानुसार जिला मुख्यालय के 20 किलोमीटर के दायरे में स्थित सभी खाद्य आपूर्ति निरीक्षक कार्यालय बंद कर एक स्थान पर बना दिए गए हैं। विभाग के इस आदेश से बिलासपुर, छछरौली, खिजराबाद व मुस्तफाबाद के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विभाग ने इन कस्बों के खाद्य आपूर्ति कार्यालय बंद कर गुलाबनगर जगाधरी में कार्यालय खोल दिया है। रणजीतपुर, धनौरा व नगली जैसे गांवों के लोगों को 30 से 35 किलोमीटर का सफर तय कर राशन कार्ड संबंधी कार्यों के लिए गुलाबनगर के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। इससे लोगों के धन व समय दोनों की बर्बादी हो रही है। क्षेत्रवासी नरेंद्र सिंह, गुरदेव भील छप्पर, नंबरदार राहुल राणा, गुरदयाल सिंह मौहड़ी, राजकुमार कांबोज, राजबीर मछरौली, सतपाल अग्रवाल, मनोज शर्मा, गुरनाम सिंह आदि का कहना है बिलासपुर सबडिवीजन है। यहां सभी विभागों के हेडक्वार्टर होने चाहिए। ऐसे में अकेले खाद्य आपूर्ति विभाग के कार्यालय को गुलाबनगर बनाने का कोई औचित्य नहीं । यहां डिपोधारकों को भी आए दिन आना जाना पड़ता है। जिससे उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विभाग के आदेश पर हुए बंद

इस बाबत खाद्य आपूर्ति विभाग के निरीक्षक बालक राम का कहना है कि विभाग के आदेशानुसार ही ये कार्यालय बंद करने पड़े। वे स्वयं गुलाबनगर स्थित कार्यालय में ड्यूटी पर तैनात है। डिपो होल्डर्स व उपभोक्ताओं का हर कार्य प्राथमिकता से निपटाया जाता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bilaspur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: बिलासपुर, छछरौली-मुस्तफाबाद के खाद्य आपूर्ति विभाग कार्यालय बंद, लोग बोले-उपमंडल स्तर पर बने
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×